web analytics
Sun. Sep 25th, 2022
pudina ke fayde

पुदीने के फायदे और नुक्सान (pudina ke fayde) – पुदीने का नाम तो सभी जानते ही है, पुदीने का इस्तेमाल सबसे ज्यादा चटनी बनाने के लिए किया जाता है| शायद ही कोई इंसान हो जिसे पुदीने की चटनी पसंद ना हो, पुदीना हमारे शरीर के लिए भी बहुत ज्यादा लाभकारी होता है| लेकिन कया आप जानते है की प्राचीन समय से पुदीने का इस्तेमाल औषधि के रूप में भी किया जाता है, आज के समय में पुदीने का उपयोग (pudina benefits in hindi) दंत मंजन, चुइंगगम्स, माउथ फ्रेशनर और इन्हेलर इत्यादि का निर्माण करने में किया जाता है। पुदीने हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होने के साथ साथ कई सारी बीमारियो का इलाज करने में किया जाता है|

पुदीने का सेवन तो लगभग सभी लोग करते है लेकिन पुदीने के फायदे काफी कम इंसान जानते है| आज हम आपको अपने इस लेख में पुदीने के बारे में बताने के साथ साथ पुदीने के फायदे और नुक्सान के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है| आज के समय में काफी सारे इंसान ऐसे होते है जिन्हे पुदीने के फायदे के बारे में जानकारी नहीं होती है ऐसे इंसान इंटरनेट पर पुदीने के फायदे कया है? पुदीने के फायदे और नुक्सान कया है? Benefits of Pudina, Benefits of mint leaves, Benefits of mint इत्यादि लिखकर सर्च करते है|

Table of Contents

पुदीना क्या है? (What is Mint in Hindi?)

पुदीने के पत्ते का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है| हालाँकि पुदीने के पौधे की कई सारी प्रजातियॉ होती है, आमतौर पर पहाड़ी पुदीना या देसी पुदीना का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है| पुदीने की तासीर ठंडी होने की वजह से इसका उपयोग सबसे ज्यादा गर्मियों में किया जाता है| आयुर्वेद की माने तो पुदीने के फायदे कफ और वात दोष को कम करने में भी देखे जा सकते है, इसके अलावा पेशाब से संबंधित बीमारियां, शारीरिक कमजोरी दूर करने में, दस्त, बुखार, पेचिश, पेट के रोग और लीवर से सम्बंधित परेशानियो को दूर करने में इत्यादि को ठीक करने में पुदीने के लाभ देखे जा सकते है|

अलग अलग भाषाओं में पुदीना के नाम (Name of Mint in Different Languages)

पुदीने को इंग्लिश में मिंट लीव्स के नाम से जाना जाता है| पुदीने के पौधे का वानास्पतिक नाम (botanical name of mint) मेन्था स्पाइकेटा होता है| पुदीने को अलग अलग भाषा में अलग अलग नामो से पुकारा जाता है,चलिए अब हम आपको अलग अलग भाषाओ में पुदीने के नाम के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है 

  • Pudina Name in Sanskrit or mint leaves in Sanskrit – पूतिहा, रोचिनी
  • Pudina Name in Hindi or mint leaves in Hindi – पहाड़ी पुदीना, पुदीना;
  • Pudina Name in Gujarati or mint leaves in Gujarati – फूदीनो (Phudino)
  • Pudina Name in Telugu or mint leaves in Telugu – पुदीना
  • Pudina Name in Tamil or mint leaves in tamil – पुदीना
  • Pudina Name in Bengali or mint leaves in Bengali – पुदीना
  • Pudina Name in Nepali or mint leaves in Nepali – बावरी (Bawri);
  • Pudina Name in Punjabi or mint leaves in Punjabi – पहाड़ी पोदीना (Paharipodina);
  • Pudina Name in Marathi or mint leaves in Marathi – पुदिना (Pudina)
  • Pudina Name in English – गॉर्डेन मिंट (Garden mint),Spear mint (स्पिअर मिंट)
  • Pudina Name in Arabic or mint leaves in Arabic – फूजनज (Fujnaj)
  • Pudina Name in Persian or mint leaves in Persian – नागबो (Nagbo)।

pudina ke fayde

पुदीने के फायदे (Pudina Benefits and Uses in Hindi) | benefits of mint leaves in hindi

पुदीने का सेवन अधिकतर इंसान करते है लेकिन काफी कम इंसान पुदीने के फायदे के बारे में जानते है, चलिए अब हम आपको पुदीने के लाभ के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

बाल झड़ना रोकने में पुदीना के फायदे (Hair Loss : benefits of mint leaves)

आज के समय में बाल झड़ने की समस्या का सामना अधिकतर महिला और पुरुष कर रहे है, बाल झड़ना रोकने में पुदीने के फायदे देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व बालों के रूखेपन को कम करने के साथ साथ बालो का झड़ना या टूटना कम करने में मददगार साबित होते है|

कान दर्द से छुटकारा दिलाने में पुदीने के फायदे (Ear Pain : benefits of mint leaves in Hindi)

पुदीने के लाभ कान से सम्बंधित समस्याओं जैसे कान दर्द इत्यादि को दूर करने में भी देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय, दर्दनिवारक गुण और जरुरी पोषक तत्व कान में दर्द से छुटकारा दिलाने में सहायक होते है| अगर आपके कान में दर्द ठंड लगने की वजह से या कान में पानी चले जाने की वजह से हो रहा है तो ऐसे में पुदीना आपके लिए लाभकारी है| सबसे पहले पुदीने के पत्ते लेकर उन्हें अच्छी तरह से धोकर महीन पीस कर छान लें, फिर पुदीने के रस में से एक या दो बूँद कान में डालने से जल्द दर्द से आराम मिलता है|

सिरदर्द का इलाज करने में पुदीने के फायदे (Pudine Tea Benefit to Get Relief from Headache in Hindi)

आज के समय में सिर दर्द की परेशानी आम है, हालाँकि सर दर्द के कारण कई सारे होते है, लेकिन अगर आपके सिर में दर्द की समस्या पाचन शक्ति ख़राब होना है तो आपके लिए पुदीना लाभकारी हो सकता है| पुदीने में मौजूद गुण और तत्व पाचन को बेहतर बनाने के साथ सिर दर्द की समस्या से आराम दिलाने में सहायक होते है|

मुंह के छाले का इलाज करने में पुदीने का लाभ (Mouth Ulcer : benefits of mint leaves in Hindi)

मुंह में छाले होने पर इंसान को काफी परेशानियो का सामना करना पड़ता है, ऐसे में इंसान को कुछ भी खाने पीने में भी दिक्कत होती है| मुंह छाले का इलाज में पुदीने के फायदे देखे जा सकते है, सबसे पहले एक गिलास पानी लेकर उसे गर्म होने के लिए रख दें, फिर इस पानी में पांच या छह पुदीने के पत्ते डाल दें| जब पानी आधा रह जाएं तब गैस बंद कर दें ठंडा होने पर मिश्रण को छान लें, फिर इस पानी से गरारे करने से मुंह के छाले की समस्या से बहुत जल्द आराम मिलता है।

दांतों के दर्द से छुटकारा दलाने में पुदीना के फायदे (Toothache : benefits of mint leaves in Hindi)

किसी भी पुरुष या महिला को कभी भी दाँत दर्द की समस्या हो सकती है, दांत दर्द का इलाज करने में पुदीने के फायदे देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण (pudina ke fayde) दर्द को कम करने में सहायक होते है| पुदीने से दांत दर्द का इलाज करने के लिए सबसे पहले पुदीने के सूखे पत्ते को पीसकर चूर्ण बनाकर दांत मांज लें| जल्द ही आपको दांत दर्द की परेशानी से आराम मिलता है|

सांस की नली की सूजन कम करने में पुदीने के फायदे (Rid of Respiratory Tract Inflammation : benefits of mint leaves in Hindi)

ठंड के मौसम में सांस की नली सूजन आना आम बात है, सांस की नली में सूजन की वजह से गले में दर्द की परेशानी भी हो जाती है| सांस की नली में सूजन और गले में दर्द को कम करने में पुदीने के लाभ भी देखने को मिलते है, सबसे पहले पुदीने का काढ़ा बना लें| पुदीने का काढ़ा 10-15 मिली सेवन करने जल्द सांस की नली की सूजन कम होने के साथ साथ गले के दर्द में भी आराम मिलता है|

उल्टी से दिलाये राहत पुदीने का सेवन (Vomiting : benefits of mint leaves in Hindi)

उल्टी को रोकने में भी पुदीने के फायदे देखे जा सकते है, पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व उलटी की समस्या को समाप्त करने में मददगार होते है| अगर आप उल्टी की समस्या एसिडिटी, किसी दवा के साइड इफेक्ट की वजह से या फिर अन्य कारणों से हो रही है तो सबसे पहले पुदीने के पत्तों का काढ़ा बनाकर 10 से 20 मिलीग्राम मात्रा में पीने से जल्द उल्टी की समस्या में आराम मिलता है| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की उल्टी की समस्या होने पर डॉक्टर या वेध के परामर्श के बाद ही घरेलू नुस्खों को आजमाएं|

उबकाई की समस्या से राहत दिलाने में पुदीने के लाभ (Pudina Beneficial to Get Relief from Nausea in Hindi)

उबकाई की समस्या होने की प्रमुख वजह पाचन तंत्र ख़राब होना होता है, अगर आपको लगातार उबकाई की समस्या बनी हुई है तो पुदीना आपके लिए फायदेमंद होता है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व पाचन तंत्र स्वस्थ बनाने में मददगार होने के साथ साथ उबकाई की समस्या को समाप्त करने में मददगार साबित होते है|

पेट में दर्द से छुटकारा पाने में पुदीने के फायदे (Abdominal Disorder : benefits of mint leaves in Hindi)

आज एक समय में असंतुलित खान पान की वजह से पेट में दर्द की समस्या हो जाती है, पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व पेट दर्द से निजात दिलाने में सहायक होते है| अगर आपके पेट में दर्द जंक फ़ूड या मसालेदार खाना खाने की वजह से पेट में दर्द की समस्या हो रही है तो पुदीना का काढ़ा या पुदीना की चाय बनाकर पिलाने से जल्द पेट दर्द की समस्या में आराम मिलता है।

अस्थमा का इलाज करने में पुदीना के फायदे (Asthma : benefits of mint leaves in Hindi)

अगर आप अस्थमा की परेशानी से पीड़ित है और आप कोई घरेलू दवा ढूंढ रहे है तो पुदीना आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व अस्थमा की परेशानी को दूर करने में सहायक साबित होते है| नियमित रूप से पुदीने का सेवन करने से जल्द अस्थमा की परेशानी में आराम मिलता है, वेध या डॉक्टर की सलाह से पुदीने का सेवन करने से जल्द परिणाम दीखते है|

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम का इलाज करने पुदीने के फायदे (Irritable Bowel Syndrome : benefits of mint leaves in Hindi)

इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम की परेशानी से पीड़ित इंसान के शरीर की पाचन तंत्र की प्रक्रिया धीमी होने लगती है, पुदीने के फायदे इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम की परेशानी से राहत दिलाने में भी देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व पाचन तंत्र को बेहतर बनाने के साथ साथ इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लक्षणों को कम करने में मददगार साबित होते है| लेकिन हम आपको सलाह देते है की इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम के लक्षण दिखाई देने पर पर लापरवाही ना करें तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें|

मासिक धर्म में पुदीना के फायदे (Menstural Cramp : benefits of mint leaves in Hindi)

काफी सारी महिलाओ को मासिक धर्म में दर्द और ऐंठन यानि क्रैम्प की समस्या का सामना करना पड़ता है| कुछ मामलो में यह दर्द बहुत ज्यादा होता है हालाँकि मासिक धर्म में होने वाले दर्द का कारण वात दोष का असंतुलन होता है। पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व मासिक धर्म में होने वाले दर्द का इलाज करने में मददगार होते है|

पेशाब में दर्द और जलन को दूर करने में पुदीने के फायदे (Urinary Disorder : benefits of mint leaves in Hindi)

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में काफी सारी महिला और पुरुष पेशाब में जलन और दर्द का सामना कर रहे है, पेशाब में जलन और दर्द का इलाज करने में पुदीने के फायदे भी देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व पेशाब में जलन और दर्द को कम करने में सहायक होते है| सबसे पहले एक गिलास पानी को गर्म होने के लिए रख दें फिर इसमें थोड़े से पुदीना के पत्ते और दो या चार काली मिर्च कूट कर डाल दें, पानी को अच्छी तरह से उबाल कर गैस बंद कर दें|  ठंडा होने पर मिश्रण को छान कर उसमे थोड़ी सी मिश्री डालकर अच्छी तरह से मिलाकर चाय की तरह से सिप सिप लेकर पी लें| नियमित रूप से इस चाय का सेवन करने से जल्द पेशाब में जलन और दर्द की समस्या से आराम मिलता है|

गठिया के दर्द का इलाज करने में पुदीने के फायदे (pudina ke fayde)

अगर आप गठिया की परेशानी से पीड़ित है तो कुछ मामलो में गठिया का दर्द बहुत ज्यादा तीव्र होता है| गठिया के दर्द का इलाज करने में पुदीने के फायदे देखे जा सकते है, पुदीने में मौजूद औषधीय, दर्द निवारक गुण और जरुरी पोषक तत्व गठिया में होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मददगार साबित होते है| पुदीने से गठिया का इलाज करने के लिए सबसे पहले पुदीने के पत्तो का काढ़ा बनाकर 10 से 20 मिली. काढ़ा पीने से जल्द दर्द में आराम मिलता है|

हाथीपांव रोग में पुदीने के फायदे  (Filaria : benefits of mint leaves in Hindi)

काफी कम इंसान इस रोग के बारे में जानते है, दरसल इस रोग में पीड़ित के पैर हाथी की तरह फूल जाते है, इसीलिए इस रोग को हाथीपांव रोग कहा जाता है| इस रोग में इंसान के पैरो में दर्द की समस्या होने के साथ साथ चलने फिरने में भी बहुत ज्यादा परेशानी होती है| हाथीपांव के दर्द का इलाज करने में पुदीने के फायदे देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण हाथीपांव के दर्द से छुटकारा दिलाने में सहायक होते है, नियमित रूप से पुदीने का काढ़ा पीने से जल्द दर्द की समस्या से आराम मिलता है| हाथीपांव रोग होने पर डॉक्टर या वेध के परामर्श से घरेलू नुस्खे अपनाने से जल्द आराम मिलता है|

घाव सूखाने में पुदीने के फायदे (Ulcer : benefits of mint leaves in Hindi)

घाव को सूखने में भी पुदीने के फायदे देखे जा सकते है, दरसल में पुदीने में मौजूद गुण और जरुरी पोषक तत्व घाव को भरने में भी मददगार होते है| अगर आपके कही पर घाव हो गया है तो पुदीने के पत्तो को पीसकर पेस्ट बन लें, फिर इस लेप को घाव पर अच्छी तरह से लगाने से जल्द आराम मिलता है| घाव होने पर सबसे पहले डॉक्टर को दिखाएं और डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद पुदीने का लेप लगाने से जल्द आराम मिलता है|

त्वचा रोग में पुदीना के फायदे (Skin Disease : benefits of mint leaves in Hindi)

आमतौर पर त्वचा से सम्बंधित परेशानी जैसे रैशेज, मुंहासे या घाव होने पर त्वचा पर काले धब्बे इत्यादि का सामना अधिकतर इंसान कर रहे है| त्वचा से सम्बन्धित परेशानियो को दूर करने में भी पुदीने के फायदे (pudina ke fayde) देखे जा सकते है, सबसे पहले पुदीने के पत्ते लेकर उन्हें महीन पीस कर पेस्ट बना लें फिर इस पेस्ट को दाग धब्बो वाली जगह पर अच्छी तरह से लगा लें| लगभग 20 से 30 मिनट लगा रहने दें उसके बाद ताजे पानी से धो लें, नियमित रूप से इस लेप को करने से जल्द दाग धब्बो की परेशानी में आराम मिलता है|

बुखार में फायदेमंद पुदीने का सेवन (Fever : benefits of mint leaves in Hindi)

कुछ इंसानो में मौसम के बदलाव की वजह से बुखार आ जाता है, जिसे मौसमी बुखार भी कहा जाता है, मौसमी बुखार का इलाज करने में पुदीने के फायदे देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण और तत्व बुखार की समस्या को समाप्त करने में सहायक होते है, पुदीने के पत्तो का काढ़ा पीने से जल्द बुखार में आराम मिलता है| अगर आपको बुखार की वजह भूख कम लग रही है तो पुदीने की चटनी बनाकर सेवन करने से बुखार और बुखार की वजह से भूख कम लगने की समस्या से आराम मिलता है|

शरीर की जलन को कम करने में पुदीने के लाभ (Burning Sensation : benefits of mint leaves in Hindi)

शरीर की जलन की परेशानी किसी भी इंसान को कभी भी हो सकती है, शरीर की जलन को कम करने में पुदीने के फायदे ( pudina ke fayde) देखे जा सकते है| पुदीने में मौजूद औषधीय गुण शरीर की जलन को कम करने में मददगार होते है, अगर आप शरीर में जलन की समस्या से पीड़ित है तो पुदीने के पत्तों का काढ़ा पीने से जल्द शरीर की जलन में आराम मिलता है|

सूजन को कम करने में पुदीने के फायदे (Inflammation : benefits of mint leaves in Hindi)

अगर आपके शरीर के किसी भी अंग में सूजन की समस्या के साथ दर्द की परेशानी हो रही है तो सबसे पहले सूजन आने के कारन के बारे में जानकारी करनी चाहिए| अगर आपके शरीर के किसी हिस्से में सूजन कफ दोष के कारण हो रही है तो पुदीना आपके लिए लाभकारी ( pudina ke fayde) साबित हो सकता है| सबसे पहले सूखे पुदीने के पत्ते लेकर सिरके के साथ पीस कर पेस्ट बना लें, फिर इस लेप को सूजन वाले हिस्से में लेप करने से बहुत जल्द सूजन और सूजन से होने वाले दर्द से आराम मिलता है|

पुदीने के नुकसान – Side Effects of Peppermint in Hindi

ऊपर आपने पुदीने के फायदों के बारे में जानकारी प्राप्त की है, लेकिन जिस तरह हर चीज के फायदे है तो उसके कुछ नुक्सान भी देखने को मिलते है| पुदीने के औषधीय गुण हर किसी के लिए लाभकारी हो यह जरुरी नहीं है, चलिए अब हम आपको पुदीने के नुक्सान के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • अगर आप लो शुगर की समस्या से ग्रसित है तो आपको पुदीने का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि पुदीना ब्लड में मौजूद शुगर के लेवल को कम कर सकता है|
  • लो ब्लड प्रेशर से पीड़ित इंसान को भी पुदीने का सेवन नहीं करना चाहिए और अगर सेवन करना है तो पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर लें|
  • गर्भावस्था किसी भी महिला के लिए बेहद खास समय होता है, ऐसे में महिला के खान पान का ख़ास ख्याल रखा जाता है| गर्भावस्था में पुदीने का सेवन करने से पहले महिला चिकित्सक से परामर्श जरूर लें|
  • अगर आपकी त्वचा सेंसिटिव है तो आपको पुदीने का सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर लें| क्योंकि ऐसे इंसानो को पुदीने का सेवन करने से या पुदीने का इस्तेमाल त्वचा में करने से एलर्जी इत्यादि की परेशानी हो सकती है|
  • पुदीने का अधिक मात्रा में सेवन करने से किडनी से सम्बंधित परेशानी भी हो सकती है|

निष्कर्ष – हम आशा करते है की आपको हमारे लेख पुदीने के फायदे और नुक्सान (pudina ke fayde or nuksan) में दी गई जानकारी पसंद आई होगी, लेकिन ऊपर बताए गए नुस्खों का उपयोग डॉक्टर या वेध के परामर्श के बाद करने से जल्द आराम मिलता है| लेकिन अगर आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी से संतुष्ट नहीं है तो आप गूगल या बिंग पर पुदीने के फायदे (benefits of mint leaves in hindi) लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa