web analytics
Sun. Sep 25th, 2022
Home Remedies for Depression

डिप्रेशन का इलाज & आयुर्वेदिक दवा (Home Remedies for Depression) – डिप्रेशन आज के समय में काफी बड़ी समस्या बन चुकी है, इसका सामना अधिकतर पुरुष या महिला कर रहे है| आजकल की भागदौड़ भरी जिनदगी में सभी इंसानो को किसी ना किसी बात का तनाव जरूर रहता है, हालाँकि अधिकतर मामलों में उदासी कुछ समय के बाद अपने आप ठीक हो जाती है लेकिन कुछ मामलो में उदासी काफी लम्बे तक समय तक रहने की वजह से इंसान डिप्रेशन का शिकार हो जाता है| डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित इंसान का मन किसी भी चीज में जल्दी से नहीं लगता है, आज हम अपने इस लेख में डिप्रेशन के लक्षण और डिप्रेशन का इलाज बताने के साथ डिप्रेशन से सम्बंधित सभी महत्पूर्ण जानकारी उपलब्ध करा रहे है|

तनाव या स्ट्रेस मन से संबंधित परेशानी होती है जब इंसान डिप्रेशन का शिकार हो जाता है तो इंसान ढंग से कोई काम नहीं कर पाता है| डिप्रेशन से पीड़ित इंसान का मन ना तो खाने पीने में लगता है ना ही अपना काम ढंग से कर पाता है, परिवार और दोस्तों से भी दूरी बना लेता है| पीड़ित इंसान को अकेला रहना पसंद होता है ऐसे में इंसान डिप्रेशन से बाहर निकलने के उपाय ढूंढ़ता है| कुछ इंसान इंटरनेट पर डिप्रेशन के घरेलू उपाय, डिप्रेशन का इलाज, डिप्रेशन की दवा, डिप्रेशन से कैसे बाहर निकलें, डिप्रेशन होने के कारण, डिप्रेशन के लक्षण कया है? डिप्रेशन का घरेलु इलाज कया है? डिप्रेशन की बेस्ट दवा का नाम कया है? Home Remedies for Depression in hindi, Depression ka gharelu ilaj इत्यादि लिखकर सर्च करता है| डिप्रेशन का घरेलू इलाज के बारे में जानकारी देने से पहले हम आपको डिप्रेशन की बारे में बताते है

Table of Contents

डिप्रेशन क्या है (What is depression in hindi)

डिप्रेशन को अवसाद भी कहा जाता है| आम भाषा में कहें तो जब कोई इंसान किसी भी कारणवश उदास या दुखी होता है और उसकी उदासी या दुःख लम्बे समय तक बना रहता है तो इस स्थिति को डिप्रेशन कहा जाता है| डिप्रेशन का शिकार पुरुष और महिला दोनों ही हो सकते है, हालाँकि आज के समय में थोड़ी बहुत टेंशन या या स्ट्रेस का सामना सभी इंसान कर रहे है| किसी को नौकरी की टेंशन, किसी को घर की टेंशन, किसी को परिवार की टेंशन, आर्थिक टेंशन इत्यादि का सामना अधिकतर इंसान कर रहे है| कुछ मामलो में टेंशन या तनाव होना फायदेमंद भी होता है क्योंकि टेंशन होने पर इंसान अपने काम को जल्दी और अच्छी तरह से करता है| लेकिन तनाव अधिक या लम्बे समय तक रहना खतरनाक होता है, इसीलिए हमेशा कोशिश करनी चाहिए की तनाव में कम से कम रहना चाहिए|  चलिए अब हम आपको डिप्रेशन के प्रकार के बारे में बताते है

डिप्रेशन के प्रकार – Types of Depression in Hindi

डिप्रेशन के घरेलू उपाय करने से पहले आपको डिप्रेशन के प्रकार के बारे में भी जानकारी होना बहुत जरुरी है| चलिए अब हम आपको डिप्रेशन के प्रकारो के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

यूनीपोलर डिप्रेशन (Unipolar Depression in hindi)

यूनीपोलर डिप्रेशन की समस्या सबसे ज्यादा देखने को मिलती है, इस प्रकार के डिप्रेशन के लक्षण आमतौर पर एक हफ्ते से ज्यादा समय तक के लिए रहते है| यूनीपोलर डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित इंसान अपने आपको अकेला, उदास और थका हुआ महसूस करता है, पीड़ित को लगता है की उसके जीवन का कोई मतलब नहीं है और पीड़ित को नींद नहीं आती है और ना ही खाना खाने का मन करता है|

बाइपोलर डिसऑर्डर (Bipolar disorder in hindi)

बाइपोलर डिसऑर्डर डिप्रेशन से पीड़ित का मूड एक सा नहीं रहता है, इस प्रकार के डिप्रेशन का पाता लगाना आसान होता है| पीड़ित कभी बहुत ज्यादा गंभीर स्थिति में या उदास दिखाई देगा और दूर ही पल पीड़ित खुश या ऊर्जावान महसूस करने लगता है| इस प्रकार के डिप्रेशन से पीड़ित इंसान कभी कभी काल्पनिक जीवन में पहुँच जाता है और उसे लगता है की वो सच्चाई में जी रहा है जबकि हकीकत में ऐसा कुछ भी नहीं होता है|

डिस्थीमिया (Dysthymia in hindi)

इस प्रकार डिप्रेशन काफी लम्बे समय तक रहता है, पीड़ित अंदर से उदासी महसूस करता है लेकिन वो अपने दैनिक जीवन के कामो को सही से करता है| पीड़ित जल्दी से अपनी परेशानी को जाहिर नहीं करता है और इस डिप्रेशन के लक्षण भी अस्थिर रहते है|

सीजनल इफेक्टिव डिसऑर्डर (Seasonal affective disorder in hindi)

इस प्रकार का डिप्रेशन किसी खास मौसम में देखने को मिलता है और जैसे जैसे मौसम बदल जाता है डिप्रेशन भी समाप्त होने लगता है| पतझड़ और सर्दी के मौसम में सीजनल इफेक्टिव डिसऑर्डर की समस्या देखने को मिलती है, दरसल सर्दी और पतझड़ के मौसम रौशनी की कमी की वजह से इस प्रकार के डिप्रेशन के सिम्पटम्स दिखाई देने लगती है|

पोस्टनेटल डिप्रेशन (Postnatal Depression in hindi)

इस प्रकार का डिप्रेशन महिलाओ में देखने को मिलता है, कुछ महिलाओं में पोस्टनेटल डिप्रेशन की समस्या प्रसव के बाद देखने को मिलती है| पोस्टनेटल डिप्रेशन से पीड़ित महिला को ऐसा लगता है की उसके परिवार के सदस्य या उसके आसपास मौजूद इंसान उसे समझ नहीं रहे है, इसकी वजह वो खुद को मानाने लगती है| कुछ मामलो में महिला इतनी गंभीर स्थिति में पहुँच जाती है की वो अपने शिशु की देखभाल भी सही से नहीं कर पाती है|

मेजर डिप्रेशन (Major Depression in hindi)

इस प्रकार के डिप्रेशन का असर कामकाज के साथ साथ शरीर भी पड़ता है| मेजर डिप्रेशन से पीड़ित इंसान को उदासी, जीवन में निराशा और गुस्सा आना इत्यादि लक्षण देखने को मिलते है| इस डिप्रेशन की अवधि भी काफी लम्बी होती है और ऐसे में उचित इलाज करना भी बहुत जरुरी होता है|

डिप्रेशन (अवसाद) का कारण – Causes of Depression in Hindi

डिप्रेशन के घरेलू उपाय के बारे में जानने से पहले आपको डिप्रेशन होने के कारण के बारे में जानकारी होनी चाहिए हालाँकि डिप्रेशन होने के कारण काफी सारे होते हैं| चलिए अब हम आपको डिप्रेशन के कारण के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • जब किसी भी इंसान की जिंदगी में कोई बड़ा परिवर्तन जैसे कोई दुर्घटना हो गई हो या किसी पारिवारिक सदस्य या प्रियजन को खोना या आर्थिक समस्या आना या किसी गंभीर बिमारी से पीड़ित होना इत्यादि आने की वजह से इंसान डिप्रेशन में पहुँच सकता है|
  • डिप्रेशन होने का कारण हार्मोन में बदलाव आना भी होता है| हार्मोन में असंतुलन या बदलाव पीरियड्स, प्रसव और थायरॉइड की समस्या इत्यादि में ज्यादा देखने को मिलते है|
  • डिप्रेशन का कारण आनुवंशिकता भी होता है, अगर आपके परिवार में किसी भी सदस्य को डिप्रेशन की बीमारी थी या है तो आपको भी अवसाद या डिप्रेशन की समस्या होने की प्रबल सम्भावना होती है।
  • अवसाद होने का कारण चिंता भी होता है, अगर आपको किसी भी चीज की चिंता काफी लम्बे समय से है तो आप इस चिंता की वजह से डिप्रेशन के शिकार हो सकते है।
  • कुछ फिजिकल मेडिकल प्रॉब्लम्स की वजह से डिप्रेशन की समस्या हो सकती है, जैसे किसी इंसान को स्ट्रोक, कैंसर, हार्ट अटैक और थायराइड इत्यादि परेशानियो की वजह से डिप्रेशन हो सकता है।
  • यह तो हम सभी जानते है की बरसात या सर्दियों के मौसम में ज्यादा समय तक अँधेरा रहता है| लंबे समय तक अँधेरा होने की वजह से कुछ इंसानो में डिप्रेशन की समस्या हो जाती है|

डिप्रेशन के लक्षण (Symptoms of Depression in hindi)

ऊपर आपने डिप्रेशन के बारे में जानने के साथ साथ डिप्रेशन होने के कारण के बारे में जाना, अब हम आपको डिप्रेशन के लक्षण के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है| डिप्रेशन के लक्षण से आप आसानी डिप्रेशन की परेशानी का आसानी से पाता कर सकते है| चलिए अब डिप्रेशन के लक्षणों के बारे में जानते है

  • डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित इंसान आपको हमेशा उदास ही दिखाई देता है, अगर किसी भी इंसान में उदासी ज्यादा या हर समय देखने को मिले तो इसका कारण अवसाद हो सकता है|
  • अगर आप नींद नहीं आ रही है या नींद बहुत ज्यादा आ रही है तो इसके पीछे की वजह डिप्रेशन हो सकती है|
  • डिप्रेशन के लक्षण भूख का कम या ज्यादा लगना भी होता है, अगर अचानक से किसी इंसान को भूख कम लगने लगे या भूख बहुत ज्यादा लगने लगे तो इसका कारण अवसाद हो सकता है|
  • डिप्रेशन से पीड़ित इंसान अपने आपको नाकाबिल समझने लगता है, उसे लगता है की वो किसी काम का नहीं है या वो कोई काम नहीं कर सकता है|
  • डिप्रेशन के लक्षण में शामिल है एकाग्रता की कमी होना|
  • डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित इंसान के अंदर किसी भी प्रकार की आशा या इच्छा नहीं रहती है, भविष्य के बारे में बिलकुल भी चिंतित नहीं रहते है|
  • अवसाद से ग्रसित इंसान के मन में मृत्यु या आत्महत्या का विचार बहुत ज्यादा आता है क्योंकि उसे लगता है की उसका जीवन बेकार है|
  • डिप्रेशन की समस्या से ग्रस्त इंसान में आत्मविश्वास की कमी रहती है।
  • जब कोई भी इंसान अपने आपको परिवार वालो और भीड़ भाड़ वाली जगहों से अलग रखना चाहता हो और वो अकेला रहना ज्यादा पसंद करता है तो इसके पीछे का कारण अवसाद हो सकता है| अवसाद से पीड़ित इंसान को अकेला रहना ज्यादा पसंद होता है|
  • अगर कोई इंसान खुशी के माहौल में भी उदास है या खुशी देने वाली चीजों के होने पर भी वो उदास है तो इसका कारण अवसाद हो सकता है|
  • अवसाद की समस्या से पीड़ित इंसान किसी भी बारे में निर्णय लेने में असमर्थ होते है क्योंकि उन्हें यह समझ नहीं आता है की उनके लिया कया सही है और कया गलत है|
  • अवसाद की समस्या से पीड़ित इंसान के सामने कोई भी समस्या आने पर वो बहुत जल्दी हताश और निराश हो जाते हैं और छोटी छोटी परेशानी को भी वो बहुत बड़ी परेशानी मानते है।
  • कुछ मामलों में डिप्रेशन से पीड़ित लोगो में बहुत ज्यादा गुस्सा आने की समस्या भी देखी जा सकती है|
  • डिप्रेशन से पीड़ित इंसान को हर समय ऐसा लगता है जैसे उनके साथ कुछ बुरा होने वाला है|

Home Remedies for Depression

डिप्रेशन से बचने के घरेलू उपाय | डिप्रेशन की घरेलू दवा (Home Remedies for Depression in hindi)

डिप्रेशन का इलाज करने के लिए अधिकतर इंसान घरेलू नुस्खों को आजमाना ज्यादा पसंद करते है| घरेलू नुस्खों को सही तरीके से इस्तेमाल किया जाएं तो परिणाम बहुत जल्द मिलते है, चलिए अब हम डिप्रेशन के घरेलू उपाए (Depression ka gharelu ilaj) के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

काजू के सेवन से डिप्रेशन से मिलती है राहत (Cashew Nuts : Home Remedies for Depression in hindi)

काजू का सेवन सभी को पसंद होता है लेकिन काफी कम इंसान जानते है की काजू से डिप्रेशन का उपचार भी किया जा सकता है| काजू में मौजूद गुण और जरुरी पोषक तत्व जैसे फाइबर, मिनरल्स, कई तरह के विटामिन और फाइटोकेमिकल्स इत्यादि अवसाद के लक्षणों को कम करने मददगार साबित होते है| सबसे पहले 4 से 6 काजू लेकर उन्हें महीन पीसकर चूर्ण बना लें, फिर एक गिलास काजू का चूर्ण डालकर अच्छी तरह से मिलकर पीने से जल्द आराम मिलता है| काजू को आप डिप्रेशन के घरेलू उपाय या डिप्रेशन की दवा भी कह सकते है|

डिप्रेशन की घरेलू दवा है दही  (Home Remedies for Depression in hindi)

गर्मियों में दही का सेवन अधिकतर इंसान करते है दही हमारे शरीर के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होती है| दही में मौजूद गुण और पोषक तत्व डिप्रेशन के लक्षणों को कम करने में सहायक होते है| नियमित रूप से दही का सेवन खाने के साथ करने से या नियमित रूप से लस्सी पीने से जल्द डिप्रेशन की समस्या (Depression ka gharelu ilaj) में आराम मिलता है|

डिप्रेशन की रामबाण दवा है सौंफ (Home Remedies for Depression in hindi)

सौंफ का इस्तेमाल अधिकतर इंसान माउथ फ्रेशनर के रूप में करते है, सौंफ में मौजूद औषधीय गुण और एंटी डिप्रेसेंट प्रभाव डिप्रेशन के लक्षणों को कम करने में मददगार होते है| अगर डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित है और आप डिप्रेशन के घरेलू उपाय या डिप्रेशन की दवा ढूंढ रहे है तो सौंफ आपके लिए बेहतरीन विकल्प साबित हो सकती है| डिप्रेशन का रामबाण इलाज करने के लिए नियमित रूप से खाना खाने के बाद सौंफ का सेवन करने से जल्द आराम मिलता है|

अवसाद का घरेलू उपचार है पपीता (Home Remedies for Depression in hindi)

पपीता पेट के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी माना जाता है लेकिन कया आप जानते है की पपीता अवसाद के लक्षणों को कम करने में सहायक होता है| दरसल पपीते में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व डिप्रेशन की समस्या को कम करने में मददगार होते है| नियमित रूप से पपीते का सेवन करने से जल्द अवसाद की समस्या से आराम मिलता है, पपीते को आप डिप्रेशन के घरेलू उपाय (Depression ka gharelu ilaj) या डिप्रेशन की दवा के रूप में भी आजमा सकते है|

डिप्रेशन से आराम पाने का उपाय है बेर (Berry : Home Remedies for Depression in hindi)

डिप्रेशन की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप बेर का इस्तेमाल भी कर सकते है| सबसे पहले चार से पांच बेर लेकर उनके बीज निकालर गुद्दे को महीन पीस कर छान लें| अब इस छने हुए रस में लगभग आधी छोटी चम्मच जायफल पॉउडर को अच्छी तरह से मिलाकर दिन में दो बार सेवन करने से जल्द लाभ मिलता है| कुछ इंसान बेर के घरेलू नुस्खे को डिप्रेशन के घरेलू उपाय (Depression ka gharelu ilaj) और डिप्रेशन की दवा भी कहते है|

डिप्रेशन के घरेलू उपाय है ब्राह्मी ( Brahmi : Home Remedies for Depression in hindi)

काफी इंसान ऐसे होते है जिन्हे शायद ब्राह्मी के बारे में जानकारी ना हो, लेकिन ब्राह्मी आपको आसानी से पंसारी की दूकान पर मिल जाती है| अगर आप डिप्रेशन के घरेलू उपाय (Depression ka gharelu ilaj) या डिप्रेशन की दवा ढूंढ रहे है तो यह नुस्खा आपके लिए बेहतरीन वविकल्प साबित हो सकता है| सबसे पहले एक गिलास पानी लेकर उसमे एक चम्मच ब्राह्मी और एक चम्मच अश्वगंधा पाउडर डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें, नियमित रूप से इस नुस्खे को करने से बहुत जल्द लाभ मिलता है| डिप्रेशन की समस्या से जल्द छुटकारा पाने के लिए इस नुस्खे का इस्तेमाल वेध या चिकित्सक की सलाह से करें|

अवसाद की घरेलू दवा है नींबू ( Lemon Juice : Home Remedies for Depression in hindi)

अगर आप अवसाद की परेशानी से पीड़ित है और आप डिप्रेशन के घरेलू उपाय (Depression ka gharelu ilaj) और डिप्रेशन की दवा ढूंढ रहे है तो हम आपको एक बेहतरीन उपाय बताने जा रहे है| सबसे पहले दो कप पानी लेकर उसमे एक चम्मच नींबू का रस, एक चम्मच हल्दी पाउडर और एक चम्मच शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें| नियमित रूप से इस मिश्रण का सेवन करने से जल्द आराम मिलता है|

अवसाद दूर करने का घरेलू उपचार है अदरक (Home Remedies for Depression in hindi)

अदरक हमारे शरीर के लिए लाभकारी होने के साथ साथ कई सारी परेशानियो को दूर करने में सहायक होता है| अदरक में मौजूद गुण और जरुरी पोषक तत्व डिप्रेशन की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक होते है| नियमित रूप से अदरक का सेवन चाय या सब्जी में करने से जल्द डिप्रेशन की समस्या में आराम मिलता है|

अवसाद को दूर करने का इलाज है सालमन मछली (Home Remedies for Depression in hindi)

अगर आपको मछली का सेवन करने में कोई परेशानी है तो सालमन मछली डिप्रेशन की समस्या के लक्षणों को कम करने में सहायक हो सकती है| सालमन मछली में मौजूद पोषक तत्व डिप्रेशन के लक्षणों को कम करने में मददगार होते है, सालमन मछली का सेवन आप मछली करी या मछली पकोड़े के रूप में कर सकते है| जल्द ही आपको अवसाद के लक्षणों में आराम (Depression ka gharelu ilaj) मिलने लगता है|

डिप्रेशन की सबसे अच्छी दवा है सेब ( Apple : Home Remedies for Depression in hindi)

सेब के बारे में सभी जानते ही है आप सभी ने कभी न कभी सुना ही होगा की रोज एक सेब खाओ बीमारियो को दूर भगाओ| कुछ लोगो के मन में यह सवाल रहता है की क्या सेब खाने से डिप्रेशन कम होता है? तो हम आपको बता दें की सेब डिप्रेशन का इलाज करने में सहायक होता है| सेब में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व डिप्रेशन की समस्या (Depression ka gharelu ilaj) को कम करने में सहायक होते है| नियमित रूप से सुबह उठकर खाली पेट सेब खाने से शारीरिक स्वास्थ्य बेहतर होने के साथ साथ मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर रहता है|

डिप्रेशन की घरेलू दवा है इलायची (Cardamom : Home Remedies for Depression in hindi)

डिप्रेशन की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप इलाइची का इस्तेमाल भी कर सकते है| इलाइची में मौजूद गुण और जरुरी तत्व अवसाद के लक्षण को कम करने में मददगार साबित होते है, सबसे पहले एक गिलास पानी लेकर उसे गर्म होने के लिए रख दें| फिर दो से तीन इलायची लेकर उन्हें अच्छी तरह से कूटकर पानी में डाल दें, जब पानी अच्छी तरह से उबल जाएं तो गैस बंद कर दें और ठंडा होने पर पी लें| इस उपाय को करने से जल्द लाभ मिलता है, इलाइची के इस नुस्खे को आप डिप्रेशन के घरेलू उपाय (Depression ka gharelu ilaj) या डिप्रेशन की दवा भी कह सकते है|

डिप्रेशन में कया खाना चाहिए या अवसाद में कया खाएं – Diet For Depression in Hindi

डिप्रेशन का इलाज या डिप्रेशन का घरेलू उपाय अपनाने के साथ साथ अपने खान पान का ख़ास ख्याल रखना भी बहुत ज्यादा जरुरी है, अगर आप डिप्रेशन में अपने खाने पीने का ख़ास ख्याल नहीं रखते है तो आपकी बीमारी जल्द दूर नहीं होगी और हो सकता है की आपकी परेशानी बाद सकती है| चलिए अब हम आपको डिप्रेशन में कया खाना चाहिए इसके बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

  • डिप्रेशन से पीड़ित इंसान को ताजे फल और ताज़ी सब्जियों का सेवन करना चाहिए|
  • साबुत अनाज भी डिप्रेशन से पीड़ित इंसान के लिए लाभकारी होता है|
  • खाना बनाने में जैतून के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए, जैतून के तेल में मौजूद औषधीय गुण डिप्रेशन की समस्या को कम करने में सहायक होते है|
  • मछली और मीट का सेवन भी फायदेमंद साबित होता है|
  • अवसाद से पीड़ित इंसान को कम वसा वाले डेयरी प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए|
  • डिप्रेशन से पीड़ित इंसान को पानी प्रचुर मात्रा में पीना चाहिए, शरीर में पानी की कमी से काफी सारी परेशानियॉ का सामना करना पड़ सकता है|
  • डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित इंसान के लिए कॉफी का सेवन भी फायदेमंद होता है, लेकिन अधिक मात्रा में कॉफी पीने से नुक्सान भी हो सकता है|

डिप्रेशन में परहेज या डिप्रेशन में कया नहीं खाना चाहिए

किसी भी बिमारी में अगर आप परहेज नहीं करते है तो बिमारी जल्दी से ठीक नहीं होती है या बिमारी बढ़ जाती है| चलिए अब हम आपको डिप्रेशन में कया नहीं खाना चाहिए या डिप्रेशन में परहेज के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित इंसान को रखें हुए फल या रखी हुई सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहिए|
  • अगर आप अवसाद की समस्या से पीड़ित है तो आपको बासी खाना खाने से परहेज करना चाहिए|
  • आज के समय में जंक फ़ूड का सेवन काफी सारे इंसान करते है, लेकिन अगर आप डिप्रेशन की समस्या से पीड़ित है तो जंक फ़ूड का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए|
  • डिप्रेशन की समस्या से ग्रसित इंसान को धूम्रपान, शराब और किसी प्रकार के मादक पदार्थो का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए|

डिप्रेशन से बचने के उपाय या अवसाद से बचने के लिए टिप्स – Prevention Tips for Depression in Hindi

ऊपर आपने डिप्रेशन के कारण, लक्षण और घरेलू उपाय के बारे पढ़ा, चलिए अब हम आपको कुछ ऐसे उपाय के बारे में बता रहे है जिन्हे अपनाकर आप डिप्रेशन की समस्या से आराम प्राप्त कर सकते है|

  • अगर आप अपने आपको डिप्रेशन की समस्या से बचाना चाहते है तो नियमित रूप से एक्सरसाइज करें, एक्सरसाइज़ करने शरीर चुस्त रहता है|
  • नियमित रूप से सुबह सैर पर जाना चाहिए, सुबह सुबह घूमने से दीमाग को शान्ति मिलने के साथ साथ अवसाद की समस्या होने की सम्भावना भी कम होती है|
  • प्रत्येक इंसान को सही समय पर सोना और उठना चाहिए|
  • नियमित रूप से संतुलित और स्वस्थ भोजन करें|
  • परिवार वालो और दोस्तों के साथ समय बिताने की कोशिश करें और बाहर घूमने जाएं|
  • अवसाद की समस्या से पीड़ित इंसान के लिए ध्यान करना भी फायदेमंद होता है|
  • आप अपने कामो की एक लिस्ट बना लें, फिर उस लिस्ट के हिसाब से काम करें ऐसा करने से भी आपको लाभ मिलेगा|
  • नए नए लोगों से मिलें उनसे बात करें दोस्ती करें|
  • अपने आपको बीजी रखने के लिए आ दिमाग को शांत रखने के लिए आप संगीत भी सुन सकते है|

निष्कर्ष – हम आशा करते है की आपको हमारे लेख डिप्रेशन के घरेलू उपाय (Depression ka gharelu ilaj) या डिप्रेशन की दवा में दी गई जानकारी पसंद आई होगी| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की डिप्रेशन की समस्या होने पर वेध या डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद ही घरेलू नुस्खे आजमाने चाहिए ऐसा करने से आपको घरेलू नुस्खों का पूर्ण और जल्दी लाभ प्राप्त होता है| अगर आप डिप्रेशन के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप गूगल या बिंग पर डिप्रेशन के घरेलू उपाय या डिप्रेशन की दवा लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa