web analytics
Sun. Sep 25th, 2022

थायराइड का रामबाण इलाज (Thyroid in hindi) : आज के समय में थायराइड की परेशानी बहुत ही आम हो गई, थायराइड की परेशानी पुरुषो के मुकाबले महिला में ज्यादा देखने को मिलती है| थायराइड का नाम तो अधिकतर इंसानो ने सुना होता है लेकिन आज भी बहुत सारे पुरुष या महिला ऐसी भी है जिन्हे थायराइड के बारे में जानकारी नहीं होती है, जिन महिला या पुरुष को थायराइड के बारे में नहीं पता होता है वो इंटरनेट पर थायराइड होने के कारण, थायराइड के लक्षण, थायराइड का रामबाण इलाज, बाबा रामदेव थायराइड उपचार, थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि, प्याज से थायराइड का इलाज, पुरुषों में थायराइड का इलाज, हाइपर थायराइड का रामबाण इलाज, महिलाओं में थायराइड का इलाज, थायराइड का अचूक इलाज और थायराइड का देसी इलाज इत्यादि लिखकर सर्च करता है|

अगर आप थायराइड (Thyroid in hindi) की समस्या से पीड़ित है और आप थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने का उपाय ढूंढ रहे है तो यह पेज आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है, इस पेज में हम आपको थायराइड कया है? थायराइड होने के कारण कौन कौन से है? थायराइड के लक्षण कौन से है? थायराइड का रामबाण इलाज कया है? थायराइड को जड़ से खत्म करने का घरेलू उपाय कया है? इत्यादि जानकारी उपलब्ध करा रहे है| थायराइड का रामबाण इलाज बताने से पहले हम आपको थायराइड के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है-

Table of Contents

थायराइड क्या है ? – What is Thyroid in Hindi

अधिकतर इंसानो के मन में यह सवाल होता है की आखिर थायराइड कया होता है? काफी लोग सोचते है की थायराइड एक बिमारी का नाम है दरसल कोई थायराइड (Thyroid in hindi) बीमारी नहीं होती है बल्कि थायराइड एक ग्रंथि होती है जो प्रत्येक महिला या पुरुष के गले में आगे की तरफ पाई जाती है| थायराइड ग्रंथि तितली के आकार जैसी होती है थायराइड ग्रंथि शरीर की कई जरूरी गतिविधियों को नियंत्रित करने जैसे भोजन को ऊर्जा में बदलने इत्यादि के साथ साथ ट्राईआयोडोथायरोनिन और थायरॉक्सिन हार्मोंन का निर्माण करने का कार्य करती है। थायराइड ग्रंथि के द्वारा निर्मित हार्मोंस का सीधा असर शरीर की कुछ गतिविधियों जैसे सांस लेने में, हृदय गति, पाचन तंत्र, हड्डियों, मांसपेशियों, कोलेस्ट्रॉल और शरीर के तापमान पर पड़ सकता है। थायराइड ग्रंथि द्वारा निर्मित हार्मोंस जब असंतुलित हो जाते हैं तब इंसान का वजन ज्यादा या कम होने लगता है,  वजन बढ़ने की इस परेशानी को थायराइड की समस्या (Thyroid in hindi) कहा जाता हैं।

आयुर्वेद के अनुसार थायराइड रोग होने का एक प्रमुख कारण वात, पित्त और कफ के असंतुलित होना होता है| जब किसी भी महिला या पुरुष के शरीर में वात एवं कफ दोष हो जाता है तो इंसान थायरॉइड की परेशानी से ग्रसित हो जाता है, थायराइड का रामबाण इलाज करने के लिए आप आयुर्वेदिक दवा या उपाय तरीकों को अपना सकते हैं। घरेलू उपायों को अपनाकर आप आसानी से वात और कफ दोषों को सन्तुलित करके थायराइड की परेशानी से छुटकारा पा सकते है| अगर आप थायराइड का रामबाण इलाज एलोपैथिक दवा से करते है तो आपको थॉयराइड (Thyroid in hindi) की परेशानी को समाप्त करने के लिए स्टीरॉइड्स का सेवन करने की सलाह दी जाती है, स्टीरॉइड्स दवा हमारे शरीर के लिए हानिकारक होती है। इसलिए थायराइड को जड़ से खत्म करने के लिए आयुर्वेदिक दवा को सबसे बेहतर माना जाता है।

थायराइड कितने प्रकार के होते हैं ?  थायराइड के प्रकार (Types of Thyroid in Hindi)

ऊपर आपने थायराइड के बारे में जानकारी प्राप्त की, चलिए अब हम आपको थायराइड का रामबाण इलाज के बारे में जानकारी देने से से पहले थायराइड के प्रकार के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है, थायराइड निम्न प्रकार का होता है –

1 – थायराइड ग्रंथि की अतिसक्रियता या हाइपरथाइरॉयडिज़्म (Hyperthyroidism in hindi)

जब किसी भी इंसान के शरीर में मौजूद थायराइड ग्रंथि की सक्रियता अधिक हो जाती है तो शरीर में T3 और T4 हार्मोन का उत्पादन जरुरत से ज्यादा होने लगता है। जब शरीर में T3 और T4 हार्मोन्स (t4 thyroid in hindi)

की मात्रा ज्यादा हो जाती है तो शरीर ऊर्जा का इस्तेमाल अधिक मात्रा में करना शुरू कर देता है। इस स्थिति को हाइपरथाइरॉयडिज़्म (Hyperthyroidism) या हाइपर थायराइड (hyperthyroidism in hindi) के नाम से जाना जाता है|

आमतौर पर हाइपरथाइरॉयडिज़्म (Hyperthyroidism) या हाइपर थायराइड (hyperthyroidism in hindi)
की परेशानी पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है| हाइपर थायराइड से पीड़ित इंसान इंटरनेट पर हाइपर थायराइड के लक्षण, हाइपर थायराइड का रामबाण इलाज, हाइपर थायराइड के लक्षण और उपचार, हाइपर थायराइड का इलाज, हाइपरथाइरॉयडिज़्म के घरेलू उपचार, हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण इत्यादि लिखकर सर्च करता है, चलिए अब हम आपको हाइपर थायराइड के लक्षण के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है  –

हाइपरथाइरॉयडिज़्म (Hyperthyroidism) या हाइपर थायराइड के लक्षण –

  • जब किसी भी इंसान के शरीर में थायराइड हार्मोन की मात्रा अधिक होने पर मेटाबोलिज्म भी बड़ जाता है|
  • अगर आपको बिना किसी कारण के घबराहट की परेशानी हो रही हो तो यह भी हाइपर थायराइड का लक्षण (hyperthyroidism in hindi) होता है|
  • किसी भी इंसान को सामान्य से ज्यादा पसीना आ रहा हो तो आप हाइपर थायराइड की परेशानी से पीड़ित हो सकते है क्योंकि अधिक पसीना आना भी हाइपर थायराइड का लक्षण है|
  • किसी इंसान के स्वभाव में बिना किसी वजह के चिड़चिड़ापन आना|
  • अगर किसी इंसान के अचानक से बाल पतले और झड़ने की शिकायत हो रही है तो वो इंसान हाइपर थायराइड या हाइपरथाइरॉयडिज़्म की परेशानी से पीड़ित हो सकता है|
  • हाइपर थायराइड के लक्षण में शामिल है नींद ना आना
  • बिना किसी कारण अगर आपके शरीर की मांसपेशियों में कमजोरी या दर्द की शिकायत होना
  • अगर आप कोई काम कर रहे है और उस काम को करते समय आपके हाँथ कांपने लगे या जब कोई काम ना करे तो भी आपके हाँथ कांपने लगे तो आप हाइपर थायराइड से पीड़ित हो सकते हो|
  • हाइपर थायराइड का लक्षण अचानक से दिल की धड़कन का बढ़ना भी होता है।
  • भूख ज्यादा लगने और खाना ज्यादा या सही मात्रा में खाने के बाद भी वजन का घटना भी हाइपर थायराइड का लक्षण होता है।
  • अगर किसी भी महिला के पीरियड्स अनियमित हो रहे है तो अनियमित पीरियड्स भी हाइपर थायराइड के लक्षणों में शामिल है|

2 – अल्पसक्रियता या हाइपोथॉयराडिज्म (Hypothyroidism in hindi)

जब किसी भी इंसान के शरीर में थायराइड ग्रंथि की सक्रियता कम हो जाती है तो शरीर में T3 और T4 हार्मोन की कमी होने लगती है इस स्थिति को हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism in hindi) या हाइपो थायराइड के नाम से जाना जाता है| हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित इंसान इंटरनेट पर महिलाओं में हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण, हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण, हाइपो थायराइड के लक्षण, हाइपो थायराइड का रामबाण इलाज, हाइपोथायरायडिज्म का आयुर्वेदिक इलाज, हाइपोथायरायडिज्म के उपचार इत्यादि लिखकर सर्च करता है, चलिए अब हम आपको हाइपो थायराइड या हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism in hindi) के लक्षण या पहचान के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • किसी भी इंसान की धड़कन की गति कम या धीमी हो रही है तो यह हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण में शामिल है|
  • अगर आपका शरीर हमेशा थका थका सा रहता है तो आप हाइपोथायरायडिज्म की परेशानी से पीड़ित हो सकते है|
  • हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism in hindi) की परेशानी में इंसान के शरीर में मेटाबोलिज्म धीमा पड़ने लगता है और इंसान का वजन बढ़ने लगता है|
  • नाखून पतले होने लगे या टूटने लगे तो यह भी हाइपोथायरायडिज्म का लक्षण होता है|
  • अगर आपको सामान्य से कम पसीना आ रहा हो|
  • स्किन में सूखापन और खुजली की शिकायत होना।
  • बिना किसी कारण के मांसपेशियों में अकड़न की परेशानी होना।
  • हाइपोथायरायडिज्म का लक्षण बाल अधिक मात्रा में झड़ना भी होता है|
  • चेहरे और आँखों में सूजन आना भी हाइपोथायरायडिज्म के लक्षणो में शामिल है।
  • किसी इंसान की सोचने और समझने की शक्ति का कम होना भी हाइपोथायरायडिज्म का लक्षण होता है।
  • हाइपोथायरायडिज्म का लक्षण शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा का बढ़ना भी होता है|

3 – थायराइडिटिस (Thyroiditis in hindi) –

इस प्रकार की बिमारी में थायराइड ग्रंथि में सूजन की समस्या हो जाती है|

4 – थायराइड नोड्यूल (Thyroid nodules in hindi) –

इस प्रकार की परेशानी में थायराइड ग्रंथि में गांठ बन जाती है।

5 – गॉइटर थायराइड (Goiter Thyroid in hindi) –

गोइटर थायराइड की परेशानी को घेंघा रोग भी कहा जाता है, गोइटर थायराइड या घेंघा रोग शरीर में आयोडीन की कमी होने की वजह से होता है| हालाँकि इस परेशानी का इलाज आसानी से किया जा सकता है, अगर आप डॉक्टर के पास जाते है तो डॉक्टर शरीर में आयोडीन की मात्रा को सामान्य करने के लिए आयोडीन की दवाई या आयोडीन युक्त चीजों का सेवन करने की सलाह देता है|

6 –  थायराइड कैंसर (Thyroid cancer in hindi) –

यह थायराइड की सबसे गंभीर स्थिति होती है, अगर थायराइड कैंसर की परेशानी किसी इंसान को हो जाती है तो थायराइड कैंसर का इलाज सर्जरी के माध्यम किया जा सकता है। थायराइड ग्रंथि में गांठ बन जाने के बाद थायराइड कैंसर की स्थिति आती है, जिसकी जांच आप लैब पर करा सकते है|

थायराइड रोग होने के कारण कौन कौन से है? थायराइड होने के कारण (Causes of Thyroid in Hindi)

थायराइड का रामबाण इलाज करने से पहले आपको थायराइड होने के कारणों के बारे में जाना भी बहुत जरुरी है क्योंकि अगर आपको थायराइड होने के कारण के बारे में पहले से पता होते है तो आप कुछ सावधानियो से अपने आपको थायराइड की परेशानी से बचा सकते है, चलिए अब हम आपको थायराइड होने के कारणों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • किसी भी प्रकार के मानसिक तनाव का असर थायरॉइड हार्मोन (Thyroid harmone) की सक्रियता के साथ साथ शरीर पर भी पड़ सकता है।
  • अगर आपके शरीर में आयोडीन की मात्रा कम या ज्यादा हो जाती है तो इसका असर थायरॉइड ग्रंथि पर भी पड़ता हैं, आयोडीन की कमी से भी थायराइड की परेशानी भी हो सकती है|
  • थायराइड होने का कारण है अनुवांशिकता, अगर आपके घर के किसी सदस्य जैसे, पिता, माता, चाचा, चाची, ताऊ, ताई इत्यादि को थायराइड की बिमारी है तो थायराइड की परेशानी आपके साथ होने की प्रबल संभावना होती है।
  • महिला में थायराइड होने का कारण हार्मोन्स में बदलाव भी होता है, गर्भावस्था में महिला के शरीर और हार्मोन्स में काफी बदलाव होने की वजह से थायरॉइड हार्मोन्स पर भी असर पड़ता है|
  • किसी भी कारणवश अगर इंसान के शरीर में मौजूद थायरॉइड ग्रंथि में सूजन आ जाती है तो इंसान हाइपोथायरायडिज्म की परेशानी से ग्रसित हो सकता है|
  • किसी भी इंसान के शरीर में विटामिन बी12 की मात्रा कम होने की वजह से भी हाइपोथायरायडिज्म की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है|
  • अगर किसी इंसान को हाशिमोटो रोग होता है तो ऐसे इंसान में थायराइड रोग होने की सम्भावना काफी ज्यादा होती है क्योंकि हाशिमोटो रोग थायरॉइड ग्रंथि के किसी एक भाग को निष्क्रिय कर देता है जिसकी वजह से थायराइड की परेशानी हो सकती है|
  • ग्रेव्स रोग भी हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyrodism in hindi) की परेशानी होने का मुख्य कारण होता है, हालाँकि यह रोग व्यस्क लोगों में ही देखने को मिलता है।

थायराइड के लक्षण – Symptoms of Thyroid in Hindi

ऊपर आपने थायराइड कया है? थायराइड के प्रकार और थायराइड होने के कारणों के बारे में जानकारी प्राप्त की है| चलिए अब हम आपको थायराइड के लक्षणों के बारे में आपको जानकारी उपलब्ध करा रहे है, थायराइड के लक्षणों से आप बीमारी का पता शुरूआती दौर में ही कर सकते है| ध्यान रखने वाली बात यह है कि थायराइड के कुछ लक्षण सामान्य बीमारी जैसे ही होते है इसीलिए शरीर में आने वाले किसी भी भदलाव को गंभीरता से लेना जरुरी होता है|  गर्भावस्था में महिलाओं को खास ख्याल रखना जरुरी होता है अगर महिला के शरीर में थायराइड के लक्षण दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें –

  • कब्ज की परेशानी भी थायराइड का लक्षण होता है|
  • बिना किसी मेहनत का काम किए अगर आपको थकावट महसूस हो रही है तो आपको थायराइड की परेशानी हो सकती है|
  • थायराइड का लक्षण त्वचा में रूखापन भी होता है|
  • अगर किसी भी महिला या पुरुष का अचानक से वजन का बढ़ने या कम होने लगे तो इसका कारण थायराइड भी हो सकता है|
  • सामान्य से कम पसीना आना भी थायराइड का लक्षण होता है|
  • अचानक से ह्रदय गति का धीमा या कम होना
  • थायराइड के लक्षणों में शामिल है जोड़ों में सूजन या दर्द की शिकायत होना
  • अगर आपके बाल पतले और रूखे-बेजान होने लगे तो यह भी थायराइड के लक्षण होता है|
  • थायराइड का एक लक्षण याददाश्त कमजोर होना भी होता है|
  • महिलाओ में थायराइड का लक्षण मासिक धर्म का असामान्य होना भी होता है|
  • प्रजनन क्षमता में असंतुलन होना भी थायराइड का लक्षण माना जाता है|
  • थायराइड की वजह से मांसपेशियों में दर्द की शिकायत भी हो सकती है|
  • थायराइड के लक्षण चेहरे पर सूजन या समय से पहले अर्थात कम उम्र में बालों का सफेद होना भी होते है|

पुरुषों में थायराइड का इलाज

ऐसा नहीं है की थायराइड की परेशानी पुरुषो में नहीं होती है, आज के समय में काफी पुरुषो में थायराइड की परेशानी देखने को मिलती है| थायराइड की परेशानी से पीड़ित पुरुष इंटरनेट पर पुरुषो में थायराइड होने के कारण, पुरुषो में थायराइड के लक्षण, पुरुषो में थायराइड का रामबाण इलाज, पुरुषो में थायराइड का इलाज, पुरुषो में थायराइड का घरेलू इलाज इत्यादि लिखकर सर्च करते है| लेकिन कया आप जानते है की पुरुषों में थायराइड कितना होना चाहिए? या पुरुषो में थायराइड की सामान्य मात्रा (normal thyroid levels in hindi ) कितनी होती है ? तो हम आपको बता दें की अगर थायराइड 0.4 -4.0 mIU/L के बीच में है तो सामान्य माना जाता है। शरीर में TSH का स्तर 2.0 से ज्यादा होने पर इंसान को हाइपोथायरॉडिज्म की परेशानी होने का खतरा बढ़ जाता है। पुरुषो में थायराइड का इलाज आप घरेलू नुस्खों से भी कर सकते है, पुरुषो में थायराइड का इलाज करने के लिए आप हमारे द्वारा बताए जा रहे घरेलू नुस्खों को अपनाकर कर सकते है लेकिन हम सलाह देंगे की पुरुषो में थायराइड का इलाज के लिए वेध या चिकित्सक की सलाह से घरेलू नुस्खों को अपनाने से पूर्ण और जल्द लाभ प्राप्त होता है|

थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि (patanjali thyroid medicine in hindi)

आज के समय में बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि पर लोगो का विश्वास बहुत ज्यादा है क्योंकि पतंजलि की दवा का असर स्थाई होता है और पतंजलि दवा के दुष्परिणाम भी बहुत कम ही देखने को मिलते है| थायराइड से पीड़ित इंसान पतंजलि में थायराइड का रामबाण इलाज, स्वामी रामदेव थायराइड का रामबाण इलाज, थायराइड की समस्या को जड़ से खत्म करने की दवा पतंजलि, थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि और थायराइड की रामबाण दवा पतंजलि ढूंढ़ता है| अगर आप भी थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि में ढूंढ रहे है तो हम आपकी परेशानी का समाधान करते है|

चलिए अब हम आपको थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है| पुरुषो में थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि के लिए नियमित रूप से वेध या चिकित्सक की सलाह से पतंजलि की कंचनार गुग्गुल वटी और वद्दिवाटिका वटी की 1 या 2 गोली का सेवन करने से जल्द लाभ प्राप्त होता है| थायराइड का इलाज करने के लिए अश्वगंधा भी लाभदायक होता है|

प्याज से थायराइड का इलाज

अगर आप थायराइड का रामबाण इलाज सर्च कर रहे है तो प्याज आपके लिए एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकती है| कया हुआ सुनकर चौंक गए लेकिन यह सच है प्याज को थायराइड का रामबाण इलाज भी कहा जाता है, प्याज में मौजूद एंटी-इंफ्लामेट्री, एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुण थायराइड का इलाज करने में मददगार साबित होते है और प्याज में मौजूद सल्फर और अन्य पोषक तत्व थायराइड की वजह से शरीर में आने वाली सूजन को कम करने में मददगार साबित होते है| थायराइड का रामबाण इलाज करने के लिए सबसे पहले एक लाल प्याज लेकर उसे छीलकर बीच में से काट कर दो टुकड़ें कर लें, फिर कटे हुए टुकड़ो में से एक टुकड़ा लेकर हल्के हाथो से गर्दन पर प्याज रगड़ लें| नियमित रूप से थायराइड का रामबाण इलाज के इस नुस्खे को अपनाने से बहुत जल्द लाभ मिलता है| आप चाहे तो कच्ची प्याज का सेवन सलाद के साथ भी कर सकते है कच्ची प्याज का सेवन करने से भी थायराइड की परेशानी में आराम प्राप्त होता है|

थायराइड का रामबाण इलाज & थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय (Home Remedies for Thyroid in hindi)

अगर आप थायराइड की परेशानी से पीड़ित है और थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय सर्च कर रहे है तो चलिए अब हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खों के बारे में बताने जा रहे है जिन्हे अपनाकर आप आसानी से थायराइड की परेशानी से छुटकारा पा सकते है –

थायराइड का रामबाण इलाज है एलोवेरा (Home Remedies for Thyroid in hindi)

अगर आप थायराइड की परेशानी से ग्रसित है और आप थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय ढूंढ रहे है तो एलोवेरा आपके लिए सबसे बेहतर विकल्प साबित हो सकता है| एलोवेरा में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व हाइपो थायराइड का इलाज करने में मददगार साबित होते है| नियमित रूप से दिन में एक बार एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच एलोवेरा जूस डालकर अच्छी तरह से मिलकर पीने से जल्द ही आपको थायराइड की परेशानी से छुटकारा प्राप्त होता है|

थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय है आंवला (Home Remedies for Thyroid in hindi)

आंवला हाइपर थायराइड का इलाज करने में भी मददगार साबित होता है, आंवले में मौजूद औषधीय और हेप्टोप्रोटेक्टिव गुण थायराइड की परेशानी को समाप्त करने में मददगार साबित होते है| सबसे पहले एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच आंवला चूर्ण डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें, नियमित रूप से आंवले के चूर्ण का सेवन करने से जल्द ही लाभ मिलता है| आंवले को आप थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय के रूप में भी जाना जाता है|

थायराइड का घरेलू उपचार है अश्वगंधा (ayurvedic medicine for thyroid in hindi)

अश्वगंधा को प्राचीन समय से काफी महत्वपूर्ण जड़ी बूटी के रूप में जाना जाता है, अश्वगंधा हमारे शरीर के साथ साथ कई सारी परेशानियो को दूर करने में सहायक होता है| काफी कम लोग जानते है की अश्वगंधा को थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय के रूप में भी जाना जाता है| नियमित रूप से रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुने गाय के दूध में एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण मिलकर पीने से जल्द लाभ प्राप्त होता है, आज के समय अश्वगंधा कैप्सूल भी बाजार में उपलब्ध है आप चाहे तो नियमित रूप से एक कैप्सूल का सेवन कर सकते है|

थायराइड का इलाज है मुलेठी (Home Remedies for Thyroid in hindi)

यह तो हम सब भली भांति जानते ही है की मुलेठी गले और कफ की समस्याओ को समाप्त करने में सहायक होती है लेकिन कया आप जानते है की मुलेठी को थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय के रूप में भी जाना जाता है| मुलेठी में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व थायरॉइड कैंसर सेल्स (Thyroid Cancer Cells) को बढ़ने से रोकने में मददगार साबित होते है| मलेठी का सेवन आप सीधे तोर पर कर सकते है या एक गिलास पानी को गर्म होने के लिए रख दें फिर उसमे थोड़ी सी मुलेठी को कूटकर डाल दें पानी को अच्छी तरह से पकाकर गैस बंद कर दें ठंडा होने पर पानी को छानकर सेवन कर लें| नियमित रूप से मुलेठी का सेवन करने से जल्द आपको थायराइड की परेशानी से आराम मिलता है|

थायराइड का घरेलू उपचार है तुलसी (ayurvedic medicine for thyroid in hindi)

भारत में शायद ही कोई घर हो जिसमे तुलसी का पौधा ना हो, तुलसी हमारे शरीर की काफी सारी परेशानियो को खत्म करने में मददगार साबित होती है| तुलसी में मौजूद औषधीय गुण थायराइड की परेशानी को कम करने में सहायक साबित होते है, सबसे पहले तुलसी के कुछ ताजे पत्ते लेकर उन्हें अच्छी तरह से धोकर पीस लें, फिर इन पीसे हुए पत्तो को छानकर रस निकाल लें (आज के समय में आपको बाजार में कई सारी कम्पनियो के तुलसी रस मिल जाएंगे आप चाहे तो वो भी ले सकते है) | लगभग दो चम्मच्च तुलसी का रस और आधा चम्मच एलोवेरा का जूस लेकर दोनों को अच्छी तरह से मिलकर सेवन करने जल्द लाभ प्राप्त होता है| इस घरेलू उपाय को आप थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कह सकते है|

थायराइड का घरेलू उपचार है हरा धनियां (Home Remedies for Thyroid in hindi)

हरे धनिए का इस्तेमाल लगभग सभी घरो में सब्जी, दाल में या चटनी बनाने में किया जाता है| हरा धनियां खाने को स्वादिष्ट बनाने के साथ साथ हमारे शरीर के लिए भी फायदेमंद होता है| लेकिन कया आप जानते है की हरा धनियां थायराइड का इलाज करने में भी मददगार होता है, हरे धनिएं में मौजूद औषधीय गुण थायराइड की परेशानी को समाप्त करने में मददगार साबित होते है| सबसे पहले थोड़े से धनिएं को अच्छी तरह से धोकर उन्हें बारीक पीस लें, फिर इस पीसे हुए धनिएं में से लगभग एक चम्मच पीसा हुआ पेस्ट डालकर अच्छी तरह से मिलकर पीने जल्द लाभ मिलता है| थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय का पूर्ण लाभ लेने के लिए नुस्खे को वैध या चिकित्सक के परामर्श से सेवन करें|

थायराइड को जड़ से खत्म करने का उपाय है त्रिफला चूर्ण (ayurvedic medicine for thyroid in hindi)

त्रिफला चूर्ण का नाम तो लगभग सभी ने सुना ही होगा, त्रिफला चूर्ण को सौ बीमारियो की एक दवा भी कह सकते है| त्रिफला चूर्ण में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व थायराइड का इलाज करने में मददगार साबित होते है, लगभग एक गिलास पानी में एक चम्मच त्रिफला चूर्ण डालकर अच्छी तरह से मिलकर सेवन कर लें, नियमित रूप से दिन एम् एक बार त्रिफला चूर्ण का सेवन करने से जल्द थायराइड की समस्या से आराम प्राप्त होता है| कुछ इंसान त्रिफला चूर्ण को थायराइड का रामबाण इलाज और थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कहते है|

थायराइड रोग का घरेलू इलाज है हल्दी (treatment of thyroid in hindi)

हल्दी को दर्द निवारक के रूप में भी जाना जाता है, हल्दी का इस्तेमाल लगभग सभी घरो में किया जाता है| प्राचीन समय से हल्दी को हमारे शरीर के लिए लाभदायक होने के साथ साथ कई सारे रोगो को दूर करने की दवा के रूप में जाना जाता है, हल्दी में मौजूद औषधीय गुण थायराइड की परेशानी को कम करने में सहायक होते है| सबसे पहले एक गिलास दूध लेकर उसे गर्म होने के लिए रख दें फिर उसमे लगभग आधा चम्मच हल्दी डालकर दूध को उबलने दें, कुछ देर दूध को अच्छी तरह पकाने के बाद गैस को बंद कर दें, हल्का गुनगुने दूध का सेवन कर लें| नियमित रूप से रात को सोने से पहले हल्दी वाले दूध का सेवन करने से जल्द लाभ प्राप्त होता है, हल्दी को थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय के रूप में भी जाना जाता है|

थायराइड का रामबाण घरेलू उपचार है लौकी (ayurvedic medicine for thyroid in hindi)

लौकी का सेवन तो लगभग सभी इंसान करते है लेकिन काफी कम इंसान जानते है की लौकी के जूस से थायराइड का इलाज भी किया जा सकता है| लौकी में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व थायराइड का इलाज करने में मददगार साबित होते है, लौकी का जूस बनाने की विधि या तरीका अगर आपको नहीं पता है तो परेशान ना हो चलिए अब हम आपको लौकी का जूस बनाने का तरीका बताते है| सबसे पहले एक छोटी और पतली सी लौकी लेकर उसे अच्छी तरह से धो लें, फिर उस लौकी के छोटे छोटे टुकड़ें कर लें(लौकी को छिलके सहित काटना है)| फिर लौकी के कटे हुए टुकड़ें और लगभग एक गिलास पानी को ग्राइंडर में डालकर महीन पीस लें| फिर इस मिश्रण को छान लें, अब इस मिश्रण में थोड़ा सा निम्बू का रस, काली मिर्च पॉउडर और स्वादनुसार नमक डालकर अच्छी तरह से मिला लें, बस अब लौकी का जूस बनकर तैयार है| नियमित रूप से सुबह खाली पेट लौकी का जूस पीने से बहुत जल्द थायराइड की परेशानी से आराम मिलता है, लौकी के जूस को थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कहा जाता है|

थायराइड का घरेलू इलाज है सेब का सिरका (thyroid treatment in hindi)

सेब के सिरके में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व थायराइड की परेशानी को समाप्त करने में सहायक होते है, नियमित रूप से सुबह और शाम को खाना खाने से लगभग एक घंटे पहले एक गिलास पानी में लगभग एक चम्मच सेब का सिरका डालकर पीने से लाभ मिलता है| सेब के सिरके को थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय या थायराइड का रामबाण इलाज भी कहा जाता है|

हम आशा करते है की आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय में दी गई जानकारी पसंद आई होगी, लेकिन अगर आप थायराइड के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो गूगल या बिंग पर थायराइड का रामबाण इलाज या थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa