web analytics
Sun. Sep 25th, 2022
Home Remedies for Diabetes in hindi

शुगर (डायबिटीज) का आयुर्वेदिक इलाज (Home Remedies for Diabetes in hindi) :  आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में इंसान कई सारी परेशानियो या बीमारियो का सामना करना पड़ता है, जिनमे से एक बहुत ही आम बिमारी है शुगर की| शुगर को मधुमेह या डाइबिटीज़ के नाम से भी जाना जाता है, शुगर की बीमारी ऐसी है की अगर किसी भी पुरुष या महिला को हो जाएं तो जिंदगी भर उसका साथ नहीं छोड़ती है| कुछ इंसान शुगर को जड़ से खत्म करने का घरेलू उपाय सर्च करते है तो हम आपको बता दें की शुगर को जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता है लेकिन आप शुगर को कंट्रोल जरूर कर सकते है| हालाँकि मधुमेह या शुगर के बारे में अधिकतर इंसान जानते है लेकिन काफी सारे इंसानो को शुगर या डाइबिटीज़ के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है आज हम अपने इस लेख में शुगर के बारे में अधिक से अधिक जानकारी उपलब्ध करने की कोशिश कर रहे है|

पहले के समय में डायबिटीज की परेशानी बड़ो या बुजुर्गो को होती थी लेकिन आज की ख़राब जीवनशैली की वजह से डाइबिटीज की बिमारी बच्चो में भी देखी जा सकती है| दुनियाभर में डाइबिटीज या मधुमेह के मरीज कितने ज्यादा हो गए है इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है की विश्व स्वास्थ्य संगठन इस बिमारी के प्रति लोगो को जागरूक करने के लिए अंतरराष्ट्रीय मधुमेह दिवस मनाते है| दुनिया भर में 380 मिलियन से ज्यादा इंसान मधुमेह के रोग से पीड़ित है, शुगर को कंट्रोल करने के लिए आप शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय या शुगर की आयुर्वेदिक दवा का सेवन कर सकते हैं। 

अक्सर मधुमेह से पीड़ित इंसान इंटरनेट पर शुगर के घरेलू उपाय, शुगर का घरेलू इलाज, शुगर की रामबाण दवा, शुगर कम करने के घरेलू उपाय, शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय, शुगर को जड़ से खत्म करने का इलाज, शुगर का देसी इलाज, शुगर का शर्तिया इलाज, शुगर का आयुर्वेदिक इलाज, डायबिटीज के घरेलू उपाय, मधुमेह की घरेलू दवा, Home Remedies for Diabetes in hindi इत्यादि लिखकर सर्च करता है| चलिए अब हम सबसे पहले आपको डायबिटीज कई है इसके बारे में जानकारी उपलब्ध कराते है – 

Table of Contents

डायबिटीज (शुगर या मधुमेह) क्या है? (What is Diabetes in Hindi?)

लगभग सभी इंसानो ने कभी ना कभी शुगर या मधुमेह या डाइबिटीज का नाम जरूर सुना होगा, लेकिन काफी इंसान ऐसे होते है जिन्होंने शुगर का नाम तो सुना होता है लेकिन उन्हें शुगर के बारे में जानकारी नहीं होती है| यह तो आप जानते ही होंगे की हमारे शरीर में मौजूद ब्लड में शुगर होती है ब्लड में शुगर के लेवल कंट्रोल करने के लिए इन्सुलिन मौजूद होती है जब शरीर में इन्सुलिन कम बनने लगती है तो शुगर की मात्रा बड़ जाती है तो इस स्थिति को मधुमेह या डाइबिटीज कहा जाता है|

आयुर्वेद के अनुसार डायबिटीज या मधुमेह का रोग वात, पित्त और कफ दोष के असंतुलित होने पर होता है, हालाँकि मधुमेह के रोग में तीनो दोष ही असंतुलित होते है लेकिन मुख्यत कफ दोष के असंतुलन की वजह यह परेशानी होती है| डायबिटीज का इलाज करने के लिए कुछ लोग शुगर की दवा या शुगर की टेबलेट खा लेते है लेकिन अगर आप सही से उपयोग करें तो शुगर का इलाज आप घरेलू नुस्खों से भी कर सकते है| शुगर के घरेलू उपाय जानने से पहले आपको यह जानना भी बहुत जरुरी है की डायबिटीज या मधुमेह होने के कारण कया है?

डायबिटीज (शुगर,  मधुमेह) होने के कारण (Causes of Diabetes in Hindi)

डायबिटीज या मधुमेह होने कारण कई सारे होते है लेकिन शुगर होने का मुख्य कारण होता है पैनक्रियास नामक ग्रन्थि का सही से काम ना करना| दरसल पैनक्रियास नामक ग्रन्थि में से अलग अलग तरह के हार्मोन्स निकलते है,  जिनमे से प्रमुख हार्मोन्स इन्सुलिन और ग्लूकॉन होते है| हमारे शरीर के लिए इंसुलिन बहुत उपयोगी हार्मोन्स है, शरीर के अन्य हिस्सों में शुगर इन्सुलिन ही पहुंचाती है| चलिए अब हम आपको डायबिटीज या शुगर होने के कारण के बारे में बताते है –

  • जब किसी भी इंसान के शरीर में इंसुलिन हार्मोन का निर्माण कम मात्रा में होने लगता है तो ऐसे में ब्लड में शुगर की मात्रा बढ़ने लगती है और इस परेशानी को हाई ब्लड शुगर की समस्या कहते है|
  • जब इंसान के शरीर में इंसुलिन का निर्माण ज्यादा होने लगता है तो ऐसी स्थिति में ब्लड में शुगर की मात्रा कम हो जाती है और इस स्थिति को लो ब्लड शुगर की परेशानी कहते है|
  • डायबिटीज या शुगर होने के कारण में शामिल है अनुवांशिकता| अगर आपके परिवार के किसी भी सदस्य जैसे भ, बहन, माँ और बाप को शुगर की बिमारी है तो आपको भी शुगर या डायबिटीज होने की प्रबल संभावना होती है|
  • डायबिटीज या शुगर होने का कारण मोटापा भी होता है|

बच्चो में शुगर होने का कारण 

आज के ज़माने में बच्चो में भी शुगर की समस्या काफी ज्यादा देखने को मिल रही है ऐसे माँ बाप काफी ज्यादा परेशान हो जाते है| कुछ इंसान बच्चो में शुगर होने के कारण कया है, बच्चो में शुगर की बिमारी क्यों होती है? इत्यादि लिखकर बच्चो में शुगर होने का कारण जानना चाहते है| दरसल बच्चो में शुगर या डायबिटीज होने का मुख्य कारण आजकल का रहन-सहन और खान-पान होता है, आज के ज़माने के बच्चे अधिक से अधिक समय फ़ोन, कंप्यूटर या वीडियो गेम्स खेलने में बिताते है| शारीरिक गतिविधि बहुत कम करने की वजह और जंक फ़ूड या फ़ास्ट फ़ूड या असंतुलित भोजन की वजह से शुगर होने का खतरा बहुत ज्यादा रहता है|

शुगर (डायबिटीज,  मधुमेह) कितने प्रकार की होती है? – Types of Diabetes in Hindi

काफी सारे इंसानो के मन में यह सवाल जरूर होता है की आखिए शुगर कितने प्रकार की होती है, अधिकतर इंसान जानते है की शुगर दो प्रकार की होती है जबकि मुख्य तौर पर शुगर या डायबिटीज तीन प्रकार की होती है, छलिए अब हम आपको डायबिटीज या शुगर के प्रकार के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

टाइप-1 डायबिटीज (Type 1 Diabetes in hindi)

टाइप 1 डायबिटीज पहले प्रकार की शुगर होती है, इस प्रकार की डायबिटीज से पीड़ित इंसान के शरीर में इन्सुलिन का निर्माण जरुरत से कम होने लगता है या आप ऐसे भी समझ सकते है की जब शरीर में इंसुलिन बनाने वाली कोशिकाएं नष्ट हो जाती है तो ऐसे में इंसान के शरीर में इन्सुलिन का निर्माण नहीं होता है| इस स्थिति में पीड़ित को इंसुलिन के इंजेक्शन लगाकर शरीर में इन्सुलिन की मात्रा को संतुलित की जाती है|

टाइप-2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes in hindi)

इस टाइप की शुगर में पीड़ित के शरीर में इन्सुलिन का निर्माण तो होता है लेकिन काफी कम मात्रा में निर्माण होता है या शरीर में इन्सुलिन का इस्तेमाल सही तरीके से नहीं होता है| इस टाइप की शुगर सबसे ज्यादा देखने को मिलती है और यह किसी भी उम्र के पुरुष या महिला को हो सकती है|

गर्भावधि मधुमेह (gestational diabetes in hindi) 

इस टाइप की शुगर या डायबिटीज केवल महिलाओ में पाई जाती है और यह महिला की गर्भावस्था के दौरान देखने को मिलती है| हालाँकि अधिकतर मामलो में गर्भावस्था में टाइप 2 डायबिटीज की परेशानी ज्यादा देखने को मिलती है|

टाइप 1 डायबिटीज होने के कारण

टाइप 1 डायबिटीज होने के कारण कई सारे हो सकते है, चलिए उनमे से कुछ कारण के बारे में हम आपको बता रहे है| टाइप 1 डायबिटीज होने के कारण निम्न प्रकार है

  • शरीर में इम्यून सिस्टम इंसुलिन बनने वाली कोशिकाओं को नष्ट कर देता है।
  • टाइप 1 डायबिटीज होने का कारण संक्रमण भी होता है|
  • अनुवांशिकता की वजह से भी हो सकती है|

टाइप 2 डायबिटीज होने के कारण

यह तो हम सभी जानते है की टाइप 2 डायबिटीज सबसे ज्यादा देखने को मिलती है, इसीलिए अधिकतर इंसान टाइप 2 डायबिटीज होने के कारण सबसे ज्यादा सर्च किए जाते है| चलिए अब हम आपको टाइप 2 डायबिटीज होने के कारण के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • टाइप 2 डायबिटीज होने का कारण मोटापा भी होता है|
  • शारीरिक क्रियाओं में कमी होना भी टाइप 2 डायबिटीज होने का प्रमुख कारण होता है|
  • जब शरीर में इन्सुलिन सही तरीके से काम नहीं कर रही हो|
  • इस टाइप की शुगर भी अनुवांशिक होती है।

गर्भावधि शुगर के कारण (gestational diabetes)

यह तो आपने ऊपर पढ़ ही लिया है की गर्भावस्था डायबिटीज केवल महिलाओ में देखने को मिलती है, चलिए अब हम आपको इस टाइप की शुगर होने के कारण के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है  

  • अगर गर्भवती महिला के परिवार में किसी को डायबिटीज की परेशानी है तो उस महिला को भी शुगर की परेशानी होने की प्रबल संभावना होती है|
  • महिला को हाई बीपी की समस्या है तो भी शुगर की परेशानी हो सकती है|
  • गर्भावस्था डायबिटीज होने का कारण महिला का गर्भावस्था के पहले ज्यादा वजन होना भी होता है।
  • अगर महिला को पहले कभी गर्भपात हुआ है तो गर्भावस्था डायबिटीज की परेशानी का सामना करना पढ़ सकता है।
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome) से पीड़ित महिला को भी इस प्रकार की शुगर हो सकती है|

डायबिटीज या शुगर होने के लक्षण (Symptoms of Diabetes in Hindi)

ऊपर आपने डाइबिटीज़ के बारे में और डाइबिटीज़ होने के कारण के बारे में जानकारी प्राप्त की, अब हम आपको डाइबिटीज़ या शुगर के लक्षण के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है, डाइबिटीज़ के लक्षण (Sugar ke Lakshan) निम्न प्रकार है  –

  • बिना किसी कारण अगर आपको तेजी से भूख और प्यास लगने लगे तो इसका कारण शुगर (Sugar ke Lakshan) की परेशानी हो सकती है|
  • शुगर के लक्षण (Sugar ke Lakshan) में शामिल है बार पेशाब आना या अधिक पेशाब आना
  • अगर आपको पूरे दिन शरीर में थकावट या हमेशा शरीर थका थका महसूस हो रहा हो तो इसका कारण मधुमेह हो सकता है|
  • किसी भी इंसान का अचानक से वजन बढ़ने या कम होने लगे तो यह भी डाइबिटीज़ के लक्षण में शामिल है|
  • शुगर से पीड़ित इंसान को त्वचा में खुजली की परेशानी या त्वचा से सम्बंधित समस्याएँ होने की प्रबल सम्भावना होती है|
  • पूरे दिन जी मिचलाना या उल्टी का मन होता है|
  • बार बार पानी पीने के बाद भी मुँह सूखना भी शुगर के लक्षण (Sugar ke Lakshan) में शामिल है|
  • डाइबिटीज़ से पीड़ित इंसान को नेत्र संबंधी समस्याएँ होने की सम्भावना ज्यादा होती है इसीलिए अगर आपको नेत्र से सम्बंधित परेशानी हो रहे है तो शुगर की जांच भी जरूर करा लें|
  • अगर आपको डाइबिटीज़ या शुगर की परेशानी है और आपके शरीर में किसी भी प्रकार की चोट, घाव या कट लग गया है तो उसे ठीक होने में ज्यादा समय लगता है|
  • डायबिटीज से पीड़ित इंसान के शरीर की इम्युनिटी पावर कमजोर होने लगती है|
  • महिलाओं में शुगर की वजह से योनि में कैंडिड इंफेक्शन होने को खतरा होता है|
  • शरीर में मौजूद ब्लड में जब शुगर की मात्रा बड़ जाती है तो इसकी वजह से तंत्रिका क्षतिग्रस्त होने की सम्भावना बड़ जाती है जिसके कारण पीड़ित के हाथ और पैरों में झनझनाहट, दर्द और जलन की समस्या (Sugar ke Lakshan) हो सकती है।
  • डायबिटीज से पीड़ित इंसान के शरीर की संक्रमण से लड़ने की क्षमता कमजोर हो जाती है ऐसे में मसूड़ों में संक्रमण हो सकता है और मसूड़े कमजोर हो जाते है|

और अधिक पढ़ें – पुरुषो & महिलाओं में शुगर के लक्षण

Home Remedies for Diabetes in hindi

शुगर (डायबिटीज,  मधुमेह) का घरेलू इलाज और दवा

शुगर के मरीज शुगर की अंग्रेजी दवा खाने से ज्यादा घरेलू नुस्खे आजमाना ज्यादा पसंद करते है, चलिए अब हम आपको शुगर के घरेलू उपाय या शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

शुगर का देसी इलाज है करी पत्ता (Home Remedies for Diabetes in hindi)

प्राचीन समय से आयुर्वेद में करी पत्ता को एक औषधि के रूप में जाना जाता है, करी पत्ते में मौजूद औषधीय और एंटी डायबिटिक गुण शरीर में इंसुलिन की प्रक्रिया को कण्ट्रोल करने में मददगार होते है| सबसे पहले आपको आठ से दस करी पत्ते लेकर उन्हें अच्छी तरह से धो कर सेवन कर लें, नियमित रूप से करी पत्ते का सेवन करने से बहुत जल्द लाभ मिलता है| करी पत्ते को आप शुगर का देसी इलाज या शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कह सकते है|

शुगर का घरेलू इलाज है अदरक (Home Remedies for Diabetes in hindi)

टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए अदरक एक प्राकृतिक एंटी डायबिटिक एजेंट के रूप में काम करता है, अदरक में मौजूद हाइपोग्लिसेमिक प्रभाव शुगर को कम करने में मददगार होता है| अदरक आपको आसानी से बाजार में मिल जाता है, सबसे पहले थोड़ा सा अदरक लेकर उसे कद्दूकस कर लें, फिर एक कप पानी किसी बर्तन में डालकर पानी को गर्म होने के लिए रख दें, उसके बाद पानी में आधा या एक चम्मच कद्दूकस करा हुआ अदरक डालकर पानी को उबाल लें, लगभग पांच मिनट उबालने के बाद गैस को बंद कर दें और पानी को ठंडा होने दें| जब पानी ठंडा हो जाएं तो उसे छानकर पी लें, नियमित रूप से दिन में एक या दो बार इस उपाय को करने से जल्द लाभ मिलता है| अदरक के इस उपाय को शुगर कम करने के घरेलू उपाय या शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कह सकते है|    

मधुमेह का घरेलू उपचार है ग्रीन टी (Home Remedies for Diabetes in hindi)

यह तो हम सभी जानते है की ग्रीन टी हमारे शरीर के लिए लाभकारी होने के साथ साथ कई सारी बीमारियो को भी दूर करने में सहायक होती है| सबसे पहले एक कप पानी लेकर उसे गर्म होने के लिए रख दें, जब पानी अच्छी तरह से गर्म हो जाएं तो उसे एक कप में कर लें, फिर उस पानी में दो से तीन मिनट के लिए एक ग्रीन टी बैग डाल दें| फिर ग्रीन टी बैग को निकालकर चाय का एवं कर लें, दिन में दो से तीन कप ग्रीन टी पीने से जल्द आराम मिलता है| कुछ इंसान ग्रीन टी को शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय या शुगर का शर्तिया इलाज भी कहते है|

डायबिटीज की रामबाण दवा है नीम (Neem : Home Remedy for Diabetes in Hindi)

प्राचीन समय से नीम को एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में जाना जाता है, नीम में मौजूद औषधीय गन और पोषक तत्व बहुत सारी बीमारियो को समाप्त करने में मददगार होते है| नीम शुगर की परेशानी को दूर करने में भी मददगार होता है, अगर आपको डायबिटीज या शुगर के लक्षण (sugar ke lakshan) दिखाई दे रहे है तो आपको नीम के पत्तों के जूस का सेवन पीना स्टार्ट कर देना चाहिए| नीम को काफी सारे इंसान शुगर का आयुर्वेदिक इलाज या शुगर का घरेलू उपचार भी कहते है| आयुर्वेद की माने तो नीम के पत्तो के जूस का सेवन सुबह खाली पेट पीने से बहुत जल्द आराम मिलता है, लेकिन हम आपको सलाह देंगे की नीम के पत्तो का जूस पीने से पहले वैध या चिकित्सक से सलाह जरूर लें|

डाइबिटीज़ को कम करने का घरेलु उपाय है आंवले का रस ( Amla Juice :  Helps to Control Blood Sugar Level in Hindi)

आंवले में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व कई सारी परेशानियो को दूर करने में मददगार होते है| नियमित रूप से सुबह और शाम आँवले के जूस में थोड़ा सा हल्दी पॉउडर मिलाकर पीने से बहुत जल्द डायबिटीज के लक्षण (Sugar ke lakshan) कम होने लगते है| आंवले के इस घरेलू उपाय को डायबिटीज का देसी इलाज या डायबिटीज को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कह सकते है|

डायबिटीज का घरेलु उपचार है शलजम (Turnip Beneficial in Diabetes in Hindi)

शलजम का सेवन लगभग सभी इंसान करते है, शलजम का इस्तेमाल सलाद या सब्जी के रूप में किया जाता है| लेकिन कया आप जानते है की शलजम शुगर की परेशानी को कम करने में लाभकारी होता है, शुगर के इलाज के दौरान शलजम का सेवन काफी लाभकारी माना जाता है| शलजम को शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय या डायबिटीज की घरेलू दवा भी कहा जा सकता है|

डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज है अलसी के बीज (Flaxseed Helps to Control Diabetes in Hindi)

अलसी के बीज आपको पंसारी की दूकान पर आसानी से मिल जाते है, अलसी के बीज में मौजूद औषधीय गुण और फाइबर इत्यादि पोषक तत्व शुगर को कंट्रोल करने में मददगार साबित होते है|अगर आप डायबिटीज की समस्या को खत्म करने के लिए शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय या डायबिटीज का शर्तिया इलाज ढूंढ रहे है तो अलसी के बीज आपके लिए फायदेमंद हो सकते है|  सबसे पहले अलसी के बीजो को पीसकर चूर्ण बना लें या आज के समय आपको बाजार में भी अलसी के बीजो का पॉउडर भी मिलता है आप वो भी इस्तेमाल कर सकते है, नियमित रूप से सुबह खाली पेट गर्म पानी के साथ अलसी के बीजो का चूर्ण का सेवन करने से बहुत जल्द लाभ माना जाता है| कुछ इंसानो का मानना है की अलसी के बीजो का सेवन नियमित रूप से करने से बहुत जल्द डायबिटीज के मरीज की भोजन के बाद की शुगर में काफी कमी देखने को मिलती है|

मधुमेह का घरेलू इलाज है अमलतास (Amaltas Helps to Control Diabetes in Hindi)

अगर आप मधुमेह की परेशानी से पीड़ित है और आप शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय सर्च कर रहे है तो अमलतास के पत्ते आपके लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकते है| सबसे पहले अमलतास के पत्ते लेकर उन्हें अच्छी तरह से धोकर महीन पीस लें, फिर इस पेस्ट को छान कर रस निकाल लें| नियमित रूप से सुबह खाली पेट चौथाई कप अमलतास के पत्तो का रस पीने से बहुत जल्द शुगर के लक्षण में कमी आने लगती है| कुछ इंसान अमलतास को डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज या डायबिटीज का घरेलू उपचार भी कहते है| 

डाइबिटीज़ का घरेलू उपचार है लहसुन (garlic : indian home remedy for diabetes in hindi)

लहसुन का इस्तेमाल सभी घरो में सब्जी या दाल छौकने में किया जाता है, लहसुन में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व शुगर को कंट्रोल करने में सहायक होते है| नियमित रूप से सुबह लहसुन की एक या दो कलियों का सेवन करने से जल्द लाभ प्राप्त होता है| लहसुन को आप मधुमेह कम करने के घरेलू उपाय या शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कह सकते है|

मधुमेह की घरेलू दवा है तुलसी (Tulsi : indian home remedy for diabetes in hindi)

तुलसी का पौधा आपको लगभग हर घर आसानी से मिल जाता है, तुलसी में मौजूद औषधीय, एन्टीऑक्सिडेंट गुण और जरुरी पोषक तत्व शरीर में इन्सुलिन का निर्माण करने वाली कोशिकाओं को सही करने में मदद करते है| अगर आप मधुमेह का देसी इलाज या शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय ढूंढ रहे है तो तुलसी आपके लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकती है, नियमित रूप से सुबह खाली पेट दो से तीन तुलसी के पत्ते खाने से बहुत जल्द शुगर या डायबिटीज के लक्षण (sugar ke lakshan) में कमी देखने को मिलती है|

मधुमेह का रामबाण इलाज है एलोवेरा (indian home remedy for diabetes in hindi)

एलोवेरा का इस्तेमाल काफी सारे रोगो को दूर करने में किया जाता है, अधिकतर इंसान यह जानते है एलोवेरा त्वचा से सम्बंधित परेशानियो को दूर करने में मददगार होता है लेकिन कया आप जानते है की एलोवेरा मधुमेह का इलाज करता है| एलोवेरा में मौजूद औषधीय, एंटीडायबिटिक गुण और पोषक तत्व शुगर के लक्षण को कम करने में मददगार होते है, नियमित रूप से दिन में दो बार एलोवेरा जूस का सेवन करने से जल्द आराम मिलता है लेकिन ख्याल रखें की एलोवेरा जूस में चीनी नहीं डालनी है| इस नुस्खे को आप मधुमेह को जड़ से खत्म करने का इलाज या मधुमेह का शर्तिया इलाज भी कह सकते है| 

शुगर का घरेलू इलाज है मेथी (indian home remedy for diabetes in hindi)

मेथी में मौजूद औषधीय, एंटीडायबिटिक गुण और जरुरी तत्व शुगर का इलाज करने में सहायक होते है, मेथी दाना आपको आसानी से किसी भी पंसारी की दूकान पर मिल जाती है| सबसे पहले आप किसी बर्तन में दो कप पानी लेकर दाल दें, फिर उस पानी में लगभग दो चम्मच मेथी दाना डालकर रात भर के लिए भीगा रहने दें, फिर अगली सुबह खाली पेट पानी को छान कर पी लें| नियमित रूप से शुगर के घरेलू उपाय को करने से जल्द आराम मिलता है| मेथी को मधुमेह का आयुर्वेदिक इलाज या शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय भी कहा जाता है|   

डाइबिटीज़ का रामबाण इलाज है करेला (indian home remedy for diabetes in hindi)

करेले की सब्जी का सेवन अधिकतर इंसान करते है लेकिन कया आप जानते है की करेले को शुगर का रामबाण इलाज या डायबिटीज की घरेलू दवा भी कहा है| दरसल में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व डायबिटीज का इलाज करने में सहायक होते है, सबसे पहले एक करेला लेकर उससे अच्छी तरह से धो कर काट लें| फिर कटे हुए करेले और थोड़ा सा पानी ग्राइंडर में डालकर महीन पीस कर छान लें| फिर छाने हुए रस में स्वादनुसार नमक, थोड़ा सा काली मिर्च पॉउडर और थोड़ा सा नींबू का रस डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें| नियमित रूप से मधमेह की दवा का सेवन दिन में एक बार करने से बहुत जल्द आराम मिलता है| करेले को शुगर का रामबाण इलाज या जल्दी शुगर कम करने का घरेलू उपाय के रूप में भी जाना जाता है|

शुगर की घरेलू दवा है दालचीनी (indian home remedy for diabetes in hindi)

दालचीनी का इस्तेमाल लगभग सभी घरो में मसाले के रूप में किया जाता है, दालचीनी हमारे शरीर के लिए लाभकारी मानी जाती है| दालचीनी में मौजूद औषधीय, एंटीडायबिटीक गुण और जरुरी तत्व शुगर का इलाज करने में सहायक होते है, सबसे पहले थोड़ी सी दालचीनी लेकर उसे महीन पीस कर चूर्ण बना लें (हालाँकि आज के समय में आपको बाजार में दालचीनी पॉउडर भी आसानी से मिल जाता है, आप चाहे तो उसे भी ले सकते है)| नियमित रूप से एक गिलास गुनगुने पानी के साथ चौथाई चम्मच दालचीनी पॉउडर का सेवन करने से जल्द आराम मिलता है| दालचीनी को शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय या जल्दी शुगर कम करने का घरेलू उपाय के रूप में भी जाना जाता है|

 डायबिटीज या शुगर में कया खाना चाहिए

डायबिटीज या शुगर के मरीजों के सामने यह बहुत बड़ी समस्या रहती है की शुगर में कया खाना चाहिए| चलिए हम आपको बताते है की आपको शुगर में कया खाना चाहिए

  • शुगर के मरीज को ताज़ी सब्जियों का सेवन करना चाहिए और शुगर में करेला, मेथी, लौकी, तुरई, ककड़ी, खीरा, शलजम, टमाटर और पालक जैसी सब्जियों का सेवन करना चाहिए|
  • शुगर में कौन सा फल खाना चाहिए अगर आपको यह नहीं पता है तो हम आपको बता दें की शुगर में सेब, अमरुद, पपीता, अनार, जामुन और संतरा का सेवन करना चाहिए|
  • डायबिटीज या शुगर में आप ड्राई फ्रूट्स कासेवन करना चाहते है तो आप बादाम,  अखरोट और अंजीर खा सकते है|

डायबिटीज में क्या नहीं खाना चाहिए या शुगर में परहेज – What not to eat in Diabetes?

शुगर की समस्या से पीड़ित महिला या पुरुष को अपने खाने पीने का ख़ास ख्याल रखना बहुत ज्यादा जरुरी होता है| अगर आप शुगर में परहेज नहीं करते है तो आपकी बिमारी काफी ज्यादा बाद सकती है, चलिए अब हम आपको बताते है की शुगर या डायबिटीज में आपको कया नहीं खाना चाहिए –

शुगर में ब्रेड खानी चाहिए या नहीं

डायबिटीज या शुगर से पीड़ित इंसान को व्हाइट ब्रेड या व्हाइट पास्ता का सेवन नहीं करना चाहिए| अगर आपको ब्रेड खानी है तो आप मल्टीग्रैन ब्रेड का सेवन कर सकते है|

शुगर में चावल खाना चाहिए या नहीं

अधिकतर शुगर या डायबिटीज से पीड़ित इंसानो के मन में यह सवाल रहता है की शुगर में चावल खाने चाहिए या नहीं और शुगर में कौन से चावल खाने चाहिए तो हम आपको बता दें की अगर आप शुगर की समस्या से पीड़ित है तो हम आपको बता दें की आपको चावल का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि चावल में फाइबर कम मात्रा में होता है जिसकी वजह से चावल जल्दी पच जाता है और चावल में मौजूद कार्बोहाइड्रेट ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा सकता है।

शुगर में कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए

शुगर से पीड़ित इंसान को अपने खाने का खास ख्याल रखना पड़ता है, अगर आप शुगर या डायबिटीज की परेशानी से पीड़ित है तो आपको खासकर आलू, गाजर और शकरगंध का सेवन करने से बचना चाहिए|

डायबिटीज या शुगर में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए

शुगर के मरीज को आम, लीची, केला और अंगूर इत्यादि प्रकार के मीठे फल का सेवन करने से बचना चाहिए|

शुगर में ड्राई फ्रूट का सेवन करना चाहिए या नहीं

ड्राई फ्रूट का सेवन सभी के लिए लाभकारी होता है लेकिन अगर आप शुगर के मरीज है तो आपको किशमिश, खजूर और छुआरा जैसे ड्राई फ्रूट का सेवन नहीं करना चाहिए|

शुगर में जूस पीना चाहिए या नहीं ?

यह तो हम सभी जानते ही है की जूस हमारे शरीर के लिए लाभकारी होता है लेकिन अगर आप शुगर के मरीज है तो आपको फ्रूट जूस का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि फलो के जूस में शुगर की मात्रा होने की वजह से यह ब्लड शुगर को बढ़ाने में मदद करता है इसीलिए हाई ब्लड शुगर वाले को फ्रूट जूस का सेवन करने से बचना चाहिए| लो ब्लड शुगर में आप फ्रूट जूस का सेवन कर सकते है|

शुगर में रेड मीट खा सकते है

ऐसे इंसान मांसाहारी है और अगर उन्हें शुगर की बिमारी हो जाती है तो उनके मन में यह सवाल रहता है की वो मीट या रेड मीट खा सकते है या शुगर में मीट खाना चाहिए या नहीं| तो हम आपको बता दें की रेड मीट में अनहेल्दी सैचुरेटेड फैट मौजूद होता है जो की हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है इसीलिए रेड मीट का सेवन नहीं करना बेहतर होता है|

शुगर में दूध पीना चाहिए या नहीं

दूध हम सबके लिए बहुत ज्यादा लाभदायक होता है लेकिन अगर आप शुगर के मरीज है तो आपको बता दें शुगर में दूध नहीं पीना चाहिए|

शुगर में सॉफ़्ट ड्रिंक पीनी चाहिए या नहीं

सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन शुगर के मरीज के लिए बहुत ज्यादा नुकसानदायक हो सकता है इसीलिए डायबिटीज के मरीज को सॉफ्ट ड्रिंक नहीं पीनी चाहिए|

शुगर में जंक फ़ूड नहीं खाना चाहिए

अगर आप डायबिटीज से पीड़ित है तो आपको फ़ास्ट फ़ूड या जंक फ़ूड का सेवन करने से बचना चाहिए|

शुगर में गुड़ खा सकते है

अगर आप डायबिटीज से ग्रसित है तो आपको गुड़, चीनी, बुरा, गन्ने का रस और चॉकलेट का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए|

निष्कर्ष – हम आशा करते है की आपको हमारे लेख शुगर का आयुर्वेदिक इलाज या शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय में दी गई जानकारी पसंद आई होगी| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की शुगर के घरेलू नुस्खे आजमाने से पहले डॉक्टर या वैध से परामर्श जरूर लें| अगर आप शुगर के बारे में और अधिक जानकारी पाना चाहते है तो आप गूगल या बिंग पर शुगर को जड़ से खत्म करने के उपाय या शुगर का शर्तिया इलाज लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa