web analytics
Sun. Sep 25th, 2022
Home Remedies for Hot Flushes

हॉट फ्लैशेस की आयुर्वेदिक दवा & रामबाण इलाज (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) – महिलाओ के शरीर में पुरुषो के मुकाबले हार्मोन्स में असंतुलन की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है| हार्मोन असंतुलित होने की वजह से महिलाओ को काफी परेशानियो का सामना करना पड़ता है जिनमे से एक समस्या है हॉट फ्लैशेज (Hot Flushes)| पीरियड्स के बाद महिलाओ में हॉट फ्लैशेस की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है, जब किसी भी महिला में हॉट फ्लैशेस की समस्या होती है तो उसे अपने शरीर में अचानक से तेज गर्मी महसूस होने के साथ साथ चेहरा भी काफी ज्यादा लाल हो जाता है| दरसल हॉट फ्लैशेस की समस्या होने का कारण एंडोक्राइन हार्मोन के असंतुलन और एस्ट्रोजन हार्मोन का स्तर बढ़ना होता है|

आज हम अपने इस लेख में हॉट फ्लेशैज के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है| हॉट फ्लैशेस का इलाज करने के लिए कुछ महिलाऐं हॉट फ्लैशेस की अंग्रेजी दवा का सेवन करके अपनी परेशानी मे आराम प्राप्त पा लेती है, लेकिन काफी सारी महिला हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय अपनाकर हॉट फ्लैशेस की समस्या से मुक्ति पा लेती है| हॉट फ्लैशेस का घरेलू इलाज ज्यादा बेहतर होता है क्योंकि घरेलू नुस्खों के नुक्सान देखने को नहीं मिलते है| अधिकतर महिलाऐं अपनी बीमारी या परेशानी का इलाज करने में आलस या लापरवाही करती है या घरेलू नुस्खों से अपनी परेशानी का इलाज कर लेती है|

हॉट फ्लैशेस की समस्या से पीड़ित महिला हॉट फ्लैशेस का घरेलू इलाज या हॉट फ्लैशेस की दवा सर्च करती है| कुछ महिलाऐं इंटरनेट पर हॉट फ्लैशेस कया है? हॉट फ्लैशेस होने का कारण, हॉट फ्लैशेस क्यों होते है? हॉट फ्लैशेस का घरेलू उपचार, हॉट फ्लैशेस का घरेलू उपाय कया है? हॉट फ्लैशेस का रामबाण इलाज, हॉट फ्लैशेस की रामबाण दवा, Home Remedies for Hot Flushes in hindi, Symptoms of Hot Flashes in Hindi, Causes of Hot Flashes in Hindi इत्यादि लिखकर सर्च करती है| चलिए अब हम सबसे पहले आपको हॉट फ्लैशेस के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

Table of Contents

हॉट फ्लैशेज क्या है (What is Hot Flushes in hindi)

यह तो आप समझ ही गए होंगे की हॉट फ्लैशेस की समस्या महिलाओ में ज्यादा होती है| हार्मोन असंतुलन की वजह से यह समस्या देखने को मिलती है| आयुर्वेद के अनुसार पित्त दोष में असंतुलन की वजह से हॉट फ्लैशेस की समस्या होती है, हॉट फ्लैशेस की वजह से इंसान को शरीर में गर्माहट और बैचेनी की समस्या हो जाती है|  महिलाओ में हॉट फ्लैशेस की समस्या मेनोपॉज के बाद ज्यादा होती है, इसके पीछे का कारण मेनोपॉज के बाद शरीर में मौजूद एस्ट्रोजन हार्मोन्स का असंतुलन होता है|

पुरषो में भी हॉट फ्लैशेस की समस्या होती है हालाँकि महिलाओ के मुकाबले पुरुषो में हॉट फ्लैशेस की समस्या कम देखने को मिलती है| पुरुषो में हॉट फ्लैशेस की समस्या होने का कारण टेस्टास्टरोन हार्मोन्स (Testosterone harmone) का लेवल कम होना होता है| जब किसी भी पुरुष में हॉट फ्लैशेस की समस्या होती है तो उसके शरीर में गर्मी काफी ज्यादा बड़ जाती है| हालाँकि हॉट फ्लैशेस के लक्षण पुरुष और महिलाओ में लगभग एक सामान ही होते है| चलिए अब हम आपको हॉट फ्लैशेस होने के करने के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

हॉट फ्लैशेज होने के कारण या हॉट फ्लैशेस क्यों होते है ? (Causes of Hot Flushes in hindi)

यह तो आप समझ ही गए होंगे की हॉट फ्लैशेस होने का मुख्य कारण शरीर में हार्मोनल बदलाव होता है, लेकिन इसके अलावा भी हॉट फ्लैशेस होने के कारण होते है, चलिए अब हम आपको हॉट फ्लैशेस होने के कारण (Causes of Hot Flashes in Hindi) के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • हॉट फ्लैशेस होने का कारण (Causes of Hot Flashes in Hindi) मसालेदार भोजन का सेवन भी होता है|
  • ऐसे पुरुष या महिला जो शराब का सेवन करते है उनमे हॉट फ्लैशेस की समस्या होती है|
  • हॉट फ्लैशेस होने का कारण (Causes of Hot Flashes in Hindi) धूम्रपान भी होता है|
  • टाईट कपड़े पहनने की वजह से हॉट फ्लैशेस की समस्या हो जाती है|
  • हॉट फ्लैशेस होने का कारण (Causes of Hot Flashes in Hindi) तनाव और चिन्ता भी होता है|
  • गर्भावस्था में भी हॉट फ्लैशेस की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है|
  • हाइपर थाइरॉइडिज्म (Hyper Thyrodism in hindi) से पीड़ित इंसान में हॉट फ्लैशेस होने की सम्भावना काफी ज्यादा होती है|
  • हॉट फ्लैशेस होने का कारण (Causes of Hot Flashes in Hindi) कीमोथेरेपी भी होता है|
  • ऐसे पुरुष या महिला जो एंटीबायोटिक दवाओं का अधिक सेवन करते है तो एंटीबायोटिक दवा की वजह से भी हॉट फ्लैशेस की समस्या (Causes of Hot Flashes in Hindi) देखने को मिलती है|

हॉट फ्लैशेज के लक्षण (Symptoms of Hot Flushes in hindi)

अचानक से तेज गर्मी महसूस होने के अलावा भी हॉट फ्लैशेस सके लक्षण होते है, जिनसे आप हॉट फ्लैशेस की पहचान आसानी से कर सकते है| चलिए अब हम आपको हॉट फ्लैशेस के लक्षणों (Symptoms of Hot Flashes in Hindi) के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • अगर आपके शरीर के ऊपरी भाग में पसीना बहुत ज्यादा आ रहा है तो इसके पीछे की वजह हॉट फ्लैशेस (Symptoms of Hot Flashes in Hindi) भी हो सकती है|
  • अगर आपके चेहरे, गर्दन और छाती में बहुत ज्यादा गर्म महसूस हो रही है तो यह हॉट फ्लैशेस के लक्षण (Symptoms of Hot Flashes in Hindi) हो सकते है|
  • हाथो या पैरो की अंगुलियों में झनझनाहट महसूस होना भी हॉट फ्लैशेस के लक्षण में शामिल है|
  • हॉट फ्लैशेस का लक्षण (Symptoms of Hot Flashes in Hindi) हृदय गति सामान्य से अधिक होना भी होता है|

Home Remedies for Hot Flushes

हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय | हॉट फ्लैशेस की आयुर्वेदिक दवा (Home Remedies for hot Flashes in Hindi)

अधिकतर महिलाऐं हॉट फ्लैशेस से छुटकारा पाने के लिए घरेलू नुस्खें आजमाना पसंद करते है| सही तरीके से अगर घरेलू नुस्खों का आजमाया जाएं तो परिणाम बहुत जल्द मिलते है चलिए अब हम हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय या हॉट फ्लैशेस की रामबाण दवा के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

हॉट फ्लैशेज का घरेलू उपचार है सेब का सिरका (Apple cidar vinegar : Home Remedies for Hot Flushes in hindi)

हॉट फ्लैशेस की समस्या को समाप्त करने में सेब का सिरका भी फायदेमंद साबित होता है, सेब के सिरके में मौजूद औषधीय और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण स्ट्रेस या तनाव को कम करने के साथ साथ हॉट फ्लैशेस की समस्या से आराम दिलाने में सहायक होते है| नियमित रूप से एक गिलास ताजे पानी में एक चम्मच सेब का सिरका डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पीने से जल्द आराम मिलता है| सेब के सिरके को आप हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) या हॉट फ्लैशेस की दवा भी कह सकते है|

हॉट फ्लैशेस की घरेलू दवा है पुदीने का तेल (Peppermint oil : Home Remedies for Hot Flushes in hindi)

यह तो आप जानते ही है की शरीर का तापमान बढ़ने की वजह से भी हॉट फ्लैशेस की समस्या होती है ऐसे में शरीर का तापमान कम रखने में पुदीने के तेल के फायदे देखे जा सकते है| दरसल पुदीने की तासीर ठंडी होती है तो पुदीने के तेल में मौजूद गुण शरीर का तापमान कम रखने में सहायक होते है| दिन में दो से तीन बार किसी सूती कपडे या रुमाल में पुदीने के तेल की दो या तीन बूँद डालकर सूंघने से जल्द शरीर का तापमान कम होने के साथ साथ मानसिक तनाव की समस्या में भी आराम मिलता है| कुछ इंसान पुदीने के तेल को हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय या हॉट फ्लैशेस की दवा भी कहते है|

हॉट फ्लैशेज की रामबाण दवा है ब्लैक कोहोश (Black Cohosh : Home Remedies for Hot Flushes in hindi)

अगर आप हॉट फ्लैशेस की समस्या से पीड़ित है और आप हॉट फ्लैशेस का रामबाण इलाज या हॉट फ्लैशेस की बेस्ट दवा ढूंढ रहे है तो ब्लैक कोहोश आपके लिए बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है| ब्लेक कोहोश के फायदे देखते हुए आज के समय में कई कम्पनियो ने ब्लेक कोहोश के कैप्सूल और चाय का निर्माण भी करना शुरू कर दिया है जो आपको आसानी से बाजार में मिल जाते है| नियमित रूप से सिमित मात्रा में ब्लेक कोहोश का सेवन करने से जल्द हॉट फ्लैशेस की समस्या में लाभ मिलता है लेकिन हम सलाह देंगे की ब्लेक कोहोश का सेवन करने से पहले वेध या डॉक्टर से परामर्श जरूर लेना चाहिए|

हॉट फ्लैशेज से छुटकारा दिलाने में पैशन फ्लॉवर के फायदे (Passion flower : Home Remedies for Hot Flushes in hindi)

काफी कम इंसान पेशन फ्लावर के बारे में जानते है लेकिन अगर आप किसी पंसारी की दूकान पर जाते है तो आपको आसानी से पेंशन फ्लावर मिल जाता है| सबसे पहले आपको पेंशन फ्लावर के पॉउडर की जरुरत होती है जो आपको पंसारी की दूकान पर मिल जाएगा, फिर एक कप गर्म पानी लेकर उसमे लगभग एक छोटा चम्मच पैशन फ्लावर पाउडर को डालकर अच्छी तरह से मिलाकर लगभग पांच से दस मिनट के लिए भीगा रहने दें| फिर इस मिश्रण में स्वादनुसार शहद मिलाकर पी लें| रोजाना दिन में दो से तीन बार इस नुस्खे को करने से जल्द हॉट फ्लैशेस की परेशानी में आराम मिलता है| पैशन फ्लॉवर को आप हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) या हॉट फ्लैशेस की अचूक दवा भी कह सकते है|

हॉट फ्लैशेज की घरेलू दवा है अदरक (Ginger : Home Remedies for Hot Flushes in hindi)

अदरक में मौजूद औषधीय, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लामेटरी गुण और जरुरी पोषक तत्व हॉट फ्लैशेस की समस्या को कम करने के साथ साथ मानसिक तनाव को कम करने में सहायक होते है| अगर आप हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय या हॉट फ्लैशेस की अचूक दवा ढूंढ रहे है तो अदरक आपके लिए बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है| अदरक शरीर के हार्मोन्स को भी संतुलित करने में सहायक होते है और हॉट फ्लैशेस की समस्या हार्मोन असंतुलन की वजह से होती है| सबसे पहले एक कप पानी लेकर गर्म होने के लिए रख दें उसके बाद अदरक का छोटा टुकड़ा लेकर उसे छील कर कूट कर पानी डाल दें| पानी को लगभग पांच मिनट तक उबालने के बाद गैस को बंद कर दें, जब पानी ठंडा हो जाएं तो किसी कप में मिश्रण को छान लें, फिर छने हुए मिश्रण में थोड़ा सा शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पीने से जल्द आराम मिलता है|

हॉट फ्लैशेस की घरेलू दवा है नारियल का तेल (Coconut oil : Home Remedies for Hot Flushes in hindi)

यह तो आप सभी जानते है की शरीर का तापमान बढ़ने और मानसिक तनाव की वजह से हॉट फ्लैशेस की समस्या हो सकती है ऐसे में नारियल का तेल आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है| नारियल के तेल में मौजूद औषधीय, एंटी इंफ्लामेटोरी गुण और जरुरी पोषक तत्व और जरुरी पोषक तत्व जैसे फैटी एसिड इत्यादि शरीर के तापमान को कम करने के साथ साथ मानसिक तनाव से राहत दिलाने में सहायक होते है| हर दूसरे या तीसरे दिन रात को सोने से पहले नारियल के तेल से मालिश करने से हॉट फ्लैशेस (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) की समस्या में आराम मिलता है|

हॉट फ्लैशेज से दिलाये राहत ग्रीन टी (Green tea beneficial in Hot Flushes in Hindi)

ग्रीन टी हमारे शरीर के लिए लाभकारी होती है लेकिन कया आप जानते है की ग्रीन टी हॉट फ्लैशेस का इलाज करने में मददगार होती है, दरसल ग्रीन टी में मौजूद औषधीय और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण हॉट फ्लैशेस का उपचार करने में सहायक होते है| सबसे पहले एक कप गर्म पानी को गर्म होने के लिए रख दें फिर उसमे लगभग एक छोटा चम्मच ग्रीन टी डालकर लगभग चार से पांच मिनट तक उबालने के बाद किसी कप में छान लें फिर इसमें स्वादनुसार शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें| दिन में दो या तीन बार ग्रीन टी पीने से जल्द हॉट फ्लैशेस की समस्या से छुटकारा मिल जाता है| ग्रीन टी को हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) या हॉट फ्लैशेस की दवा के रूप में भी जाना जाता है|

हॉट फ्लैशेज की रामबाण दवा है एलोवेरा जूस (Aloe vera : Home Remedies for Hot Flushes in hindi)

एलोवेरा के बारे में हम सभी जानते ही है, एलोवेरा त्वचा से सम्बंधित परेशानियो के साथ साथ शरीर के लिए भी बहुत ज्यादा लाभकारी होता है| अगर आप हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) या हॉट फ्लैशेस की दवा सर्च कर रहे है तो एलोवेरा आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है| एलोवेरा में मौजूद औषधीय गुण और तत्व हॉट फ्लैशेस की समस्या को समाप्त करने में मददगार साबित होते है| नियमित रूप से सुबह आधा कप एलोवेरा जूस पीने से शरीर में हार्मोन्स संतुलित होने लगते है और हॉट फ्लैशेस की परेशानी में आराम प्राप्त होता है|

हॉट फ्लैशेज से बचने के उपाय और टिप्स  (How to prevent Hot Flushes)

अगर आप अपने आपको हॉट फ्लैशेज की समस्या से बचाना चाहते है तो आपको अपनी जीवनशैली और आहार दोनों में कुछ सावधानी और बदलाव लाना बहुत जरूरी है| चलिए अब हम आपको हॉट फ्लैशेस से बचने के उपाय के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • ऊपर आपने पढ़ा की हॉट फ्लैशेस होने का एक कारण धूम्रपान भी होता है, ऐसी महिलाऐं जो धूम्रपान करती है उनमे हॉट फ्लैशेस होने की सम्भावना काफी ज्यादा रहती है| इसीलिए अगर आप अपने आपको हॉट फ्लैशेस की समस्या से बचाना चाहती है तो धूम्रपान बिलकुल ना करें|
  • अधिकतर महिलाओ को तीखा और मसालेदार खाना पसंद होता है, हॉट फ्लैशेस होने का कारण मसालेदार खाना भी होता है| इसीलिए अगर आप अपने आपको हॉट फ्लैशेस की समस्या से बचाना चाहते है तो मसालेदार खाना कम खाएं या बेहतर होगा की मसालेदार भोजन का सेवन ना करें| मसालेदार खाना खाने वाले इंसान के शरीर में मेटाबोलिजम बड़ जाता है जिसकी वजह से हॉट फ्लैशेस की समस्या हो जाती है|
  • जब किसी भी महिला या पुरुष के शरीर का तापमान अधिक होना भी हॉट फ्लैशेस का कारण होता है, इसीलिए शरीर के तापमान को ठंडा रखने की कोशिश करनी चाहिए| गर्मियों के मौसम टाइट कपड़ें ना पहने और सूती कपड़ें पहनने की कोशिश करें| सूती कपड़ें शरीर के लिए आरामदायक होने के साथ साथ उनमे हवा भी पास आसानी से हो जाती है, जिससे शरीर का तापमान संतुलित रहता है|
  • महिलाओ को अपने खाने पीने का भी खास ख्याल रखना चाहिए, पीरियड्स के बाद महिलाओ को विटामिन ई युक्त खाना खाना चाहिए, दरसल विटामिन-ई में सबसे ज्यादा एंटी-ऑक्सीडेंट होते है जो हॉट फ्लैशेस की समस्या को होने से रोकने में मददगार साबित होते है| इसलिए अगर आप भी अपने आपको हॉट फ्लैशेस की समस्या से बचाना चाहते है तो विटामिन से भरपूर भोजन करें|
  • महिलाओं को हॉट फ्लैशेस की समस्या बचने के लिए अपने आहार में सोयाबीन को जरूर शामिल करना चाहिए| दरसल सोयाबीन में आइसोफ्लोवेन्स और फाइटोएस्ट्रोजेन प्रचुर मात्रा में पाएं जाते है जो शरीर में मौजूद एस्ट्रोजन हार्मोन को संतुलित करने में सहायक होते है, सोयाबीन का सेवन आप सब्जी के रूप में भी कर सकते है|

निष्कर्ष – हम उम्मीद करते है की आपको हमारे लेख हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) या हॉट फ्लैशेस की घरेलू दवा में दी गई जानकारी पसंद आई होगी| लेकिन अंत में हम आपको सलाह देंगे की हॉट फ्लैशेस होने पर डॉक्टर या वेध के परामर्श के बाद ही किसी भी दवा का सेवन या घरेलू नुस्खों को अपनाना चाहिए,ऐसा करने से आपको जल्द और पूर्ण लाभ मिलता है| अगर आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी से संतुष्ट नहीं है तो आप गूगल या बिंग पर हॉट फ्लैशेस के घरेलू उपाय (Home Remedies for Hot Flushes in hindi) या हॉट फ्लैशेस की दवा लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa