web analytics
Sun. Sep 25th, 2022
Dengue Symptoms in Hindi

डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) & डेंगू का घरेलू इलाज – डेंगू का नाम सभी अच्छी तरह से जानते ही है, हालाँकि यह तो सभी को पता होता है की डेंगू की बिमारी मच्छर के काटने से होती है| लेकिन डेंगू के लक्षण या डेंगू का घरेलू उपचार के बारे में काफी कम इंसान जानते है| डेंगू की बिमारी को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए क्योंकि यह एक गंभीर बिमारी होती है, भारत में हर साल डेंगू की बिमारी से काफी लोगो की मौत हो जाती है| डेंगू की बिमारी डेंगू के मच्छर के काटने से होती है, यह मच्छर जब एक स्वस्थ इंसान को काटता है तो मच्छर के द्वारा वायरस इंसान के शरीर में प्रवेश कर जाता है जिसकी वजह से डेंगू की बिमारी हो जाती है| आज हम अपने इस लेख में डेंगू से सम्बंधित महत्वपूर्ण जैसे डेंगू होने के कारण, डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) और डेंगू का घरेलू उपचार जानकारी उपलब्ध करा रहे है|

हालाँकि डेंगू की परेशानी से पीड़ित काफी इंसान डेंगू का घरेलू इलाज सर्च करते है, जिन इंसानो को डेंगू के घरेलू नुस्खों के बारे में जानकारी नहीं होती है ऐसे इंसान इंटरनेट पर डेंगू होने के कारण, डेंगू के लक्षण, डेंगू के लक्षण इन हिंदी, डेंगू का घरेलू उपचार, डेंगू का घरेलू इलाज, डेंगू बुखार का घरेलू उपचार, Dengue Symptoms in Hindi इत्यादि लिखकर सर्च करते है|

Table of Contents

डेंगू बुखार क्या है? या हड्डीतोड़ बुखार कया है ? (What is Dengue Fever in Hindi?)

डेंगू एक तरह का बुखार होता है, डेंगू फीवर एक वायरस की वजह से होता है| डेंगू बुखार एक प्रकार के मच्छर के काटने से होता, उस मच्छर के बारे में हम आपको आगे बताएंगे| डेंगू फीवर एक इंसान से दूसरे इंसान में पहुँच सकता है, डेंगू बुखार को दूसरे इंसान में पहुंचाने का काम मच्छर करते है| काफी जगह पर डेंगू बुखार को हड्डीतोड़ बुखार (Breakbone fever in hindi) के नाम से भी पुकारा जाता है, इसके पीछे का कारण यह है की डेंगू फीवर में हड्डियों में दर्द या हड्डी टूटने जैसा दर्द महूस होता है| चलिए अब हम आपको डेंगू के लक्षण के बारे जानकारी उपलब्ध करा रहे है लेकिन उससे पहले डेंगू के मच्छर के बारे में जानते है| डेंगू बुखार के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) दिखते ही तुरंत डॉक्टर से परामर्श और डेंगू का इलाज (Dengue ka ilaj) करवाना चाहिए|

डेंगू किस मच्छर के काटने से होता है

यह तो हम सभी जानते है की डेंगू मच्छर के काटने से होता है, काफी लोगो के मन में यह सवाल होता है की सभी प्रकार के मच्छर के काटने से डेंगू होता है या किसी खास प्रकार के मच्छर के काटने से डेंगू बुखार होता है| चलिए अब हम आपकी इस परेशान का समाधान करते है दरसल डेंगू बुखार सभी मच्छरों के काटने से नहीं होता है, मच्छर की एक खास प्रजाति होती है जिसे एडीस एजिप्टी (Aedes egypti) प्रजाति के नाम से जाना जाता है| जब किसी भी स्वस्थ या अस्वस्थ इंसान एडीस एजिप्टी प्रजाति का मच्छर काट लेता है तो इंसान को डेंगू हो जाता है| चलिए अब हम आपको डेंगू के प्रकार के बारे में बताते है

डेंगू वायरस के प्रकार (Dengue Types in Hindi)

आमतोर पर अधिकतर इंसान यह जानते है की डेंगू एक प्रकार का होता है, लेकिन आमतौर डेंगू बुखार तीन प्रकार का होता है|

साधारण या क्लासिकल डेंगू बुखार इन हिंदी – classical dengue fever in hindi

क्लासिकल डेंगू फीवर को डेंगू फीवर का पहला प्रकार होता है, आमतौर पर क्लासिकल डेंगू फीवर ही ज्यादातर देखने को मिलता है| साधारण डेंगू बुखार की परेशानी लगभग 5 से 7 दिन तक रहती उसके बाद बुखार से राहत मिल जाती है| चलिए अब हम आपको क्लासिकल डेंगू फीवर के लक्षण के बारे में जानकारी दे रहे है

  • पीड़ित को ठंड लगने के बाद अचानक से तेज बुखार की समस्या होना
  • अगर आपके सिर में, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द की शिकायत होना भी क्लासिकल डेंगफेवर के लक्षण में शामिल है|
  • आंखों के पिछले हिस्से में दर्द की परेशानी होना
  • बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस होना, भूख ना लगना
  • गले में हल्के दर्द की परेशानी होना।
  • चेहरे या गर्दन और छाती पर लाल या गुलाबी रंग के रैशेज हो जाना।

डेंगू हॅमरेजिक बुखार (डीएचएफ) इन हिंदी – dengue hemorrhagic fever (DHF) in hindi

अगर किसी भी महिला या पुरुष में ऊपर बताए गए क्लासिकल साधारण डेंगू बुखार के लक्षणों के साथ साथ डेंगू हॅमरेजिक फीवर के लक्षण भी नजर आ रहे है तो आप डीएचएफ या डेंगू हॅमरेजिक बुखार से पीड़ित हो सकते है| डेंगू हॅमरेजिक बुखार का पता करने के लिए ब्लड टेस्ट कराया जाता है, चलिए अब हम आपको डेंगू हॅमरेजिक फीवर के लक्षण के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • अगर पीड़ित की नाक और मसूढ़ों से खून आ रहा है तो इसका कारण डेंगू हॅमरेजिक बुखार हो सकता है।
  • डेंगू हॅमरेजिक बुखार के लक्षण में शामिल है शौच या उल्टी में खून आना।
  • डेंगू हॅमरेजिक फीवर से पीड़ित इंसान के शरीर की स्किन पर गहरे नीले या काले रंग के छोटे या बड़े निशान पड़ सकते है|

डेंगू शॉक सिंड्रोम (डीएसएस) – dengue shock syndrome (DSS)

यह डेंगू का तीसरा प्रकार होता है जिसका नाम डेंगू शॉक सिंड्रोम इन हिंदी है, इस प्रकार के बुखार में डेंगू हॅमरेजिक फीवर के लक्षणों के साथ-साथ डेंगू शॉक सिंड्रोम के लक्षण दिखाई दें तो लापरवाही बिलकुल ना करें तुरंत डॉक्टर से परामर्श और इलाज कराएं| चलिए अब हम आपको डेंगू शॉक सिंड्रोम के लक्षणों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • डेंगू शॉक सिंड्रोम के लक्षण में शामिल है मरीज को बेचैनी की परेशानी होना।
  • अगर पीड़ित को तेज बुखार के बावजूद पीड़ित की त्वचा का ठंडा होना भी डेंगू शॉक सिंड्रोम के लक्षण में शामिल होता है|
  • डेंगू शॉक सिंड्रोम की परेशानी से पीड़ित इंसान को धीरे-धीरे बेहोशी आ सकती है|
  • इस तरह के डेंगू बुखार से ग्रसित इंसान की नाड़ी कभी तेज और कभी धीरे चलती है|
  • डेंगू शोक सिंड्रोम में मरीज का ब्लड प्रेशर एकदम लो हो सकता है|

डेंगू बुखार के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi)

आमतौर पर डेंगू का लक्षण बुखार माना जाता है, लेकिन बुखार के अलावा भी कई सारे ऐसे लक्षण होते है जिनसे आप डेंगू का पता लगा सकते है| डेंगू का पता शुरूआती दौर में ही चल जाएं तो इलाज करने में आसानी हो जाती है, चलिए अब हम आपको डेंगू फीवर के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है

  • अगर किसी भी इंसान का शरीर डेंगू वायरस से संक्रमित हो गया है तो डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) दिखने में 3 से 14 दिनों लग सकते है, अधिकतर मामलो में 3 से 5 दिनों के बाद डेंगू फीवर के लक्षण दिखने लगते है।
  • अगर आपके ब्लड में डेंगू वायरस (Dengue Symptoms in Hindi) फैल गया है तो वायरस फैलने के कुछ समय बाद से आपके शरीर में मौजूद जोड़ो में दर्द की परेशानी होने लगती है|
  • इंसान का ब्लड प्रेशर अगर तेजी से गिर रहा है तो यह भी डेंगू का लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) है, ऐसे में तुरंत डॉक्टर से परामर्श और इलाज कराना चाहिए|
  • डेंगू फीवर के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) में शामिल है हृदयगति का कम होना भी ।
  • आँखे लाल होना और दर्द होना भी डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) में शामिल है हालाँकि आँखे लाल होने के अन्य कारण भी होते है
  • इसीलिए आँखे लाल होने पर आँखों के डॉक्टर से सलाह लें|
  • चेहरे पर गुलाबी दाने या त्वचा पर लाल चकत्ते होने की वजह डेंगू भी हो सकती है|
  • भूख नहीं लगना, सिर दर्द होना, बुखार होना और ठंड लगना भी डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) में शामिल है|
  • सिर में दर्द होने के कारण काफी सारे होते है लेकिन कया आप जानते है की डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) में सिर दर्द भी शामिल है|
  • अगर आप जी लगातार मिचला रहा है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि जी मिचलाना या उल्टी होना भी डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) हो सकते है|
  • अगर आपके शरीर में लगातार जोड़ों में दर्द या मांसपेशियों में दर्द की परेशानी महसूस हो रही है तो इसका कारण डेंगू भी हो सकता है|
  • अगर आपके शरीर में प्लेट्स की संख्या कम हो रही है तो यह भी डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) में शामिल है|

Dengue Symptoms in Hindi

डेंगू बुखार के लिए घरेलू उपचार (Home Remedies for Dengue Fever Treatment in Hindi)
आप इन उपायों द्वारा डेंगू फीवर का घरेलू उपचार कर सकते हैंः-

डेंगू बुखार का घरेलू उपचार है नीम (Neem: home remedies for dengue in hindi)

डेंगू से पीड़ित इंसान के शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या काफी तेजी से कम होने लगती है, ऐसे में नीम आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| अगर आप डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी सर्च कर रहे है तो नीम आपके लिए बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है| नीम के पत्तो में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व प्लेटलेट्स को बढ़ाने के साथ साथ सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या बढ़ाने में भी मददगार साबित होते है| नीम के पत्तो का सेवन करने से जल्द प्लेटलेट्स में वृद्धि होने के साथ साथ बुखार में भी राहत मिलती है, लेकिन नीम का सेवन उचित मात्रा में सेवन करने से जल्द लाभ मिलता है अधिक मात्रा में नीम का सेवन करने से नुक्सान भी हो सकता है इसीलिए हम आपको सलाह देंगे की डेंगू का इलाज नीम से करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर लें|

डेंगू का रामबाण इलाज है गिलोय (Giloy: home remedies for dengue in hindi)

प्राचीन समय से गिलोय को एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में जाना जाता है, अगर आप डेंगू फीवर की समस्या से पीड़ित है तो गिलोय आपके लिए डेंगू की रामबाण दवा साबित हो सकती है| गिलोय में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने के साथ साथ डेंगू फीवर को कम करने में भी मददगार साबित होते है| डेंगू फीवर की घरेलू दवा बनाने के लिए गिलोय का एक तना लेकर उसके छोटे छोटे टुकड़ें काट लें, फिर उसके बाद एक से दो गिलास पानी लेकर उसे गर्म होने के लिए रख दें| उसके बाद पानी में गिलोय के तने के टुकड़ो को हल्का सा कूट कर पानी में डाल दें, पानी को आधा रहने तक पका लें जब पानी पाक कर आधा रह जाएं तब गैस बंद करके पानी को छान लें| इस काढ़ें को पीने से जल्द डेंगू बुखार में आराम मिलता है, गिलोय को डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी भी कह सकते है|

डेंगू बुखार का घरेलू उपचार है तुलसी (Tulsi Helps to Reduce Dengue Symptoms in Hindi)

डेंगू बुखार का इलाज करने में और डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) को कम करने में तुलसी के पत्तो के फायदे देखे जा सकते है| तुलसी के पत्तो में मौजूद औषधीय गुण और जरुरी पोषक तत्व डेंगू बुखार को कम करने के साथ साथ शरीर से विषाक्त तत्वों को बाहर निकालने में मददगार साबित होते है| डेंगू फीवर की दवा बनाने के लिए सबसे पहले एक गिलास पानी को गर्म होने के लिए रख दें उसके बाद उस पानी में 6 से 8 तुलसी की पत्तियां डालकर उबलने दें| जब पानी आधा रह जाएं तो गैस बंद करके मिश्रण को छान लें, मिश्रण में एक चुटकी काली मिर्च पॉउडर डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पीने से डेंगू बुखार में आराम मिलता है| कुछ इंसान तुलसी को डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी के रूप में भी जानते है|

पपीते के पत्तो से करें डेंगू फीवर का इलाज (Papaya: home remedies for dengue in hindi)

पपीते के पत्ते से डेंगू बुखार के इलाज के बारे में काफी लोग जानते भी है और अपनाते भी है| पपीते के पत्तो में मौजूद औषधीय गुण और तत्व डेंगू के लक्षण कम करने में सहायक होते है, अगर आप डेंगू की परेशानी से पीड़ित है और आप डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी ढूंढ रहे है तो पपीते के पत्ते आपके लिए अच्छा विकल्प साबित हो सकते है| पपीते के पत्ते प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने में काफी लाभकारी साबित होते है, लेकिन हम आपको सलाह देंगे की पपीते के पत्तो का सेवन चिकित्सक या वेध की सलाह से ही करें|

डेंंगू बुखार की घरेलू दवा है मेथी के पत्ते (Methi : home remedies for dengue in hindi)

डेंगू बुखार से पीड़ित इंसान के शरीर में दर्द की परेशानी भी देखने को मिलती है, ऐसे में डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) और डेंगू फीवर की वजह से होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाने में मेथी के पत्ते काफी लाभदायक माने जाते है| मेथी के पत्तो में मौजूद औषधीय और दर्द निवारक गुण डेंगू बुखार और दर्द को कम करने में सहायक होते है| मेथी के पत्तो का सेवन करने से जल्द डेंगू बुखार की समस्या में आराम मिलता है, मेथी के पत्तो को डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी भी कहा जा सकता है|

डेंगू बुखार का इलाज करें संतरे से (Orange: home remedies for dengue in hindi)

संतरे के रस में मौजूद एंटीओक्सीडेंट्स और विटामिन सी डेंगू फीवर के वायरस को खत्म करने के साथ साथ डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) को कम करने में सहायक होते है| संतरे में मौजूद औषधीय गुण और तत्व हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करने में सहायक होते है नियमित रूप से संतरे का सेवन लाभकारी साबित होता है।

जौ से करें डेंगू बुखार का उपचार (Barley: home remedies for dengue in hindi)

यह तो हम सभी अच्छी तरह से जानते ही है की जब कोई भी इंसान डेंगू फीवर से पीड़ित होता है तो उसके शरीर में मौजूद खून में प्लेटलेट्स की संख्या काफी कम हो जाती है जिसकी वजह से इंसान को काफी सारी परेशानियो का सामना करना पड़ता है| अगर आप डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी सर्च कर रहे है तो जौ घास आपके लिए लाभकारी साबित हो सकती है, जौ घास में मौजूद औषधीय गुण और तत्व ब्लड में प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने के साथ साथ डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) कम करने में सहायक होते है| जौ घास का सेवन आप काढ़े के रूप में भी कर सकते है और आप चाहे तो जौ घास को खा भी सकते है, दोनों तरीको में से किसी भी भी तरीके को अपनाने से बहुत जल्द डेंगू बुखार की समस्या से आराम मिलता है|

डेंगू का देसी इलाज है नारियल पानी (Coconut Water: home remedies for dengue in hindi)

नारियल पानी पीना सभी को पसंद होता है, लेकिन काफी लोगो को यह नहीं पता होता है की नारियल पानी डेंगू के इलाज (Dengue ke ilaj) करने में भी सहायक होता है| नारियल पानी में मौजूद औषधीय गुण और जरूरी पोषक तत्व शरीर को मजबूत बनाने के साथ साथ डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) को कम करने में सहायक होते है| नियमित रूप से नारियल पानी पीने से जल्द डेंगू बुखार में आराम मिलता है| नारियल पानी को डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी भी कह सकते है|

डेंगू का घरेलू उपचार है चुकंदर (Sugar Beets Reduces Dengue Symptoms in Hindi)

चुकंदर के रस में मौजूद एंटीओक्सीडेंट्स और जरुरी पोषक तत्व शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मददगार होते है| यह तो सभी जानते है की चुकंदर खाने से बढ़ता है लेकिन कया आप जानते है की चुकंदर प्लेटलेट्स को बढ़ाने में भी असरदायक होता है, अगर आप डेंगू फीवर से पीड़ित है और आप डेंगू का घरेलू इलाज या डेंगू के उपचार इन हिंदी ढूंढ रहे है तो चुकंदर आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| नियमित रूप से गाजर के रस में चुकंदर का रस मिलाकर पीने से खून में प्लेटलेट्स तेजी से बढ़ने के साथ साथ डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) भी कम होने लगते है|

डेंगू बुखार की घरेलू दवा है एलोवेरा (Aloe Vera: Home Remedy for Dengue Prevention in Hindi)

एलोवेरा में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व हमारे शरीर के लिए लाभकारी साबित होते है, एलोवेरा डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) को कम करने में भी सहायक होता है| नियमित रूप से एक गिलास पानी में दो से तीन चम्मच एलोवेरा का रस डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पीने से जल्द आराम मिलता है|

डेंगू में कया खाना चाहिए (Your Diet in Dengue Fever)

अगर आप डेंगू के लक्षण दिखाई दे रही है या आप डेंगू बुखार की समस्या से पीड़ित है और आप अपने खाने पीने का ख्याल नहीं रखते है तो ऐसे में आपकी परेशानी बड़ सकती है| अगर आपको यह नहीं पता है की डेंगू बुखार में कया खाना चाहिए तो चलिए अब हम आपको बताते है की डेंगू में आपको कया खाना चाहिए

  • अगर आप डेंगू बुखार से पीड़ित है तो आपको अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए।
  • डेंगू बुखार में मरीज को हल्का और आसानी से पचने वाला आहार लेना चाहिए।
  • डेंगू के मरीज के लिए ताजा सूप, जूस और नारियल पानी लाभकारी साबित होता है|
  • डेंगू में नींबू पानी पीना काफी फायदेमंद साबित हो सकता है, नींबू के रस में मौजूद गुण शरीर से गंदगी को पेशाब के रास्ते बाहर निकाल देते है|
  • डेंगू बुखार से पीड़ित इंसान के लिए अदरक और इलाइची डालकर हर्बल टी बनाकर पिलाने से बुखार में जल्द आराम मिलता है।
  • अगर किसी भी इंसान में डेंगू के लक्षण (Dengue Bukhar ke Lakshan) दिखाई दे रहे है तो पीड़ित को ताज़ी सब्जियां जैसे गाजर, खीरा और अन्य पत्तेदार सब्जियाँ का जूस पिलाने से काफी जल्द आराम मिलता है|
  • डेंगू के मरीज को दलिया भी खाने को दे सकते है, दलिया पचने में आसान होने के साथ साथ दलिए में मौजूद उच्च फाइबर और पोषक तत्व शरीर में रोगों से लड़ने की ताकत भी प्रदान करता है|
  • डेंगू के रोगी के शरीर में प्रोटीन की कमी हो जाती है ऐसे में मरीज को दूध, पनीर और डेयरी उत्पाद खाने चाहिए|

डेंगू में परहेज या डेंगू में कया नहीं खाना चाहिए

अगर आप डेंगू बुखार से पीड़ित है और आप खाने में परहेज नहीं करते है तो डेंगू बुखार जल्दी से ठीक नहीं होगा और हो सकता है की आपकी परेशानी बड़ जाएं इसीलिए डेंगू में परहेज बहुत जरुरी है| चलिए जानते है की डेंगू में कया नहीं खाना चाहिए या डेंगू में परहेज के बारे में

  • अगर आप डेंगू बुखार से पीड़ित है तो आपको ऑयली खाना बिलकुल बंद कर देना चाहिए, अगर आप बंद नहीं कर सकते है तो खाना कम से कम कर दें|
  • डेंगू फीवर की परेशानी में ऐसे पदार्थो का सेवन बिलकुल ना करें करें जिनमे कैफीन हो, कैफीन युक्त पेय पदार्थ पीने से आपकी परेशानी बड़ सकती है|
  • डेंगू की परेशानी से ग्रसित इंसान को तीखा या अधिक मिर्च मसालेदार भोजन करने से परहेज करना चाहिए|
  • डेंगू फीवर के मरीज को जंक फ़ूड या स्पाइसी फूड का सेवन करने से परहेज करना चाहिए
  • डेंगू फीवर की परेशानी से पीड़ित इंसान को मांसाहार खाने से परहेज करना चाहिए

हम आशा करते है की आपको हमारे लेख डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) & डेंगू का घरेलू इलाज में दी गई जानकारी पसंद आई होगी लेकिन अगर आप डेंगू के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप गूगल या बिंग पर डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi) & डेंगू का घरेलू इलाज लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa