web analytics
Mon. Jan 30th, 2023
Home Remedies for Heart Blockage in hindi

हार्ट में ब्लॉकेज खोलने के उपाय (Symptoms & Home Remedies for Heart Blockage in hindi) – हार्ट में ब्लॉकेज (heart blockage) के बारे में आप सभी ने कभी ना कभी जरूर सुना होगा, यह एक बहुत ही गंभीर या जानलेवा बीमारी होती है। जिस महिला या पुरुष के हार्ट में ब्लॉकेज होती है उस इंसान के दिल की धड़कन बहुत धीमी हो जाती है| प्राचीन समय में हार्ट ब्लॉकेज की समस्या बड़े इंसानो में देखने को मिलती थी, लेकिन वर्तमान में यह समस्या हर उम्र के पुरुष और महिला के शरीर में देखने को मिल सकती है| आमतौर पर ऐसे पुरुष या महिला जिनकी उम्र 30 वर्ष से ज्यादा होती है उनमे हार्ट ब्लॉकेज की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है| अधिकतर इंसान हार्ट ब्लॉकेज का नाम सुनते ही बहुत ज्यादा दर जाते है लेकिन अगर हार्ट ब्लॉकेज का गंभीरतापूर्वक इलाज किया जाए तो आप इस परेशानी से छुटकारा प्राप्त कर सकते है| काफी सारे इंसान हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) दिखाई देने पर डॉक्टर या वैध से सलाह लेने के बाद हार्ट ब्लॉकेज खोलने के घरेलू उपाय (ayurvedic treatment for heart blockage) को अपनाना शुरू कर देते है|

कुछ इंसानो में हार्ट में ब्लॉकेज की परेशानी जन्म के समय से ही होती है और कुछ इंसानो में बड़े होने पर यह समय हो जाती है| आज के समय में काफी सारे इंसान हार्ट में ब्लॉकेज खोलने के आयुर्वेदिक उपाय अपनाना पसंद करते है, जिन इंसानो को हार्ट ब्लॉकेज के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है वो अक्सर इंटरनेट पर हार्ट में ब्लॉकेज के लक्षण, हार्ट में ब्लॉकेज होने के कारण बताओ, हार्ट में ब्लॉकेज खोलने की रामबाण दवा, हार्ट में ब्लॉकेज खोलने के घरेलू उपाय, ब्लॉकेज खोलने की देसी दवा, बाबा रामदेव हार्ट ब्लॉकेज मेडिसिन इन हिंदी और हार्ट में ब्लॉकेज खोलने की सबसे अच्छी दवा कौन सी है? इत्यादि लिखकर सर्च करते है| हार्ट में ब्लॉकेज के लक्षण के बारे में जानने से पहले हम हार्ट में ब्लॉकेज कया होता है? के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

Table of Contents

हार्ट का ब्लॉकेज क्या है? (What is Heart Blockage in hindi?)

हार्ट ब्लॉकेज को मेडिकल टर्म में कंडक्शन डिसऑर्डर कहा जाता है, दरसल हार्ट ही हमारे शरीर में ब्लड पहुंचाने का काम करता है| जब हृदय का ऊपरी भाग जिसे अट्रिया के नाम से जाना जाता है, जब ह्रदय का ऊपरी भाग ह्रदय के निचले भाग तक सही से इलेक्ट्रिकल सिग्नल नहीं पहुँचा पाता है तो इस परेशानी को हार्ट ब्लॉकेज की समस्या कहा जाता है| आयुर्वेद के अनुसार जब किसी भी इंसान के शरीर में मौजूद हृदय में मौजूद धमनियों की दीवारों पर कफ जमा होने लगता है तो जमा होने वाले कफ की वजह से धमनियो का मार्ग अवरुद्ध हो जाता है, जिसे हार्ट ब्लॉकेज कहा जाता है| वर्तमान में कफ जमा होने के पीछे के कारण असंतुलित खान पीन और रहन-सहन के साथ साथ अन्य कारण भी होते है, जिनके बारे में हम आपको नीचे बता रहे है| जिन इंसानो में जन्म के समय से हार्ट ब्लॉकेज की समस्या होती है तो इस तरह की परेशानी को कॉन्जेनिटल हार्ट ब्लॉकेज (Congenital heart blockege in hindi) के नाम से जाना जाता है, जन्म के बाद या बड़े होने पर होने वाले हार्ट ब्लॉकेज को एक्वायर्ड हार्ट ब्लॉकेज (acquired heart blockege in hindi) कहा जाता है|

जब इंसान की धमनियो में कफ जमा होने की वजह से हृदय में ब्लड की आपूर्ति पूर्ण रूप से नहीं हो पाती है, जिसकी वजह से ब्लड के थक्के बनने शुरू हो जाते है| जिसकी वजह से पीड़ित को हार्ट अटैक या दिल का दौरा पढ़ने की प्रबल सम्भावना होती है, इस तरह की परेशानी को एक्यूट मायोकार्डियल इंफार्कशन इन हिंदी के नाम से जाना जाता है। आज हम अपने इस लेख में हार्ट ब्लॉकेज को खोलने के घरेलू उपाय (heart blockage treatment in hindi) बताने जा रहे है जिन्हे अपनाकर आप आसानी से आराम प्राप्त कर सकते है|

हार्ट में ब्लॉकेज होने के कारण (Heart Blockage Causes)

हार्ट में ब्लॉकेज होने के कारण कई सारे होते है, जिनमे से कुछ कारणों के बारे में हम आपको नीचे दे रहे है

  • कुछ इंसानो में हार्ट में ब्लॉकेज की समस्या जन्मजात होती है|
  • कुछ खास दवाओं के साइड इफेक्ट की वजह से हार्ट ब्लॉकेज की समस्या उत्पन्न हो जाती है|
  •  हार्ट में ब्लॉकेज होने कारण ह्रदय से संबंधित रोग भी होते है|
  • कुछ मामलो में हार्ट में ब्लॉकेज होने कारण हार्ट सर्जरी भी देखने को मिलती है|
  •  हार्ट ब्लॉकेज होने का कारण संक्रमण भी हो सकता है|

हार्ट में ब्लॉकेज कैसे होता है ?

धमनियो में होने वाला ब्लॉक जिस मिश्रण की वजह से होता है| वो मिश्रण फाइबर टिश्यू, कोलेस्ट्रॉल, फैट और सफेद रक्त कोशिकाओं का बना होता है, शुरुआत में मिश्रण की थोड़ी सी मात्रा नसों की दीवारों पर चिपक जाती है, फिर यह समय के अनुसार बढ़ता चला जाता है जिसकी वजह से धमनियो में अवरुद्ध बढ़ने लगता है, जिसके कारण हार्ट ब्लॉक होने लगता है। आमतौर पर हार्ट में ब्लॉक दो तरह का पाया जाता है, जिनके बारे में हम आपको नीचे जानकारी उपलब्ध करा रहे है

स्टेबल ब्लॉक (Stable Plaque in hindi)

अगर धमनियो में चिपकने वाला मिश्रण गाढ़ा और सख्त होता है तो ऐसे मिश्रण की वजह से होने वाले ब्लॉक को स्टेबल ब्लॉक के नाम से जाना जाता है| स्टेबल ब्लॉक में मिश्रण धीरे धीरे जमता है, धीरे धीरे ब्लॉकेज होने की वजह से ब्लड फ्लो को नई आर्टरीज का रास्ता ढूंढ़ने का मौका मिलता है। सरल भाषा में समझे तो ब्लड नए रास्ते के माध्यम से दिल की मांसपेशियों तक आवश्यक ब्लड और ऑक्सीजन पहुंचा देता है| ऐसी स्थिति में स्टेबल ब्लॉक से किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होती है और पीड़ित को गंभीर दिल का दौरा पढ़ने की सम्भावना भी काफी कम हो जाती है|

अनस्टेबल ब्लॉक (Unstable Plaque in hindi)

ऊपर आपने पढ़ा की धमनियो में एक तरह का मिश्रण जमने की वजह से ब्लॉकेज होता है, धमनियो में जमने वाला मिश्रण मुलायम होने की वजह से आसानी से टूट जाता है, इसीलिए इस तरह के ब्लॉक को अनस्टेबल ब्लॉक कहा जाता है। अनस्टेबल ब्लॉक में अचानक से ब्लॉक के टूटने पर थक्का बनने की वजह से कोलेटरल को विकसित होने समय नहीं मिलता है| जिसकी वजह से पीड़ित इंसान की मांसपेशियां डैमेज होने की वजह से अचानक से दिल का दौरा पड़ सकता है या पीड़ित कार्डिएक डेथ की परेशानी से पीड़ित हो जाता है|

हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi)

ऊपर आपने हार्ट में ब्लॉकेज के कारण के बारे में पढ़ा, अब हम आपको हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण के बारे में बताने जा रहे है| हार्ट में ब्लॉकेज के लक्षण के बारे में हर एक इंसान को पता होने चाहिए, क्योंकि अगर आपको हार्ट ब्लॉकेज के लक्षणों के बारे में जानकारी होती है तो आप आसानी से ब्लॉकेज का पता शुरूआती दौर में ही कर सकते है| हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (heart blockage symptoms in hindi) दिखाई देने पर कभी भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए, अगर आप लापरवाही करती है तो पीड़ित को हार्ट अटैक जैसी परेशानियो का सामना करना पड़ सकता है| हार्ट में ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) निम्न प्रकार है

  • किसी भी महिला या पुरुष के सिर में बार बार दर्द की परेशानी हो रही है तो यह हार्ट में ब्लॉकेज का संकेत (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) हो सकता है| हालाँकि सिर में दर्द होने के कारण अन्य भी होते है|
  • हार्ट में ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) में शामिल है चक्कर आना या बेहोश होना|
  • छाती में दर्द की परेशानी होने पर इंसान को लापरवाही नहीं करनी चाहिए क्योंकि छाती में दर्द भी हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) में शामिल है|
  • हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) में शामिल है सांस फूलना
  • अगर आपको छोटी सांस आ रही है तो इसके पीछे का कारण हार्ट में ब्लॉकेज (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) भी हो सकता है|
  • किसी भी इंसान को कम काम करने पर थकान महसूस हो जाती है तो इसके पीछे की वजह हार्ट ब्लॉकेज (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) भी हो सकता है|
  • अगर आपकी गर्दन या ऊपरी पेट या जबड़े या पीठ में दर्द की परेशानी हो रही है तो यह हार्ट ब्लॉकेज का संकेत (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) हो सकता है|
  • हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) में शामिल है पैरों या हाथों में दर्द या सुन्न की समस्या होना|
  • अगर किसी भी पुरुष और महिला के शरीर में मौजूद ह्रदय की गति असामान्य होती है तो इसके पीछे का कारण हार्ट ब्लॉकेज (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) हो सकता है|

Home Remedies for Heart Blockage in hindi

बाबा रामदेव हार्ट ब्लॉकेज मेडिसिन इन हिंदी

वर्तमान में अधिकतर इंसान हर एक बिमारी को दूर करने के लिए सबसे पहले बाबा रामदेव के उपाय अपनाना पसंद करते है| जब किसी भी इंसान के शरीर में हार्ट ब्लॉकेज की समस्या हो जाती है तो वो इंटरनेट पर बाबा रामदेव हार्ट ब्लॉकेज मेडिसिन इन हिंदी, बाबा रामदेव के हार्ट ब्लॉकेज खोलने के घरेलू, ब्लॉकेज खोलने के लिए बाबा रामदेव के घरेलू टिप्स इत्यादि| तो हम आपको बता दें की बाबा रामदेव ने बताया है की हार्ट ब्लॉकेज की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए पीड़ित के शरीर में ब्लड का सर्कुलेशन बेहतर होना जरुरी है| जिसके लिए नियमित रूप से सुबह और शाम कपालभांति और अनुलोम-विलोम और प्राणायाम करने के साथ साथ अपने आहार में लौकी को शामिल करें| ब्लॉकेज खोलने के लिए आप घरेलू उपाय (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi) भी अपना सकते है जिनके बारे में हम आपको नीचे जानकारी दे रहे है

हार्ट ब्लॉकेज को खोलने के लिए घरेलू उपाय (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

हार्ट ब्लॉकेज की समस्या से पीड़ित इंसान हार्ट ब्लॉकेज को रोकने के लिए या हार्ट ब्लॉकेज खोलने के उपाय (heart blockage treatment in ayurveda) अपनाकर रहत प्राप्त कर सकता है| चलिए अब हम आपको हार्ट ब्लॉकेज खोलने के घरेलू उपाय के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

हार्ट के ब्लॉकेज को खोलने का घरेलू उपाय है अनार (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

अधिकतर इंसानो को अनार खाना पसंद होता है, अनार का जूस पीने से खून बढ़ता है यह सभी अच्छी तरह से जानते है लेकिन काफी कम इंसानो को पता है की अनार हार्ट ब्लॉकेज खोलने में सहायक होता है| अनार में मौजूद गुण और जरुरी पोषक तत्व जैसे फाइटोकेमिकल्स धमनियों की परत को क्षतिग्रस्त होने से रोकने में मददगार होते है| हार्ट ब्लॉकेज के लक्षणों (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) को कम करने के लिए नियमित रूप से एक कप अनार के जूस का सेवन करना चाहिए| अनार के रस को हार्ट अटैक से बचने का उपाय (ayurvedic treatment for heart blockage) या हार्ट ब्लॉकेज खोलने का घरेलू उपाय भी कहा जा सकता है|

हार्ट के ब्लॉकेज को खोलने का रामबाण उपाय है अर्जुन की छाल ( Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

अर्जुन की छाल के बारे में आपने कभी ना कभी जरूर सुना होगा, लेकिन काफी कम इंसान अर्जुन की छाल के फायदे के बारे में जानते है, अगर आप हार्ट ब्लॉकेज खोलने की रामबाण दवा (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi) या ब्लॉकेज खोलने की देसी दवा ढूंढ रहे है तो अर्जुन की छाल आपके लिए बेहतरीन विकल्प साबित हो सकती है| अर्जुन की छाल में मौजूद गुण और तत्व हार्ट से सम्बंधित बीमारी जैसे हाई कोलेस्ट्रॉल, आर्टरी में ब्लॉकेज और कोरोनरी आर्टरी डिजीज इत्यादि का इलाज करने में मददगार होते है| ब्लॉकेज खोलने की दवा बनाने के लिए सबसे पहले अर्जुन की छाल लेकर उसे महीन पीस कर चूर्ण बना लें, फिर इस चूर्ण में से चुटकी भर चूर्ण चाय में डालकर पीने से जल्द आराम मिलता है| हार्ट ब्लॉकेज की परेशानी से जल्द आराम पाने के लिए अर्जुन की छाल का इस्तेमाल करने के बारे में आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श जरूर लें|

हार्ट के ब्लॉकेज को खोलने का देसी उपाय है दालचीनी (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

दालचीनी का इस्तेमाल सभी घरो में मसाले के रू में किया जाता है, लेकिन अधिकतर इंसान दालचीनी के फायदे से अनजान होते है| दालचीनी में मौजूद औषधीय गुण और तत्व शरीर में ख़राब या बेड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने के साथ साथ हार्ट को मजबूती प्रदान करने में मदद करते है| हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) को कम करने या ब्लॉकेज खोलने के लिए दालचीनी पॉउडर में शहद मिलाकर खाने से आराम (Heart Blockage kholne ke upay) मिलता है|

हार्ट ब्लॉकेज को खोलने का घरेलू उपचार है लाल मिर्च (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

लाल मिर्च का इस्तेमाल तो सभी घरो में किया जाता है लेकिन कया आपको पता है की लाल मिर्च हार्ट के ब्लॉकेज खोलने में भी मददगार होती है| लाल मिर्च में कैप्सेसिन नामक तत्व मौजूद होता है जो शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने के साथ साथ ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने में सहायक होता है| लाल मिर्च को आप हार्ट के ब्लॉकेज खोलने के उपाय (ayurvedic treatment for heart blockage) भी कहा जा सकता है, ब्लॉकेज खोलने की दवा बनाने के लिए सबसे पहले एक कप गर्म पानी लेकर उसमे आधा या एक चम्मच लाल मिर्च डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें| नियमित रूप से इस उपाय को करने से जल्द आराम मिलता है, लेकिन हम आपको सलाह देंगे की इस उपाय को अपनाने से पहले वैध या डॉक्टर से परामर्श जरूर लें|

हार्ट ब्लॉकेज खोलने की देसी दवा है अलसी के बीज (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

अलसी के बीज के बारे में आप सभी अच्छी तरह से जानते होंगे अलसी के बीज हमारे शरीर के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होने के साथ साथ कई सारी परेशानियो को दूर करने में फायदेमंद होते है| अलसी के बीज में अल्फालिनोलेनिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो बंद धमनियों को साफ करने के साथ साथ ह्रदय को स्वस्थ रखने में मददगार होता है, अगर आप हार्ट के ब्लॉकेज खोलने के घरेलू उपाय (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi) या ब्लॉकेज खोलने का घरेलू इलाज सर्च कर रहे है तो अलसी के बीज आपके लिए बेहतरीन विकल्प साबित हो सकते है| नियमित रूप से पानी के साथ एक चम्मच अलसी के बीज का सेवन करने से जल्द आराम मिलता है, आप चाहे तो अलसी के बीजो का सेवन सूप या स्मूदी में मिलाकर भी कर सकते हैं।

ब्लॉकेज खोलने का घरेलू उपाय है लहसुन | ब्लॉकेज खोलने में लहसुन के फायदे (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

लहसुन खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ साथ हमारे शरीर की कई सारी परेशानियो को दूर करने में सहायक होता है| लहसुन में मौजूद औषधीय गुण और तत्व बंद धमनियों को साफ करने के साथ साथ रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करने में मदद करता है, लहसुन ब्लोड्ड सर्कुलेशन को बेहतर करने के अलावा शरीर में मौजूद बेड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को काम करने में सहायक होता है| अगर आप हार्ट में ब्लॉकेज खोलने का उपाए या हार्ट ब्लॉकेज के लक्षणों (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) को कम करने का घरेलु नुस्खा सर्च कर रहे है तो लहसुन आपके बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है| हार्ट ब्लॉकेज खोलने की दवा बनाने के लिए सबसे पहले एक कप दूध लेकर उसे गर्म होने के लिए रख दें, फिर इस दूध में तीन लहसुन की कली छीलकर छोटे छोटे टुकड़े में काटकर डाल , दूध को अच्छी तरह से उबालकर गैस बंद कर दें| जब मिश्रण ठंडा हो जाएं तो पी लें| नियमित रूप से रात को सोने से पहले लहसुन वाला दूध पीने से जल्द लाभ मिलता है|

काफी सारे इंसानो के मन में सवाल होता है क्या लहसुन खाने से ब्लॉकेज दूर होता है? या लहसुन से ब्लॉकेज कैसे खोलें? तो हम आपको बता दें की लहसुन में मौजूद तत्व ब्लॉकेज खोलने में लाभकारी साबित होते है| लहसुन से ब्लॉकेज खोलने के लिए लहसुन वाला दूध पिएँ या अपने आहार में लहसुन (Heart Blockage kholne ke upay) का इस्तेमाल करें|

हार्ट ब्लॉकेज खोलने का उपाय है हल्दी (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

प्राचीन समय से हल्दी को एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में जाना जाता है, हल्दी को आप ब्लॉकेज खोलने के उपाए या ब्लॉकेज के लक्षणों को कम करने की दवा (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) भी कह सकते है| हल्दी में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लामेटरी गुण बंद धमनियों को खोलने में सहायक होते है| हल्दी में मौजूद करक्यूमिन खून को जमने में रोकने में मददगार होता है, हार्ट ब्लॉकेज का देसी इलाज करने के लिए सबसे पहले एक गिलास गर्म दूध लेकर उसमे थोड़ी सी हल्दी डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पीने से जल्द आराम प्राप्त होता है|

हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण कम करने में सहायक है नींबू (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

गर्मियों में नींबू पानी सभी पीना पसंद करते है, नींबू हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होने के साथ साथ कई सारी परेशानियो को दूर करने में साहयक होता है| नींबू में मौजूद गुण (Heart Blockage kholne ke upay) और जरुरी पोषक तत्व जैसे विटामिन-सी रक्तचाप में सुधार लाने में, धमनियों की सूजन को कम करने में, ख़राब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में और ब्लड सर्कुलेशन में ऑक्सीडेटिंव के नुकसान को होने से रोकने में मददगार होता है| हार्ट ब्लॉकेज खोलने की घरेलु दवा बनाने के लिए सबसे पहले एक गिलास गुनगुना पानी लेकर उसमे थोड़ा सा शहद, थोड़ा सा काली मिर्च पाउडर और लगभग एक नींबू का रस डालकर सभी चीजों को अच्छी तरह से मिला कर पी लें। नियमित रूप से दिन में एक बार इस नुस्खे को अपनाने से जल्द आपको आराम मिलता है|

हार्ट ब्लॉकेज खोलने की देसी दवा है अंगूर (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

अंगूर के बारे में सभी बहुत अच्छी तरह से जानते ही है, अंगूर स्वादिष्ट होने के साथ साथ सेहतमंद फल के रूप में जाना जाता है। अंगूर में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व जैसे फाइबर, कैलोरी, विटामिन-सी, विटामिन-ई हार्ट अटैक के लक्षणों को कम (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) करने में सहायक होते है| हार्ट ब्लॉकेज होने पर इंसान को दिल का दौरा या हार्ट अटैक पढ़ने की सम्भावना काफी ज्यादा होती है, इसीलिए हार्ट अटैक की समस्या से बचने के लिए नियमित रूप से सिमित मारा में अंगूर का सेवन करें|

हार्ट के ब्लॉकेज खोलने के देसी इलाज है अदरक (Heart Blockage kholne ke upay)

सर्दियों में अदरक वाली चाय पीना सभी को पसंद होता है, अदरक को लाभकारी औषधि के रूप में जाना जाता है| अदरक में मौजूद गुण और तत्व शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाने के साथ साथ हृदय रोग के लक्षणों (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) को कम करने में मददगार होते है| हार्ट ब्लॉकेज खोलने के लिए आप अदरक का इस्तेमाल चाय के रूप में या सब्जी में भी अदरक का इस्तेमाल कर सकते है|

हार्ट ब्लॉकेज का देसी इलाज है तुलसी (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

प्राचीन समय से तुलसी को महत्वपूर्ण औषधि (Heart Blockage kholne ke upay) के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, तुलसी में मौजूद गुण और जरुरी पोषक तत्व हार्ट अटैक के बचने में काफी मददगार होते है| हार्ट ब्लॉकेज खोलने का उपाय अपनाने के लिए सबसे पहले तुलसी के 20 से 25 पत्तो को धोकर उन्हें पीस कर रस निकाल लें, फिर इस रस में थोड़ा नींबू का रस और थोड़ा सा शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर थोड़ी थोड़ी मात्रा में चाट कर सेवन कर लें| लेकिन अगर आप मधुमेह के रोग से पीड़ित है तो इस नुस्खे को ना करें क्योंकि शहद शुगर को बड़ा सकता है| तुलसी के इस नुस्खों को हार्ट ब्लॉकेज का देसी इलाज (heart blockage ka desi ilaj) कहा जाता है।

हार्ट ब्लॉकेज का देसी उपचार है लौकी (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

ब्लॉकेज खोलने के लौकी का इस्तेमाल कैसे किया किया जाता या लौकी से हार्ट ब्लॉकेज कैसे खोलें? यह सवाल काफी सारे लोगो के मन में रहता है| लौकी का सेवन अधिकतर घरो में किया जाता है लेकिन अधिकतर इंसान लौकी के फायदे के बारे में नहीं जानते है, लौकी में मौजूद औषधीय गुण और तत्व हृदय रोग के लक्षणो (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) को कम करने में मददगार होते है| लौकी का जूस ब्लड की अम्लता को कम करने में मददगार होता है, हार्ट ब्लॉकेज खोलने की दवा बनाने के लिए सबसे पहले लौकी का जूस निकालकर उसमे थोड़ी सी तुलसी की पत्तियां मिलाकर पी लें| अगर आपको स्वाद अच्छा नहीं लग रहा है तो आप इसमें थोड़ा सा सेंधा नमक डालकर भी पी सकते है, कुछ इंसान लौकी को हार्ट ब्लॉकेज खोलने का घरेलू नुस्खा (Heart Blockage kholne ke upay) या ब्लॉकेज खोलने की देसी दवा भी कहते है|

हार्ट ब्लॉकेज का देसी इलाज है इलाइची (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi)

इलायची का इस्तेमाल चाय से लेकर खीर इत्यादि चीजों में किया जाता है, इलाइची स्वाद बढ़ाने के साथ साथ शरीर के लिए भी लाभकारी होती है| इलाइची में मौजूद गुण (Heart Blockage kholne ke upay) और तत्व कोलेस्ट्रोल के लेवल को बेहतर बनाने के साथ साथ ब्लड में फाइब्रिनोलिटिक गतिविधि को बढ़ाने में मददगार होते है| फाइब्रिनोलिटिक का मुख्य काम ब्लड के थक्के को बनने से रोकने के साथ साथ हार्ट ब्लॉकेज को कम करना होता है|

हार्ट ब्लॉकेज में क्या खाएं या हार्ट ब्लॉकेज में किन चीजों का सेवन करना चाहिए

ऊपर आपने हार्ट ब्लॉकेज खोलने के घरेलू उपाय (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi) के बारे में जाना, किसी भी बिमारी को दूर करने के लिए जितनी जरुरी दवा होती है उतना ही जरुरी उस इंसान का खान पान भी होता है| सही और उचित आहार से आप आसानी से बिमारी को कम करने में सफल हो सकते है, हार्ट में ब्लॉकेज की समस्या से पीड़ित इंसान को यह जानकारी जरूर होनी चाहिए की हार्ट ब्लॉकेज में क्या खाएं या हार्ट ब्लॉकेज में किन चीजों का सेवन करना चाहिए, चलिए अब हम आपको हार्ट में ब्लॉकेज की परेशानी से पीड़ित इंसान को क्या खाना चाहिए

  • हार्ट में ब्लॉकेज (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi) की समस्या से पीड़ित इंसान को गेंहू, राई, चावल, जौ, मकई और बाजरा इत्यादि का सेवन करना चाहिए|
  • हार्ट ब्लॉकेज में कौन से फल खा सकते है? यह एक ऐसा सवाल है जो काफी सारे लोगो के मन में होता है तो हम आपको बता दें की हार्ट ब्लॉकेज की परेशानी में सेब, संतरा, नींबू, नाशपाती, ब्लूबेरी और क्रैनबेरी खा सकते है|
  • ब्लॉकेज की समस्या से पीड़ित इंसान को अपने आहार में सेलेरी, पालक, गाजर, आलू, कद्दू, खीरा और प्याज इत्यादि को शामिल कर सकते है|
  • बीन्स और फलियां भी हार्ट में ब्लॉकेज वाले इंसान के लिए लाभकारी होती है|
  • हार्ट ब्लॉकेज की समस्या से पीड़ित इंसान को कम वसा युक्त दूध और दही का सेवन करने की सलाह दी जाती है|

हार्ट में ब्लॉकेज में परहेज या हार्ट ब्लॉकेज में क्या नहीं खाएं

हार्ट में ब्लॉकेज की समस्या से पीड़ित इंसान अगर परहेज नहीं करता है तो ऐसी स्थिति में पीड़ित की परेशानी बड़ सकती है| चलिए अब हम आपको हार्ट में ब्लॉकेज में परहेज के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • हार्ट ब्लॉकेज की समस्या से पीड़ित इंसान को खाने में अधिक नमक या ज्यादा नमक वाली चीजों का सेवन करने से परहेज करना चाहिए|
  • वसा युक्त डेयरी उत्पादों जैसे दूध और मक्खन इत्यादि का सेवन नहीं करना चाहिए|
  • हार्ट में ब्लॉकेज वाले इंसान को तले-भुने और मसालेदार चीजों से परहेज करना चाहिए|
  • जंक फ़ूड का सेवन करने से परहेज करें|

निष्कर्ष – हम उम्मीद करते है की आपको हमारे लेख हार्ट ब्लॉकेज खोलने के उपाय (Home Remedies for Heart Blockage in Hindi) और हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण में दी गई जानकारी पसंद आई होगी,लेकिन अंत में हम आपको सलाह देंगे की अगर आपको हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण दिखाई दे रहे है तो लापरवाही बिलकुल ना करें तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें| अगर आपको हार्ट ब्लॉकेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहे है तो गूगल या बिंग पर हार्ट ब्लॉकेज खोलने के उपाय और हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Symptoms of Heart Blockage in Hindi) लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!