web analytics
Sun. Sep 25th, 2022

पतंजलि मस्सा की दवाई (home remedies for warts in hindi) : आज के समय मस्सों (warts in hindi) की समस्या से ग्रसित इंसानो की संख्या काफी ज्यादा हो गई है, मस्से की परेशानी पुरुष या महिला दोनों में होती है लेकिन पुरुषो के मुकाबले मस्सो की परेशानी महिलाओ में ज्यादा देखने को मिलती है| मस्से की परेशानी शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है आमतौर पर मस्से की समस्या हाथ, गर्दन, चेहरे और पैर में होती है| मस्से की समस्या संक्रमण की वजह से होती है संक्रमण होने पर इंसान के शरीर की त्वचा की बाहरी परत तेजी से बढ़ने लगती है और बाहरी परत धीरे धीरे मस्सा का रूप ले लेती है|

मस्से का इलाज करने के लिए इंसान डॉक्टर से दवा लेता है और कुछ इंसान इंटरनेट पर मस्से की दवा कौन सी है? मस्सा हटाने की दवा का नाम कया है? पतंजलि मस्सा की दवाई का नाम कया है? मस्से को जड़ से खत्म करने के उपाय कया है? मस्से को खत्म करने का रामबाण इलाज,  मस्से को हटाने के घरेलू उपाय इत्यादि लिखकर सर्च करते है| मस्से खत्म करने के घरेलू उपाय ढूंढ रहे है तो यह पेज आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है, अपने इस पेज में हम आपको मस्से के बारे में मस्सा कया है? मस्से होने के कारण, मस्सा होने के लक्षण, मस्सा जड़ से खत्म करने के घरेलू उपाय और पतंजलि मस्सा की दवाई इत्यादि की जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

Table of Contents

मस्सा कया होता है? (What is Warts in hindi ?)

शरीर के किसी भी हिस्से की त्वचा के बाहरी हिस्से में काले या लाल रंग का बड़ा सा या छोटा दाने जैसे आकार को मस्से के रूप में जाना जाता है| डॉक्टरों के अनुसार त्वचा में हयूमन पैपिलोमा वायरस (एच.पी.वी.) नामक विषाणु की वजह से मस्से की समस्या (warts in hindi) होती है| हयूमन पैपिलोमा वायरस शरीर में प्रवेश उस जगह से करता है जहाँ की त्वचा कटी या फटी हुई होती है, फिर यह वायरस बाहरी त्वचा को प्रभावित करके मस्से को उत्पन्न कर देता है|

मस्से कितने प्रकार के होते है? मस्सो के प्रकार – Types Of Warts In Hindi

शरीर की बाहरी त्वचा पर होने वाले मस्से कई प्रकार के होते है, चलिए अब हम आपको मस्सो के प्रकार के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • आम मस्से (कॉमन वार्ट्स इन हिंदी) – इस प्रकार के मस्से को आम मस्से कहा जाता है, इस प्रकार के मस्से हल्के खुरदुरे या उभरे हुए होते है और इस प्रकार के मस्से अक्सर हाथों पर उत्पन्न होते हैं।
  • चपटे मस्से (फ्लैट वार्ट्स इन हिंदी) – इस प्रकार के मस्से अन्य प्रकार के मस्सो से छोटे और मुलायम होते हैं, इस प्रकार के मस्से ऊपर से चपटे दिखाई देते है| फ्लैट वार्ट्स की समस्या अधिकतर बाहो, टांगो और चेहरे पर होती है|
  • फिलीफार्म वार्ट्स इन हिंदी – फिलीफार्म वार्ट्स की समस्या चेहरे पर देखने को मिलती है और इस प्रकार के मस्से धागों जैसे दिखाई देते हैं|
  • प्लांटर वार्ट्स इन हिंदी – इस प्रकार के मस्से अधिकतर पैरों के तलुओं में उत्पन्न होते है, शुरुआत में एक या दो मस्से होते है लेकिन धीरे धीरे यह गुच्छो का रूप ले लेते हैं और मस्सो के इस गुच्छे को मोजॉइक वार्ट्स इन हिंदी कहा जाता है|
  • पेरिंयगुअल वार्ट्स इन हिंदी – इस प्रकार के मस्से अंगुलियों और अंगूठों के नाखूनों के नीचे या नाखुनो के आस पास उत्पन्न होते है, इस प्रकार के मस्सो की सतह खुरदुरी होती है| पेरिंयगुअल वार्ट्स जिस ऊँगली या अंगूठे में होते है उस ऊँगली या अंगूठे के नाख़ून की बढ़ोतरी अन्य नाखुनो के मुकाबले कम होती है|
  • आनुवंशिक मस्से (जेनिटिक वार्ट्स इन हिंदी) – इस प्रकार के मस्से (warts in hindi) शरीर के प्रजनन अंग जैसे योनि, लिंग, गुदा और अंडकोष पर पत्पन्न होते है, इस प्रकार के मस्से चपटे, उभरे हुए, अकेले या गुच्छों इत्यादि में उत्पन्न हो सकते है| जेनिटिक वार्ट्स शारीरिक सम्बन्ध के दौरान त्वचा के संपर्क में आने से फैलते हैं।

चेहरे पर मस्से होने का कारण,  मस्सा क्यों होता है? (Causes of varts in hindi)

मस्सों के होने के पीछे कई सारे कारण हो सकते है, चलिए अब हम आपको मस्से होने के कारणों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • हयूमन पैपिलोमा वायरस (एच.पी.वी) मस्से को उत्पन्न करता है और यह संक्रमण काफी तेजी से फैलता है|
  • अगर आपके शरीर के किसी भी हिस्से की परेशानी हो गई है और आप अपने मस्सों (warts in hindi) को छूने के बाद वो ही हाथ शरीर के अन्य हिस्से को स्पर्श करते है तो मस्सो का संक्रमण उस हिस्से को भी प्रभावित कर सकता है और जिस जगह को आपने स्पर्श किया है वह पर भी मस्सा हो सकता है|
  • अगर आप किसी मस्सो की समस्या से ग्रसित इंसान के कपड़ें, तौलिया या इस्तेमाल की गई अन्य चीजों का उपयोग करने से भी आपको मस्से की समस्या हो सकती है|
  • अगर आपके शरीर इम्युनिटी पावर कमजोर होती है तो भी आप मस्से की समस्या से पीड़ित हो सकते है| शरीर की इम्युनिटी पॉवर कमजोर होने पर शरीर में संक्रमण बहुत तेजी से फैलता या असर दिखता है|

मस्सा होने के लक्षण कया कया है ?( Symptoms of varts in hindi)

आमतौर पर जब शरीर के किसी भी हिस्से में मस्से (warts in hindi) की समस्या हो जाती है तो वो अलग ही दिखाई देता है, लेकिन इसके अलावा भी कई सारे अन्य लक्षण भी होते हैं, चलिए अब हम आपको मस्सो के लक्षणों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • शरीर के किसी भी हिस्से में उत्पन होने वाले मस्सो का आकार या रंग अलग अलग हो सकता है|
  • मस्से खुरदरे, कठोर, मुलायम, छोटे या बड़े किसी भी तरह के हो सकते है।
  • शरीर के किसी भी हिस्से में मस्से होने पर आपको उनमे दर्द की शिकायत नहीं होती है लेकिन अगर मस्सा किसी ऐसी जगह पर हो जाएं (जैसे पैर के तलवे में मस्सा होना),  जहाँ की त्वचा पर बार दबाव पड़ता हो तो दर्द की परेशानी हो सकती है|
  • मस्सो का रंग लाल, भूरा, गुलाबी या सफेद हो सकता है।

मस्सा हटाने के लिए घरेलू इलाज, मस्सा की बीमारी का इलाज (Home Remedies for Warts in hindi)

जब किसी भी इंसान के मस्से की परेशानी हो जाती है तो सबसे पहले इंसान घरेलू उपाय अपनाना पसंद करता है, इंटरनेट पर मस्से का रामबाण इलाज कया है? मस्से की रामबाण दवा , पतंजलि मस्सा की दवाई, चेहरे के मस्से का आयुर्वेदिक उपचार, चेहरे के मस्से का आयुर्वेदिक उपचार, मस्से हटाने की विधि, मस्से को हटाने के घरेलू उपाय इत्यादि लिखकर अपनी परेशानी का हल ढूंढ़ता है| चलिए अब हम आपको मस्से हटाने के घरेलू नुस्खे और उपचार की जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

चेहरे के मस्से का आयुर्वेदिक उपचार है प्याज का रस (Onion Juice : home remedies for warts in hindi)

प्याज में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व मस्सो का इलाज करने में मददगार होते है| सबसे पहले एक प्याज लेकर उसे छील लें, फिर उस प्याज को मिक्सी की मदद से बारीक पीस कर छान लें, नियमित रूप से सुबह और शाम प्याज के निकले हुए रस को रुई की मदद से मस्सों पर लगाने से कुछ ही दिनों में मस्सो की समस्या से छुटकारा मिल जाता है| प्याज के रस को मस्से हटाने की दवा या मस्सो का घरेलू उपचार भी कह सकते है|

मस्सो का घरेलू उपचार है फ्लॉस (Floss Help to Remove Warts in Hindi)

मस्सो की समस्या से छुटकारा पाने के लिए फ्लॉस भी एक एक बेहतर विकल्प होता है, मस्सो का इलाज करने के लिए सबसे मस्सो को फ्लॉस से बांध दें| फ्लॉस बांधने से मस्सो में रक्त परवाह नहीं हो पता है, रक्त परवाह बंद होने से धीरे धीरे मस्से सूखने लगते है और कुछ समय बाद मस्से सुखकर त्वचा से अलग हो जाते है| फ्लॉस को आप मस्सो को जड़ से खत्म करने का उपाय या इलाज भी कह सकते है|

मस्सो का रामबाण इलाज है बरगद के पत्तो का रस (Banyan Leaf : home remedies for warts in hindi)

बरगद का पेड़ आपको अपने आस पास आसानी से मिल जाएगा, लेकिन कया आप जानते है की बरगद के पत्तो के रस से भी मस्से का इलाज किया जा सकता है| मस्सी का घरेलू इलाज करने के लिए सबसे पहले बरगद का एक ताजा पत्ता तोड़कर उसका रस मस्सो पर लगा लें, नियमित रूप से इस रस को लगाने से जल्द ही मस्से की समस्या से छुटकारा मिल जाता है| बरगद के पत्तो के रस को मस्से की रामबाण दवा के रूप में भी जाना जाता है|

मस्सो को सुखाने की घरेलू दवा है आलू (Potato : home remedies for warts in hindi)

शायद ही कोई घर हो जिसमे आलू का इस्तेमाल ना होता हो, आलू हमारे शरीर के लिए लाभकारी होता है| आलू में मौजूद औषधीय गुण मस्सो को सुखाने में मददगार होते है| सबसे पहले एक आलू को बीच में से काट लें, फिर इस कटे हुए आलू को मस्सो पर रगड़ लें, दिन में तीन से चार बार मस्सो पर आलू रगड़ने से कुछ ही दिनों में मस्सो की समस्या से आराम मिलता है, आलू को आप मस्सा सुखाने की दवा भी कह सकते है|

मस्सो को जल्दी समाप्त करने का इलाज है अलसी के बीज (Flaxseed Beneficial to Remove Warts in Hindi)

अलसी के बीज बहुत ही गुणकारी होते है, नियमित रूप से अलसी के बीजो का सेवन करने से कई सारे परेशानियो से रहत मिलती है| लेकिन काफी कम इंसान जानते है की अलसी के बीज मस्सो का इलाज करने में भी मददगार होते है, मस्सो की रामबाण दवा बनाने के लिए सबसे पहले थोड़े से अलसी के बीजो को पीसकर महीन चूर्ण बना लें, फिर इसमें थोड़ा सा अलसी का तेल और शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पेस्ट बना लें|इस पेस्ट को मस्सो पर लगा लें| इस नुस्खे को करने से बहुत जल्द आपको मस्सो की समस्या से छुटकारा मिल जाता है, अलसी के बीज को मस्सो को जल्दी सूखने की दवा या इलाज भी कह सकते है|

मस्सो का घरेलू उपचार है सेब का सिरका मस्सों को निकालने में फायदेमंद (Apple Cider Vinegar home remedies for warts in hindi)

सेब का सिरका काफी सारी परेशानियो को दूर करने में सहायक होता है, सेब के सिरके में मौजूद औषधीय गुण मस्सो को सुखाने में सहायक होते है सेब का सिरका आसानी से बाजार से मिल जाएगा, थोड़ा सा सेब का सिरका लेकर रुई की मदद से मस्सो पर लगा लें| रोजाना दिन में में तीन से चार बार सेब का सिरका लगाने से कुछ ही दिनों मस्से सुखकर झड़ जाते है|

मस्सो को जल्दी सुखाने का घरेलू उपचार है लहसुन (Garlic : home remedies for warts in hindi)

लगभग सभी घरो में लहसुन का इस्तेमाल होता है, दाल से लेकर सब्जी को छौकने में लहसुन का उपयोग होता है| खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ साथ लहसुन हमारे शरीर के लिए भी लाभदायक होता है| लहसुन मस्सो का इलाज करने में असरदायक होता है, सबसे पहले लहसुन की कली लेकर उसे छील लें, लहसुन की कली को पीस लें इस पीसे हुए पेस्ट को मस्से पर लगा लें नियमित रूप से इस उपाय को करने से कुछ ही दिनों में मस्सो की समस्या (warts in hindi) से आराम मिलता है|

मस्से का घरेलू इलाज है अनानास (Pineapple Beneficial to Remove Warts in Hindi)

यह तो हम सब जानते ही है की अनानास हमारे शरीर के लिए काफी लाभकारी होता है, लेकिन कया आप जानते है की अनानास मस्सो का इलाज करने में मददगार साबित होता है| अनानास में मौजूद औषधीय गुण मस्सो को सुखाने में मददगार साबित होते है, मस्सो का इलाज करने के लिए सबसे पहले एक ताजा अनानास लेकर उसके टुकड़ें कर लें, फिर एक टुकड़ा लेकर मस्सो पर धीरे धीरे रगड़ लें, नियमित रूप से दिन में दो से तीन बार अपनाने से जल्द मस्सा (warts in hindi) सूखकर गिर जाता है।

मस्सो की घरेलू दवा है मौसमी का रस (Sweet Lime : home remedies for warts in hindi)

अधिकतर इंसान मौसमी का रस का सेवन शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए करते है, लेकिन कया आप जानते है की मौसमी का रस मस्सो का इलाज करने में भी सहायक होता है| मस्सो का उपचार करने के लिए सबसे पहले मौसमी का ताजा रस मस्सो पर अच्छी तरह से लगा लें| नियमित रूप से मौसमी का ताजा रस लगाने से कुछ ही दिनों में मस्सो (warts in hindi) के समस्या से राहत प्राप्त होती है।

मस्सो का रामबाण इलाज है केले का छिलका (Banana Peel Beneficial to Remove Warts in Hindi)

केला हमारे लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होता है, केले के छिलके में मौजूद औषधीय गुण मस्सो की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक होता है| मस्सो का इलाज करने के लिए सबसे पहले केले का छिलका लेकर उस्का छोटा सा टुकड़ा काट लें, फिर केले के छिलके को अंदरूनी तरफ से मस्से पर रखकर ऊपर से पट्टी बाँध दें| सुबह और शाम केले के छिलके को बदलकर फिर पट्टी बाँध दें, कुछ ही दिनों में मस्से की समस्या से निजात मिल जाती है|

मस्सो की घरेलू दवा & उपचार है गर्म पानी (Hot Water Compress Beneficial to Remove Warts in Hindi)

पैरो में मस्सो की समस्या होने पर इंसान को कई बार परेशानी का सामना करना पड़ सकता है, अगर आप पैरो में मस्सो की समस्या का सामना कर रहे है तो गर्म पानी आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| नियमित रूप से गर्म पानी में पैरो को लगभग 10 से 15 मिनट डालकर रखें, ऐसा नियमित रूप से करने से कुछ ही दिनों में मस्सो की समस्या समाप्त हो जाती है|

अगरबत्ती से मस्से का इलाज (home remedies for warts in hindi)

मस्से की समस्या को समाप्त करने के लिए अगरबत्ती का उपाय भी काफी प्रसिद्ध और अच्छा माना जाता है| मस्सा खत्म करने के लिए सबसे पहले एक अगरबत्ती को जला लें फिर अगरबत्ती के जले हुए गुल को मस्से से टच करें और तुरंत हटा लें, अगरबत्ती के इस उपाय को दिन में 8 से 10 बार करने बहुत जल्द मस्सा (warts in hindi) सूखकर झड़ जाता है|

चूने से मस्से का इलाज (home remedies for warts in hindi)

मस्सो का इलाज करने में चूना भी काफी मददगार साबित होता है, मस्सो का इलाज करने के लिए घी और चूना को बराबर मात्रा में लेकर दोनों को अच्छी तरह से मिला कर पेस्ट बना लें| फिर इस मिश्रण को दिन में 3 से 4 बार लगाने से जल्द मस्से की परेशानी समाप्त हो जाती है| चूने को मस्से को जड़ से खत्म करने की दवा & इलाज भी कह सकते है|

पतंजलि मस्सा की दवाई,  मस्से की दवा पतंजलि

आज के समय किसी भी बीमारी से पीड़ित इंसान सबसे पहले पतंजलि कंपनी की दवा सर्च करता है| अगर आप भी मस्से की समस्या से पीड़ित है और पतंजलि मस्सा की दवाई या मस्से की दवा पतंजलि सर्च कर रहे है तो हम आपको बता दें आज के समय में पतंजलि को आयुर्वेद दवा में सबसे बड़ी कम्पनी माना जाता है| लेकिन अभी कंपनी ने पतंजलि मस्सा की दवाई का निर्माण नहीं किया है| पतंजलि कंपनी अपनी सभी डावाओ का निर्माण जड़ी बूटियो के द्वारा करती है इसीलिए आज के समय पतंजलि पर सबसे ज्यादा विश्वास किया जाता है| भविष्य में अगर कंपनी पतंजलि मस्सा की दवाई का निर्माण करती है तो हम आपको इसकी जानकारी जरूर उपलब्ध कराएंगे|

मस्सा होना रोकने के लिए उपाए,  मस्से की समस्या से बचने के उपाय

अगर आप अपने आपको मस्सो की समस्या होने से बचाना चाहते है तो आपको कुछ बातों का खास ध्यान रखना जरूरी होता है, मस्सो की समस्या से बचने के लिए सबसे पहले आपको अपनी डाइट प्लान का ख्याल रखना बहुत जरुरी होता है| चलिए अब हम आपको बताते है की मस्सो से बचने के लिए कया खाना चाहिए और किन चीजों का परहेज करना चाहिए –

मस्सो से बचने के लिए क्या खाना चाहिए-

  • अपने आहार में ऐसी चीजों को शामिल करें जो विटामिन से भरपूर हो जैसे पालक, केला,  ब्रोकली इत्यादि|
  • इम्युनिटी पॉवर को मजबूत करने वाले फलो का सेवन करना चाहिए| जामुन, टमाटर, चेरी, कद्दू इत्यादि फलो का सेवन लाभकारी होता हैं।
  • मस्सो की समस्या से बचाव करने के लिए मांस, मछली, मेवा, साबुत अनाज इत्यादि का सेवन लाभकारी साबित होता है|

क्या नहीं खाना चाहिए –

  • सफेद ब्रेड और पास्ता इत्यादि जंक फ़ूड का सेवन करने से बचना चाहिए|
  • अधिक वसा युक्त खाद्य पदार्थो का परहेज करें|
  • फास्ट फूड जैसे फ्रेंच फ्राइज़, रोल इत्यादि का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • अधिक मीठा या ज्यादा मीठे वाली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए|

हम आशा करते है की आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख पतंजलि मस्सा की दवाई या मस्से का घरेलू इलाज (home remedies for warts in hindi) में दी गई जानकारी फायदेमंद और पसंद आई होगी, लेकिन अगर आपको किसी भी कारणवश जानकारी पसंद नहीं आई है या जानकारी कम लग रही है तो आप गूगल या बिंग पर पतंजलि मस्सा की दवाई या मस्से का घरेलू इलाज (home remedies for warts in hindi) लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa