web analytics
Sun. Sep 25th, 2022

cumin seeds in hindi : शायद ही कोई इंसान हो जिसने जीरे (cumin seeds in hindi) का सेवन ना किया हो, दाल से लेकर सब्जी तक किसी भी चीज को छोंकने में सबसे पहले जीरे का ही इस्तेमाल किया जाता है| जीरा सब्जी को स्वादिष्ट बनाने के साथ साथ हमारे शरीर के लिए भी काफी लाभकारी होता है| लेकिन कया आप जानते है की जीरा कई सारी बीमारियो या परेशानियो को दूर करने में सहायक होता है,  जीरे में मौजूद गुण और पोषक तत्व की वजह से कुछ लोग जीरा (cumin in hindi) को एक औषधि के रूप में भी जानते है| अगर आपको जीरे के फायदे के बारे में जानकारी नहीं है तो यह पेज आपके लिए लाभकारी है क्योंकि इस पेज में हम आपको जीरे के बारे में अधिक अधिक से जानकारी देने की कोशिश कर रहे है –

Table of Contents

जीरा क्या है? (What is jeera / cumin seeds in Hindi?)

अधिकतर इंसान जीरे (cumin seeds in hindi) को एक मसाले के रूप में ही जानते है| जीरे का पौधा ( cumin seeds plant) लगभग 60 से 90 सेमी तक ऊंचा होता है, जीरे के पौधे पर गहरे नीले,  या बैंगनी रंग के फूल आते है और इसका फल लगभग पांच या छह मिमी लम्बा और बेलनाकार होता है, जीरे के पौधे पर आने वाले फल का रंग भूरा और काला होता है। जीरे के पौधे पर फूल और फल जून से अगस्त के बीच में आते है| बहुत सारे इंसान सोचते है की जीरा केवल एक तरह का ही होता है लेकिन यह सच नहीं है दरसल जीरा तीन प्रकार का होता है| जीरे के प्रकार निम्न है –

  • काला जीरा (black cumin seeds in hindi)
  • सफेद जीरा (white cumin seeds in hindi)
  • जंगली जीरा

खाली पेट जीरा खाने के फायदे

सुबह खाली पेट जीरा खाने (khali pet jeera khane ke fayde) के काफी सारे फायदे होते है, आपने घर या आस पास में बड़े-बज़ुर्ग को यह कहते हुए जरूर सुना होगा की सुबह खाली पेट जीरा का सेवन जरूर करें| जीरे में आयरन,  कॉपर,  कैल्शियम,  पोटैशियम,  मैगनीज,  जिंक,  मैगनीशियम के साथ साथ विटामिन ई,  ए,  सी और बी-कॉम्प्लैक्स इत्यादि परचू मात्रा में पाए जाते है जो हमारे शरीर के लैलाभ्कारी होते है| चलिए अब हम खाली पेट जीरा खाने के फायदे बताने जा रहे है –

  • अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो खाली पेट गर्म पानी के साथ जीरे का सेवन करने से जल्द आपका वजन कम होने लगता है|
  • सुबह खाली पेट जीरे कासेवन करने से आपकी हड्डि यों को मजबूती प्राप्त होती है|
  • सुबह खाली पेट जीरा खाने से ब्लड शुगर संतुलित रहती है|
  • चेहरे पर ग्लो लाना चाहते है तो सुबह खाली पेट जीरे का सेवन जरूर करें|

जीरा पानी पीने के फायदे – Jeera Pani ke Fayde

सिर्फ जीरा ही नहीं जीरे का पानी भी हमारे लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है, चलिए जानते है जीरे का पानी पीने के फायदों के बारे में –

  • सुबह खाली पेट जीरे का पानी पीने से वजन कम करने में मदद मिलती है|
  • सुबह खाली पेट जीरे का पानी पीने से शरीर स्वस्थ रहता है|
  • सुबह खाली पेट जीरा पानी इम्यूेनिटी बूस्टरर की तरह काम करता है।

सौंफ और जीरा के फायदे

सौंफ और जीरे का सेवन करने से बहुत ज्यादा लाभ मिलता है,  दोनों ही गुणों और पोषक तत्वों से भरपूर होते है चलिए अब हम सौंफ और जीरा के फायदे के बारे में जानकारी देते है –

  •  त्वचा को जवां रखने में मददगार|
  • पाचन तंत्र को ठीक और मजबूत बनाने में सहायक
  • इम्युनिटी पावर को बढ़ाने में लाभकारी|
  • आँखों की रौशनी को नियंत्रित करने में असरदायक|

जीरा के फायदे और उपयोग (Jeera Benefits and Uses in Hindi), cumin seeds in hindi

cumin seeds in hindi या जीरे का इस्तेमाल आप मसाले के रूप में करने के साथ साथ औषधि के रूप में भी कर सकते है| चलिए अब हम आपको cumin in hindi या जीरा के फायदों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

मुंह से आने वाली बदबू को दूर करने में जीरा के फायदे (Jeera Uses for Bad Breath in Hindi)

आपने ऐसे बहुत सारे पुरुष या महिला देखे होंगे जिनके मुंह से बदबू आती है ऐसे में वो मुंह की बदबू को दूर करने के लिए उपाय सर्च करते है| अगर आप भी मुंह की बदबू की परेशानी का सामना कर रहे है तो जीरा आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| जीरे या cumin seeds in hindi में मौजूद गुण मुंह की बदबू को समाप्त करने में मददगार होते है, मुंह की बदबू दूर करने के लिए थोड़े से जीरे में थोड़ा सा पिसा हुआ सेंधा नमक मिलाकर नियमित रूप से सुबह और शाम को सेवन करने से जल्द ही मुंह की बदबू की परेशानी से छुटकारा मिलता है|

मतली और उल्टी की परेशानी को दूर करने में जीरा के फायदे (Benefits of Jeera to Stop Nausea and Vomiting in Hindi)

मतली या उल्टी की परेशानी किसी भी महिला या पुरुष को कभी भी हो सकती है, हालाँकि उल्टी की समस्या होने पर सबसे पहले उलटी होने की वजह जाननी चाहिए| cumin seeds या जीरे का उपयोग उल्टी की समस्या को समाप्त करने में भी किया जा सकता है, उल्टी या मतली की समस्या होने पर सबसे पहले थोड़े से cumin seeds in hindi या जीरे को हल्का सा भून कर कर छोटे से रेशमी कपड़े में रखकर बाँध कर पोटली बना लें। फिर उस पोटली को थोड़ी थोड़ी देर में सूंघने से आपको उल्टी के समस्या में लाभ प्राप्त होता है|

सर्दी-जुकाम की परेशानी में cumins seeds in hindi या जीरे के फायदे (Jeera Benefits in Fighting with Cold and Cough in Hindi)

सर्दी-जुकाम की परेशानी किसी भी महिला या पुरुष को हो सकती है, अगर आप सर्दी जुकाम की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए घरेलू इलाज ढूंढ रहे है तो जीरा आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| सर्दी या जुकाम की परेशानी से राहत पाने के लिए काले जीरे को भून कर उसका धुआं सूंघने से जल्द लाभ मिलता है| अगर आप कफ की समस्या से परेशान है तो cumin seeds in hindi या जीरे का काढ़ा पीने से लाभ मिलता है|

मुंह के रोग में जीरा के फायदे (Jeera Benefits for Oral Disease in Hindi)

अगर आप मुंह के रोगो से पीड़ित है तो जीरा आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| मुंह की बीमारी होने पर सबसे पहले थोड़े से जीरे को पीसकर पानी में मिलाकर जीरा पानी  (benefits of jeera water) बना लें, फिर जीरे पानी में थोड़ा सा चंदन पॉउडर,  इलायची चूर्ण अच्छी तरह से मिलाकर इस मिश्रण को छान लें, फिर इस छने हुए मिश्रण से कुल्ला करने से जल्द ही आपको मुंह के रोगों में आराम मिलता है|

खट्टी डकार की परेशानी को दूर करने में जीरे के फायदे (Jeera Benefits for Burping in Hindi)

कई बार कुछ गलत या उल्टा-सीधा खाने की वजह से बार बार खट्टी डकार आने की परेशानी हो जाती है| अगर आपको भी खट्टी डकार आने की परेशानी हो रही है तो जीरे का पानी (benefits of jeera water) आपकी इस परेशानी को दूर करने में लाभदायक हो सकता है| खट्टी डकार की समस्या होने पर लगभग 400 मिलीग्राम पानी में 100 मिलीग्राम जीरा डालकर पकने रख दें, पानी को तब तक पकाएं जब तक चौथाई ना रह जाएं, चौथाई पानी रहने पर गैस से उतारकर किसी ग्लास में छान लें, अब इसमें थोड़ा सा काली मिर्च पॉउडर और स्वादनुसार नमक डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें| इस जीरे का पानी (jeera water benefits) पीने से जल्द ही खट्टी डकार आना बंद हो जाती है।

जूं (लीख) को खत्म करने में जीरे के फायदे (Benefits of  Jeera in Lice Treatment in Hindi)

जूं किसी भी महिला, पुरुष या बच्चे के सिर में हो सकती है, आमतौर पर जूं या लिख की परेशानी बच्चो और महिलाओ में ज्यादा देखने को मिलती है| अगर आप जूं की परेशानी से पीड़ित है तो जीरा बीज (cumin seeds in hindi ) आपके लिए लाभकारी साबित हो सकते है| थोड़ा सा जीरा बीज पॉउडर (cumin seeds in hindi) में थोड़ा सा नींबू का रस डालकर अच्छी तरह से मिक्स करके बालो की जड़ो में अच्छी तरह से लगा लें| कुछ समय बाद सिर को धो लें, ऐसा करने से आपको जूं या लीख की परेशानी से छुटकारा मिल जाता है।

एसिडिटी की समस्या दूर करने में जीरा के फायदे (Jeera Benefits in Acidity Treatment in Hindi)

एसिडिटी की परेशानी बहुत ही आम समस्या है, एसिडिटी का सामना आज के समय में अधिकतर पुरुष और महिला कर रहे है| एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए जीरा और धनिया को साथ में पीस का चूर्ण बना लें, फिर इस चूर्ण को घी में पकाकर रख लें| फिर इस पके हुए मिश्रण को किसी डब्बे या बर्तन में रख लें, इस मिश्रण में से लगभग 15 ग्राम मिश्रण का सेवन नियमित रूप से करने से एसिडिटी की समस्या से आराम मिलता है|

भूख बढ़ाने में cumin seeds के फायदे (Benefits of Jeera for Increasing Appetite in Hindi)

कई बार इंसान की भूख अचानक से कम हो जाती है, भूख कम होने पर सबसे पहले हमे भूख कम होने का कारण जानना चाहिए| अगर आपकी भूख बीमारी की वजह से या किसी सामान्य कारण की वजह से भूख कम हो गई है यो आपकी भूख बढ़ाने में cumin seeds या जीरा लाभकारी साबित हो सकता है| जीरे का चूर्ण (cumin powder in hindi) में थोड़ा सा नींबू का रस और स्वादनुसार नमक मिलाकर सेवन करने से जल्द लाभ मिलता है| इस उपाय को करने से जल्द ही आपकी भूख जल्द बढ़ने लगती है|

बुखार में जीरे के फायदे (Benefits of Jeera in Fighting with Fever in Hindi)

अगर आप बुखार की परेशानी से पीड़ित है तो आपकी इस परेशानी से छुटकारा दिलाने में जीरा लाभदायक हो सकता है| जीरे में मौजूद गुण और पोषक तत्व बुखार की समस्या को समाप्त करने में सहायक होते है| थोड़ा सा जीरा चूर्ण (cumin powder in hindi) लेकर उसे कचनार की छाल के रस में अच्छी तरह से मिलाकर सेवन दिन में सुबह दोपहर और शाम को करने से जल्द ही बुखार में लाभ मिलता है| अगर आपको कपकपी चढ़ रही है, बुखार के साथ ठंड लग रही है तो जीरा का चूर्ण और गुड़ बराबर मात्रा में लेकर सेवन गर्म पानी (benefits of jeera water) पीने से जल्द लाभ मिलता है|

अपच को समाप्त करने में जीरे के फायदे (Benefits of Jeera in Indigestion Problem in Hindi)

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में असंतुलित भोजन की वजह से अपच की समस्या हो जाती है, अगर आप अपच की समस्या से ग्रसित है तो cumin seeds in hindi या जीरा आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| जीरे और धनिये को साथ में पीस लें, फिर थोड़े से घी में इस चूर्ण को 5 से 10 मिनट पकाए, इस पके हुए मिश्रण का सेवन सुबह और शाम खाना खाने से लगभग आधा घण्टा पहले करने से अपच की परेशानी से आराम मिलता है|

पेट में कीड़े समाप्त करने में जीरे के फायदे (Jeera Benefits to Treat Abdominal Worm in Hindi)

पेट में कीड़े होने की समस्या अधिकतर बच्चो में देखी जाती है, पेट में कीड़े की समस्या होने पर आप हो जाने पर भी जीरा का सेवन फायदेमंद होता है। जीरा बीज (cumin seeds in hindi) का चूर्ण में थोड़ा सा एरण्ड तेल मिलाकर सेवन करने से पेट के कीड़े समाप्त हो जाते है| पेट कीड़े समाप्त करने के लिए आप जीरे का काढ़ा भी पी सकते है, लेकिन हम आपको सलाह देंगे की पेट में कीड़े की समस्या होने पर चिकित्सक या वैध के परामर्श के बाद ही इस उपाय को करेंl

दांतों के रोग को दूर करने में जीरे के फायदे (Jeera Benefits to Treat Dental Problem in Hindi)

स्वस्थ और मजबूत दांतो की चाहत सभी की होती है, लेकिन आज के समय दांतों के रोग से पीड़ित इंसानो की संख्या काफी ज्यादा हो चुकी है| अगर आप भी दांतो के रोग से पीड़ित है तो आपके लिए cumin seeds in hindi या जीरा लाभदायक हो सकता है| अगर आप दांतो के रोग जैसे दांत में दर्द, दांत में कीड़ा लगना इत्यादि का सामना कर रहे है तो काले जीरे के काढ़े से कुल्ला करने से दांतों के दर्द जैसी परेशानियां जल्द दूर हो जाती है|

दस्त रोकने में cumin seeds के फायदे (Benefits of jeera to Stop Diarrhea in Hindi)

दस्त की परेशानी किसी भी इंसान को हो सकती है, यह एक बहुत ही आम बीमारी या परेशानी होती है| दस्त की परेशानी को दूर करने में भी cumins seeds या जीरा काफी लाभदायक होता है, cumin seeds में मौजूद गुण और तत्व दस्त की समस्या को समाप्त करने में मददगार होते है| थोड़े से जीरे को तवे पर भून लें, फिर भुने हुए जीरे को महीन पीस कर चूर्ण (cumin powder in hindi ) बना लें, अब इस पीसे हुए जीरे को दही,  छाछ या दही की लस्सी में डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पीने से जल्द ही दस्त की परेशानी में लाभ मिलता है।

बच्चों को दस्त होने पर जीरा का इस्तेमाल (Jeera Uses to Stops Children’s Diarrhea in Hindi)

दस्त की परेशानी बच्चो में ज्यादा होती है, बच्चो में दस्त की समस्या को दूर करने में भी जीरे के फायदे देखने को मिलते है| बच्चो में दस्त की परेशानी होने पर थोड़े से जीरे को तवे पर भून कर पीस लें, अब पीसे हुए जीरे मे से थोडा सा चूर्ण (cumin powder in hindi) लेकर एक चम्मच पानी में डालकर अच्छी तरह से घोल लें, इस मिश्रण को सुबह शाम पिलाने से बच्चों को दस्त में लाभ मिलता है| बच्चो में दस्त की समस्या होने पर बच्चो के डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद इस उपाय को अपनाने से जल्द और पूर्ण लाभ प्राप्त होता है।

पेचिश की समस्या को दूर करने में जीरे के फायदे (Jeera Stops Dysentery in Hindi)

पेचिश की समस्या को दूर करने में भी cumin seeds in hindi या जीरे के फायदे देखे जा सकते है| सबसे पहले 25 ग्राम भांग,  5 ग्राम सोंठ और 100 ग्राम जीरे को लेकर सभी चीजों को एक साथ मिलाकर महीन पीस लें फिर इस मिश्रण को छान लें अब छने हुए मिश्रण को 25 बराबर भागो में बाँट कर कागज़ में रख कर 25 खुराक बना लें| खाना खाने से लगभग आधा घंटे पहले सुबह और शाम एक खुराक का सेवन एक चम्मच दही के साथ करने से लाभ मिलता है| पेचिश की समस्या होने पर मरीज को हल्का खाना, दही, चावल, खिचड़ी, मट्ठा का सेवन करना लाभकारी होता है|

माँ का दूध बढ़ाने में जीरे के फायदे (Uses of Jeera for Increasing Breast Milk in Hindi)

काफी सारी स्तनपान कराने वाली महिलाओ को कम दूध आने की समस्या का सामना करना पड़ जाता है| अगर आपके भी कम दूध उत्पन्न हो रहा है तो इससमस्या को दूर करने में भी cumin seeds in hindi या जीरे के फायदे देखे जा सकते है| जीरे को घी में भून लें, फिर भुने हुए जीरे को आटे और बूरे में मिला कर लड्डू बना कर खाने से कम दूध की समस्या जल्द समाप्त हो जाती है|

गर्भाशय की सूजन दूर करने में जीरे के फायदे (Benefits of Jeera in Reducing Uterus Swelling in Hindi)

काफी सारी महिलाऐं ऐसी होती है जिनके गर्भाश्य में सूजन की समस्या हो जाती है, गर्भाशय में सूजन की समस्या को समाप्त करने में भी जीरा काफी लाभकारी साबित होता है| काले या सफ़ेद जीरे के काढ़े को पीने से सूजन में लाभ मिलता है|  हालाँकि गर्भाशय में सूजन आने पर सबसे पहले सूजन आने के कारणों की जानकारी होना बहुत जरुरी है, हम आपको सलाह देंगे की गर्भाशय में सूजन की समस्या होने  पर स्त्री चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद ही इस उपाय को अपनाएं|

मलेरिया के इलाज में जीरा के फायदे (Uses of Jeera in Malaria Treatment in Hindi)

मलेरिया की परेशानी को दूर करने में भी जीरा लाभदायक होता है, cumin seeds in hindi या जीरा में मौजूद गुण या तत्व मलेरिया की परेशानी को समाप्त करने सहायक होते है| मलेरिया की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए खाना खाने से लगभग एक घंटे पहले थोड़े से जीरे के चूर्ण (cumin powder in hindi) को गुड़ में मिलाकर सेवन करने से जल्द लाभ मिलता हैं।

ल्यूकोरिया में जीरा के फायदे (Jeera Benefits to Treat Leukorrhea in Hindi)

आज के समय में ल्यूकोरिया या सफेद पानी की परेशानी का सामना अधिकतर महिलाऐं कर रही है| cumin seeds in hindi या जीरे में मौजूद गुण और पोषक तत्व ल्यूकोरिया या सफेद पानी की समस्या को समाप्त करने में मददगार साबित होते है| ल्यूकोरिया या सफेद पानी की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए लगभग पांच ग्राम जीरे को महीन पीस कर चूर्ण (cumin powder in hindi) बना लें फिर लगभग 10 ग्राम मिश्री चूर्ण लेकर दोनों को अच्छी तरह से मिलाकर सुबह और शाम चावल के पानी के साथ सेवन करने से जल्द लाभ मिलता है|

आंखों की रोशनी बढ़ाने में जीरे के फायदे (Jeera is Beneficial for Eye Vision in Hindi)

अगर आप कम उम्र में आँखों की रौशनी कम होने समस्या का सामना कर रहे है तो जीरा आपके लिए फादेमंद साबित हो सकता है| cumin seeds in hindi या जीरे में मौजूद गुण और पोषक तत्व आँखों की रौशनी बढ़ाने में मददगार साबित होते है, आँखों की रौशनी बढ़ाने के लिए सबसे पहले आधे लीटर पानी में लगभग 8 ग्राम काले जीरे को डालकर पानी को अच्छी तरह पका लें, पानी जब चौथाई रह जाएं तो गैस से उतर लें| नियमित रूप से सुबह और शाम इस काढ़े से आँखे धोने से कुछ ही दिनों में आंखों की रोशनी बढ़ने लगती है|

आग से जलने पर जीरे के फायदे (Benefits of Jeera in Burning Treatment in Hindi)

अगर आपके शरीर का कोई भी भाग या अंग आग के सम्पर्क में आकर जल गया है तो जीरा आपकी इस परेशानी में फायदेमंद होता है| थोड़ा सा जीरा चूर्ण, मदनफल और राल तीनो को अच्छी तरह से मिलाकर घी में अच्छी तरह पकाकर ठंडा करके आग से जलने वाले स्थान पर लगाने से जल्द लाभ मिलता है|

मूत्र रोग को दूर करने में जीरे के फायदे (Jeera Benefits to Treat Urinary Disease in Hindi)

आज के समय में अधिकतर महिला या पुरुष मूत्र रोग का सामना कर रहे है, अगर आप भी मूत्र रोग से पीड़ित है तो cumin seeds in hindi या जीरा आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है| मूत्र रोग से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले आप पानी में जीरा डालकर अच्छी तरह से पकाकर काढ़ा बना कर उसमे थोड़ी सी मिश्री डालकर अच्छी तरह से मिलाकर सेवन करने से कुछ ही दिनों में आराम मिलता है।

बवासीर की परेशानी में जीरा के फायदे  (Uses of Jeera in Piles Treatment in Hindi)

अगर आप बवासीर की परेशानी से पीड़ित है और आप दर्द और सूजन का सामना कर रहे है तो आपकी इस परेशानी को दूर करने में भी जीरा लाभकारी साबित होता है| सबसे पहले लगभग 2 गिलास पानी को उबलने के लिए रख दें, फिर उसमे 5 ग्राम सफेद जीरा (cumin seeds in hindi) डालकर पकने दें, जब पानी चौथाई रह जाएं तो गैस को बंद कर दें| फिर इस पानी में थोड़ी सी मिश्री डालकर अच्छी तरह से मिलाकर सेवन कर लें, इस उपाय को सुबह और शाम करने से जल्द आपको बवासीर में होने वाले दर्द और सूजन से छुटकारा मिल जाएगा।

लकवा या पैरालिसिस में जीरा के गुण से फायदा (Benefits of Jeera in Paralysis Treatment in Hindi)

लकवे की बीमारी बहुत ज्यादा घातक होती है, अगर मरीज के शरीर के नीचले हिस्से में लकवा पड़ गया है तो जीरा आपकी इस परेशानी को ठीक करने में मददगार साबित हो सकता है| नियमित रूप से सुबह और शाम जीरे को पीस (cumin powder in hindi) कर लकवे वाले स्थान पर लगाने से लाभ मिल सकता है।

मकड़ी का विष उतारने में जीरे के फायदे (Jeera Benefits for Spider Poison in Hindi)

आमतौर पर मकड़ी इंसान से डरती है लेकिन खतरा होने पर मकड़ी काट भी सकती है, मकड़ी का जहर उतरने में जीरा (cumin seeds in hindi) फायदेमंद हो सकता है|  थोड़ी सी सोंठ और जीरे को पानी के साथ महीन पीसकर पेस्ट बना लें फिर इस पेस्ट को काटी गई जगह लगाने से मकड़ी का विष उतरने लगता है। मकड़ी के काटने पर तुरंत चिकित्सक से परामर्श जरूर करें उनके परामर्श के बाद ही घरेलू उपाय अपनाएं|

कुत्ते के काटने का इलाज करने में जीरे के फायदे (Jeera Helps in Dogs Biting Problem in Hindi)

किसी भी इंसान को जब कुत्ता काट लेता है तो इंसान काफी ज्यादा परेशान हो जाता है और वो जल्द से जल्द कुत्ते के काटने का इंजेक्शन लगवाने की कोशिश करता है| कुत्ते के काटने की वजह से इंसान को रेबिज की बिमारी होने का खतरा बना रहता है, कुत्ते के काटने के विष को कम करने लिए जीरा फायदेमंद हो सकता है| जीरा (cumin seeds in hindi) और काली मिर्च को बराबर मात्रा में लेकर अच्छी तरह से महीन पीस कर छान लें, इस छने हुए मिश्रण का सेवन सुबह और शाम करने से जल्द आराम मिलता है। कुत्ते के काटने पर चिकित्सक से परामर्श जरूर करें|

Cumin seeds या जीरे के नुकसान

ऊपर आपने जीरे के फायदों के बारे में जाना, जीरे (cumin seeds in hindi) के फायदे बहुत ज्यादा है लेकिन कई बार जीरे का सेवन अधिक मात्रा में करने से कुछ नुक्सान भी देखने को मिलते है| चलिए अब हम आपको जीरे के नुक्सान के बारे मे जानकारी उपलब्ध करा रहे है-

  • जीरा या cumin seeds का सेवन अधिक मात्रा में करने से आपको पाचन सम्बंधित समस्या हो सकती है|
  • जीरे (cumin seeds in hindi) का सेवन अधिक मात्रा में करने से डकार आने की परेशानी भी हो सकती है|
  • गर्भवती महिलाओ को जीरे का सेवन उचित मात्रा में करना चाहिए, अधिक मात्रा में जीरे (cumin seeds in hindi) का सेवन करने से उन्हें हानिकारक या दुष्प्रभाव का सामना करना पड़ सकता है|
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओ के लिए जीरा (cumin seeds in hindi) लाभकारी है लेकिन अधिक मात्रा में जीरे का सेवन करने से बच्चे को नुक्सान हो सकता है|

अन्य भाषाओं में जीरा के नाम (Jeera Called in Different Languages)

सफेद जीरा का वानस्पतिक नाम क्युमिनम् साइमिनम् (Cuminum cyminum) होता है, जीरे को अलग अलग स्थानों या भाषा में अलग अलग नामो से जाना जाता है, चलिए अब हम आपको जीरा या cumin seeds के अलग अलग नामो के बारे में जानकारी उपलब्ध कराते है –

  • Cumin seeds in Hindi – जीरा,  सादाजीरा,   सफेद जीरा

  • Cumin seeds in Urdu – Jirah

  • Cumin seeds in English (jeera in english) – Common caraway,  Cumin

  • Cumin seeds in Bengali – Sadajire,  Jire

  • Cumin seeds in Marathi (jeera in marathi ) – Jirre,  Pandhre jire

  • Cumin seeds in Gujarati – Jeenru,  Shankanu jeenru

  • Cumin seeds in Kannada – Jirige,  Viliyajirige,  Viliya jirige

  • Cumin seeds in Telugu (jeera in telugu) – Jilkara,  Jilkarar

  • Cumin seeds in Tamil (jeera in tamil) – Shiragam,  Sheerugam

  • Cumin seeds in Malayalamm- Jirakam

  • Cumin seeds in Nepali – Jira

  • Cumin seeds in Persian- Jiraye safed

जीरे की तासीर कैसी होती है ?

अधिकतर इंसानो को जीरे की तासीर के बारे में पता होता है लेकिन अगर आप नहीं जानते है की जीरे (cumin seeds in hindi) की तासीर कैसी होती है तो हम आपको बता दें की जीरे की तासीर गर्म होती है|

जीरा का इस्तेमाल कैसे करें (How to Use Jeera in Hindi?)

जीरा का इस्तेमाल आप अलग अलग रूप में कर सकते है, आप चाहे तो जीरे का उपयोग कच्चा, जीरे का चूर्ण (cumin powder in hindi ) बनाकर या जीरे का काढ़ा बनाकर कर सकते है| आमतौर पर ऐसा माना जाता है की इंसान इंसान अगर कच्चा जीरा या जीरे के चूर्ण का सेवन कर रहा है तो 4 से 6 ग्राम तक सेवन करना उचित होता है और काढ़े का सेवन 20 से 40 मिलीग्राम सेवन करना उचित माना जाता है, इससे ज्यादा का सेवन उचित नहीं है| लेकिन अगर आप किसी बीमारी के लिए जीरे (cumin seeds in hindi) का सेवन या इस्तेमाल कर रहे है तो चिकित्सक या वैध से परामर्श लेकर सेवन करें|

हम आशा करते है की आपको हमारे लेख benefits of cumin seeds in hindi, जीरा के फायदे और नुकसान में बताई गई जानकारी पसंद आई होगी| अगर आपको जीरे के बारे में और अधिक जानना चाहते है आप गूगल या बिंग पर benefits of cumin seeds in hindi, जीरा के फायदे और नुकसान लिख कर और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa