web analytics
Sun. Sep 25th, 2022
nimbu se bawaseer ka ilaj

नींबू से बवासीर का इलाज कैसे करें (nimbu se bawaseer ka ilaj) – बवासीर की परेशानी से पीड़ित इंसान परेशानी को दूर करने के लिए घरेलू उपाय सर्च करता है| नींबू के बारे में सभी इंसान भली भाँति जानते है नींबू में मौजूद गुण और पोषक तत्व हमारे शरीर के लिए लाभकारी साबित होते है| नींबू में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो पाचन तंत्र के लिए भी फायदेमंद साबित होता है गर्मी में नींबू पानी या शिकंजी का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है क्योंकि नींबू गर्मी में लू लगने जैसी समस्याओ से बचाता है| लेकिन कया आप जानते है की नींबू से बवासीर का इलाज भी हो सकता है अगर आप इस उपाय के बारे में नहीं जानते है तो परेशान ना हो हम अपने इस पेज में आपको नींबू से बवासीर का इलाज कैसे किया जाता है इसके बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है|

जिन इंसानो को यह नहीं पता होता है की नींबू से बवासीर का इलाज कैसे किया जाता है वो इंटरनेट का सहारा लेते हैऐसे इंसान इंटरनेट पर नींबू से बवासीर का इलाज, नींबू से पाइल्स का इलाज, नींबू से बवासीर का इलाज बताओ, नींबू से बवासीर का इलाज कैसे करें?, नींबू से बवासीर का इलाज कैसे किया जाता है? दूध और नींबू से बवासीर का इलाज, बवासीर में नींबू के फायदे, nimbu se bawaseer ka ilaj, nimbu se bawaseer ka ilaj kaise karen, nimbu se piles ka ilaj, milk or nimbu se bawaseer ka ilaj इत्यादि लिखकर सर्च करते है|

यह तो हम सभी जानते ही है की नींबू औषधीय गुणों से भरपूर होता है, बवासीर की परेशानी से आराम दिलाने के लिए अब हम आपको नींबू के कुछ उपाय बता रहे है जिन्हे अपनाकर आप आसानी से बवासीर की परेशानी में आराम प्राप्त कर सकते है|

nimbu se bawaseer ka ilaj

नींबू से बवासीर का इलाज | nimbu se bawaseer ka ilaj | नींबू से पाइल्स का इलाज

अगर आप बवासीर की परेशानी से पीड़ित है और आप नींबू से बवासीर (पाइल्स )का इलाज करना चाहते है तो आप नींबू के निम्न उपाय अपनाकर बवासीर या पाइल्स की परेशानी से राहत प्राप्त कर सकते है –

दूध और नींबू से बवासीर का इलाज

दूध और नींबू से बवासीर का इलाज करने का उपाय सबसे ज्यादा प्रचलित है, अधिकतर इंसान बवासीर की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए दूध और नींबू से बवासीर का इलाज करते है| शायद अब आप सोच रहे होंगे की बवासीर में दूध पीने को मना किया जाता है तो हम आपको बता दें की यह बात सच है की बवासीर में दूध नहीं पीना चाहिए, लेकिन दूध का सेवन नींबू के साथ करना फायदेमंद होता है|

अगर आपको यह नहीं पता है की दूध और नींबू से बवासीर का इलाज कैसे करते है तो परेशान ना हो अब हम आपको दूध और नींबू से बवासीर का इलाज करने का तरीका बताते है| यह तो हम सभी को पता है की दूध और नींबू में औषधीय गुण और पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में होते है, बवासीर का इलाज करने के लिए सबसे पहले एक गिलास गुनगुना दूध लें लें, फिर इसमें आधे कटे हुए नींबू का रस डालकर तुरंत पी जाएं, दूध और नींबू मिले मिश्रण को पीने में देर ना करें|

दूध और नींबू मिला मिश्रण जब आप तुरंत पी जाते है तो दूध पेट में जाकर फटता है और फाटे हुए दूध में मौजूद पोषक तत्व कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक होते है और इससे बवासीर की परेशानी में भी राहत मिलती है| हालाँकि दूध और नींबू से बवासीर का इलाज करने के इस उपाय को अधिक मात्रा में पीने से आपको नुक्सान हो सकता है, इसीलिए उचित मात्रा में ही सेवन करें| उचित मात्रा की जानकारी के लिए आप डॉक्टर से सलाह ले सकते है|

नींबू के रस से पाइल्स का इलाज

नींबू में मौजूद औषधीय गुण भी बवासीर की परेशानी में आराम दिलाने में सहायक साबित होते है, नींबू का रस बवासीर में के दर्द और सूजन को कम करने में मददगार साबित हो सकता है| सबसे पहले आधे या एक नींबू के रस को काट कर निचोड़कर उसका रस निकाल लें, रस में से बीज निकाल दें| फिर रुई की मदद से गुदा या बवासीर के मस्सो पर नींबू का रस लगाने से जल्द दर्द और सूजन से आराम मिलता है|

कत्था और नींबू से बवासीर का इलाज

कत्थे का इस्तेमाल ज्यादातर पान में लगाने के लिए किया जाता है, पान खाने के शौकीन तो बहुत लोग होते है लेकिन उन्हें यह नहीं पता होता है कत्था कई सारी परेशानियो को दूर करने में भी काम आता है, काफी कम लोग जानते है की कत्था बवासीर से आराम दिलाने में भी सहायक है| सबसे पहले थोड़ा सा कत्था पॉउडर लें लें, फिर एक नींबू उसे बीच में काट कर दो टुकड़ें कर लें, फिर इन कटे हुए नींबू के दोनों टुकड़ो पर थोड़ा थोड़ा कत्था पॉउडर छिड़क दें, फिर इन कटे हुए नींबू के टुकड़ो को रात भर के लिए ऐसे ही रख दें| फिर अगली सुबह इनका सेवन करने से जल्द बवासीर की परेशानी में आराम मिलता है|

अदरक और नींबू से बवासीर का इलाज

अगर आपको यह नहीं पता है की अदरक और नींबू से पाइल्स का इलाज कैसे किया जाता है तो हम आपको बताते है अदरक और नींबू से पाइल्स का इलाज कैसे करते है| अदरक और नींबू में मौजूद औषधीय गुण बवासीर की परेशानी को समाप्त करने में सहायक साबित हो सकते है, इस उपाय को करने के लिए सबसे पहले अदरक को महीन पीस लें, फिर अदरक के पीसे हुए पेस्ट को छान कर रस निकाल लें|

फिर एक चम्मच अदरक का रस और दो चम्मच नींबू का रस लेकर दोनों को अच्छी तरह से मिलकर पी लें| इस उपाय को नियमित रूप से सुबह, दोपहर और शाम को करने से बहुत जल्द बवासीर की परेशानी से आराम मिलता है|

नींबू पानी से करें बवासीर का इलाज

गर्मियों में नींबू पानी पीना सभी को पसंद होता है, नींबू पानी स्वादिष्ट होने के साथ साथ हमे गर्मी से बचाने में अहम् रोल निभाता है| नींबू पानी हमारे पेट के लिए लाभकारी होने के साथ साथ बवासीर की परेशानी में आराम दिलाने में सहायक होता है| नियमित रूप से एक गिलास नींबू पानी पीने से बवासीर की परेशानी में आराम मिलता है आप चाहे तो नींबू पानी में स्वादनुसार सेंधा नमक भी डाल सकते है|

सेंधा नमक और नींबू से बवासीर का इलाज

सेंधा नमक बहुत ज्यादा लाभकारी होता है, सेंधा नमक का इस्तेमाल अधिकतर इंसान व्रतों में करते है लेकिन आजकल काफी सारे घरो में सेंधा नमक के गुणों को देखते हुए खाने में भी सेंधा नमक का इस्तेमाल करने लगे है| लेकिन कया आप जानते है की सेंधा और नमक और नींबू से पाइल्स का इलाज हो सकता है| सेंधा नमक और नींबू से खुनी बवासीर का इलाज भी किया जा सकता है, इस उपाय को करने के लिए सबसे पहले आधा कटा हुआ नींबू लेकर उसके ऊपर चुटकी भर सेंधा नमक डालकर चाटने से जल्द आराम मिलता है| नियमित रूप से दिन में एक बार इस उपाय को करने से खुनी बवासीर की परेशानी में जल्द आराम मिलता है|

शहद और नींबू से बवासीर का इलाज

शहद हमारे शरीर के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी माना जाता है, लेकिन काफी कम इंसान जानते है की शहद बवासीर में होने वाली जलन, दर्द और सूजन को भी कम करने में सहायक होता है| शहद और नींबू से आप बवासीर के मस्सो का इलाज कर सकते है, अगर आप बवासीर के मस्सो की परेशानी से पीड़ित है तो यह घरेलू उपाय आपके लिए काफी लाभकारी साबित हो सकता है| एक चम्मच शहद और दो चम्मच नींबू का रस लेकर दोनों को अच्छी तरह से मिलकर रात को खाना खाने के कुछ देर बाद सेवन कर लें, नियमित रूप से नींबू और शहद का सेवन करने जल्द ही बवासीर के मस्सो में होने वाली खुजली, दर्द से राहत दिलाने में सहायक होते है|

बवासीर में नींबू के फायदे कौन कौन से है?

नींबू में मौजूद औषधीय गुणों की वजह से बवासीर में नींबू के अनेको फायदे है, चलिए अब हम आपको बवासीर में नींबू के कुछ फायदों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • बवासीर की परेशानी में नींबू का इस्तेमाल करने से आपको बवासीर के मस्सो में होने वाले दर्द से आराम प्राप्त होता है|
  • बवासीर की परेशानी में सूजन की समस्या होना भी आम बात है ऐसे नींबू का उपयोग करने से सूजन में भी राहत मिलती है|
  • अगर आप नींबू का इस्तेमाल करते है तो बवासीर में होने वाली जलन और खुजली में भी लाभ मिलता है|
  • नींबू में मौजूद विटामिन सी त्वचा के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होता है, बवासीर में नींबू का इस्तेमाल करने से गुदा क्षेत्र के आस पास की रक्त वाहिकाओं में सुधार लाने के साथ साथ ब्लड सर्कुलेशन भी बेहतर होता है|
  • नींबू में मौजूद गुण त्वचा में संक्रमण को फैलने से रोकने में सहायक होते है|
  • नींबू में मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में सहायक होता है और पाचन तंत्र सही होने से कब्ज की समस्या कम या खत्म हो सकती है| कब्ज से राहत मिलने पर इंसान को बवासीर की परेशानी में भी राहत मिलती है|
  • अगर कोई बवासीर से पीड़ित इंसान नींबू का इस्तेमाल करता है तो उस इंसान को मल त्याग्ने में आसानी हो जाती है या आप ऐसे भी समझ सकते है की नींबू मल को मुलायम करने में सहायक होता है|

बवासीर में नींबू के नुक्सान

ऊपर आपने बवासीर में नींबू के फायदे पड़ें लेकिन यह हम सभी जानते है की किसी भी चीज के फायदे होते है तो उसके कुछ नुक्सान भी होते है| चलिए अब हम आपको बवासीर में नींबू के नुक्सान के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • कुछ इंसानो की त्वचा बहुत ज्यादा सवेदनशील होती है ऐसे इंसान अगर त्वचा पर कुछ लगाते है तो उन्हें एलर्जी, जलन या लालिमा की परेशानी हो सकती है| अगर आप बवासीर की समस्या से पीड़ित है और आपकी त्वचा संवेदनशील है तो नींबू का इस्तेमाल करने से आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है इसीलिए बवासीर में नींबू का इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर लें|
  • नींबू में ऑक्सलेट नामक तत्व मौजूद होता है अगर शरीर में ऑक्सलेट की मात्रा ज्यादा हो जाए तो पथरी होने की सम्भावना रहती है इसीलिए नींबू का सेवन सिमित मात्रा में करना बेहद जरुरी है|
  • अगर आप पेट के अल्सर की समस्या से पीड़ित है तो नींबू आपके लिए हानिकारक हो सकता है क्योंकि नींबू में मौजूद तत्व अल्सर को बिगड़ सकते है|
  • खाली पेट नींबू का सेवन अधिक मात्रा में करने से सीने में जलन की परेशानी हो सकती है इसीलिए कम मात्रा में सेवन करना उचित होता है|
  • नींबू का अधिक एवं आपके पाचन को भी ख़राब कर सकता है|

निष्कर्ष – हम आशा करते है की आपको हमारे लेख नींबू से बवासीर का इलाज या nimbu se bawaseer ka ilaj में दी गई जानकारी पसंद आई होगी, लेकिन किसी भी कारणवश अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद नहीं आई है तो आप गूगल या बिंग पर नींबू से बवासीर का इलाज या nimbu se bawaseer ka ilaj लिखकर सर्च करके और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa