web analytics
Sun. Sep 25th, 2022
andkosh me sujan ke gharelu upay

andkosh me sujan ke gharelu upay – अगर आप अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष की नसों में सुअन का इलाज सर्च कर रहे है तो आप बिलकुल सही पेज पर पहुँच गए है, आज हम अपने इस पेज में आपको अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय की जानकारी देने के साथ साथ अंडकोष में सूजन के कारण और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी  उपलब्ध करा रहे है| पुरुषो में अंडकोष में सूजन की समस्या भी काफी देखने को मिलती है, अंडकोष में सूजन आने पर इंसान को दर्द का भी सामना करना पड़ता है| यह तो हम सभी जानते ही है पुरुष के शरीर में अंडकोष नाजुक और सवेदनशील होते है| अंडकोष पर हल्का सा दबाव पड़ने से ही इंसान दर्द से चिल्लाने लगता है|

अंडकोष में सूजन की परेशानी होने पर इंसान विचलित हो जाता है, पीड़ित इंसान जल्दी से अपनी परेशानी किसी को नहीं बताता है क्योंकि इंसान को शर्म आती है| हालाँकि इंसान को अपनी बिमारी को छिपाना सही नहीं है, काफी इंसान अंडकोष में सूजन का घरेलू उपाय इंटरनेट पर सर्च करते है, कुछ इंसान इंटरनेट पर अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय, अंडकोष में सूजन का घरेलू इलाज कया है? अंडकोष में सूजन का घरेलू उपचार, अंडकोष में सूजन की घरेलू दवा, अंडकोष में सूजन और दर्द का घरेलू उपाय, अंडकोष में सूजन और दर्द का रामबाण इलाज, वृषण में सूजन का घरेलू उपचार, वृषण में सूजन और दर्द का घरेलू इलाज, अंडकोष की नसों में सूजन का इलाज, अंडकोष की नसों में सूजन की घरेलू दवा, अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा, andkosh me sujan ka gharelu ilaj, andkosh me sujan or dard ka ilaj, andkosh me sujan gharelu upchar, andkosh me sujan ka gharelu upay, andkosh me sujan ka gharelu upay kya hai? andkosh me sujan ka gharelu upay in hindi इत्यादि लिखकर सर्च करता है|

चलिए अंडकोष में सूजन का घरेलू उपाय बताने से पहले हम आपको अंडकोष में सूजन आने के कारणों के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है| अगर आपको अंडकोष में सूजन आने के कारण पता होता है तो आपको इलाज में आसानी हो जाती है –

Table of Contents

अंडकोष की नसों में सूजन कया है?

अंडकोष काफी सारी नसों से जुड़ा हुए होते है, जब किसी भी नस का आकार बढ़ने लगता है तो इस स्थिति को अंडकोष की नसों में सूजन की परेशानी कहा जाता है| अंडकोष में सूजन की समस्या युवाओ में ज्यादा देखने को मिलती है और युवाओ के बाएँ अंडकोष में सूजन आ जाती है| हालाँकि नसों का आकार बढ़ने या सूजन आने के पीछे काफी सारे कारण हो सकते है, चलिए अब हम आपको अंडकोष में सूजन आने के कारणों के बारे में बताते है-

अंडकोष की नसों में सूजन के कारण | वृषण या अंडकोष में सूजन आने के कारण

अंडकोष में सूजन का घरेलू उपाय जानने से पहले यह अण्णा बहुत जरुरी है की अंडकोष में सूजन आने के कारण कया है? वृषण या अंडककोश में सूजन आने के कारण काफी सारे होते है, चलिए अब हम आपको अंडकोष में सूजन आने के कारणों के बारे में बताते है –

  • गलत तरीके से बैठने पर अंडकोष की नसों पर दबाव पद सकता है, नसों पर दबाव पड़ने की वजह से भी अंडकोष में सूजन आ सकती है|
  • अंडकोष की नसों में ब्लड सर्कुलेशन होता है अगर किसी कारणवश ब्लड सर्कुलेशन में रूकावट आने पर भी वृषण की नसों में सूजन आ जाती है|
  • अंडकोष की नसों में सूजन या अंडकोष में सूजन आने का कारण किसी प्रकार की चोट भी हो सकती है|

andkosh me sujan ke gharelu upay

अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय | अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा | andkosh me sujan ke gharelu upay

अंडकोष या वृषण में सूजन को दूर करने के लिए अधिकतर पुरुष घरेलु उपाए अपनाना ज्यादा पसंद करते है| चलिए अब हम आपको अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा या अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

अंडकोष में सूजन का घरेलू उपाय है काले तिल और अरंड के बीज (andkosh me sujan ke gharelu upay)

वृषण या संडकोष की नसों में सूजन आने पर इंसान काफी ज्यादा परेशान हो जाता है, यह ऐसी परेशानी है जिसके बारे में इंसान जल्दी से बताता नहीं है| अगर आप भी अंडकोष की नसों में सूजन और दर्द की परेशानी से पीड़ित है और आप अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा सर्च कर रहे है तो काले तिल और अरंड के बीज आपके लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकते है| सबसे पहले अरंड के बीजो को छील कर उनकी गिरी निकाल लें या अगर बाजार में अरंड के बीजो की गिरी मिलती हो तो गिरी लें लें|

लगभग 20 ग्राम काले तिल और 20 ग्राम अरंड के बीजो की गिरी लेकर दोनों को थोड़े से पानी के साथ महीन पीस कर पेस्ट बना लें, फिर अरंड के पत्तो पर काले तिल और अरंड के बीजो का महीन पीसा पेस्ट अच्छी तरह से लगाकर अंडकोष पर बाँध लें| नियमित रूप से इस घरेलू नुस्खे को करने से जल्द अंडकोष की नसों में सूजन और दर्द का इलाज हो जाता है|

अंडकोष में सूजन और दर्द का इलाज है तंबाकू के पत्ते (andkosh me sujan ke gharelu upay)

अंडकोष में सूजन की समस्या होने पर कुछ मामलो में दर्द की परेशानी भी होती है ऐसे में अंडकोष में सूजन और दर्द का इलाज तंबाकू के पत्तो से भी किया जा सकता है| सबसे पहले तंबाकू के पत्ते लेकर उन पर तिल का तेल लगा लें, फिर इन पत्तो को हल्का सा गर्म या सेंक लें, हल्के गर्म पत्तो को अंडकोष में बाँध लें| तंबाकू पत्ते और तिल के तेल मौजूद औषधीय गुण वृषण की नसों में सूजन और दर्द को कम करने में सहायक होते है, नियमित रूप से इस तिल का तेल लगे तंबाकू के पत्ते बांधने से जल्द अंडकोष में सूजन और दर्द से आराम मिलता है| इस घरेलू उपाय को आप अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा या अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय भी कह सकते है|

अंडकोष में सूजन का आयुर्वेदिक उपचार है सिरस की छाल (andkosh me sujan ke gharelu upay)

अंडकोष की सूजन का इलाज करने में सिरस की छाल भी काफी उपयोगी मानी जाती है, सिरस की छाल में मौजूद औषधीय गुण अंडकोष की नसों में सूजन और दर्द का इलाज करने में मददगार होते है| सिरस की छाल आपको पंसारी की दूकान पर आसानी से मिल जाती है, सबसे पहले थोड़ी सी सिरस की छाल लेकर उसे थोड़े से पानी के साथ महीन पीस कर लेप बना लें, फिर इस लेप को अंडकोष पर अच्छी तरह से लगाने से बहुत जल्द अंडकोष में सूजन और दर्द से आराम प्राप्त होता है, कुछ लोग सिरस की छाल को अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा या अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय के रूप में भी जानते है|

अंडकोष की सूजन को कम करने में लाभकारी है लाल टमाटर (andkosh me sujan ke gharelu upay)

शायद ही कोई इंसान हो जिसे टमाटर पसंद ना हो या शायद ही कोई घर हो जिसमे टमाटर का इस्तेमाल ना होता हो, टमाटर का इस्तेमाल सलाद से लेकर सब्जी तक हर चीज में किया जाता है| लेकिन कया आप जानते है की टमाटर अंडकोष में सूजन का इलाज करने में सहायक होते है टमाटर में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व वृषण में सूजन को कम करने में मददगार होते है|

एक या दो मध्यम आकर के लाल टमाटर लेकर उनके ऊपर थोड़ा सा सेंधा नमक और थोड़ा सा अदरक रख कर सेवन करें, नियमित रूप से इस तरह टमाटर खाने से जल्द अंडकोष में सूजन की समस्या से आराम मिलता है| टमाटर को आप अंडकोष में सूजन का देसी इलाज या अंडकोष में सूजन की देसी दवा भी कह सकते है| लेकिन अगर आपको पथरी या कोई ऐसी परेशानी है जिसमे टमाटर नुक्सान पहुँचाता है तो टमाटर का सेवन नहीं करना चाहिए|

अंडकोष में सूजन का घरेलू इलाज है भांग (andkosh me sujan ke gharelu upay)

अधिकतर इंसान भांग को केवल नशे के रूप में ही जानते है लेकिन काफी कम इंसान जानते है की भांग भी कई साड़ी परेशानियो को दूर करने में सहायक होती है| अगर आप अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा या अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय सर्च कर रहे है तो भांग आपके लिए लाभकारी हो सकती है| सबसे पहले थोड़े से पानी में भांग को अच्छी तरह से मिलकर भिगो कर रख दें, फिर कुछ समय बाद भांग मिले पानी से अंडकोष को अच्छी तरह से धो लें, नियमित रूप से दिन में दो बार इस उपाय को करने से जल्द लाभ मिलता है, अंडकोष में सूजन और दर्द को जल्दी कम करने के लिए यह नुस्खा वैध या चिकित्सक की सलाह से करें|

अंडकोष में सूजन का देसी इलाज है अदरक (andkosh me sujan ke gharelu upay)

अदरक हमारे शरीर के लिए लाभकारी होने के साथ साथ कई सारी परेशानियो को दूर करने में भी फायदेमंद होता है, अदरक का इस्तेमाल सबसे ज्यादा सर्दियों के मौसम में किया जाता है| अदरक में मौजूद औषधीय गुण अंडकोष की सूजन को करने में फायदेमंद साबित होते है, सबसे पहले अदरक को छील कर उसे महीन पीस लें फिर इस पीसे हुए अदरक के पेस्ट को छान लें| छने हुए रस में से लगभग पांच ग्राम अदरक का रस लेकर उसमे थोड़ा सा शहद डालकर अच्छी तरह से मिलकर सेवन करने से जल्द सूजन से लाभ प्राप्त होता है| अदरक को आप अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा या अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय भी कह सकते है|

वृषण की नसों में सूजन और दर्द की दवा है दशमूल (andkosh me sujan ke gharelu upay)

अंडकोष की नसों में सूजन का इलाज करने में दशमूल भी काफी लाभकारी होती है, दशमूल में मौजूद औषधीय गुण नसों में सूजन का इलाज करने में मददगार साबित होते है| अंडकोष की नसों में सूजन की दवा बनाने के लिए सबसे पहले दशमूल का काढ़ा बना लें, फिर इस काढ़े में थोड़ा सा अरंड का तेल मिलाकर सुबह सुबह सेवन करने से जल्द सूजन से आराम मिलता है|

अंडकोष में सूजन को दूर करने में लाभकारी है कचूर (andkosh me sujan ke gharelu upay)

अंडकोष में सूजन आने कारण काफी सारे होते है, अंडकोष में सूजन के कारण के बारे में हमने आपको ऊपर जानकारी दी है| अगर अंडकोष में सूजन सर्दी के मौसम की वजह से हो रही है तो ऐसी सूजन को कम करने में कचूर काफी ज्यादा लाभकारी होती है, कचूर में मौजूद औषधीय गुण और पोषक तत्व सूजन को कम करने में फायदेमंद होते है, सबसे पहले कचूर का चूर्ण लेकर थोड़े से पानी के साथ लेप बना लें, लेप बहुत ज्यादा पतला ना बनाए|

फिर इस लेप को अंडकोष की अच्छी तरह से लगा लें, नियमित रूप से कचूर के चूर्ण का लेप करने से बहुत जल्द अंडकोष में सूजन से आराम मिलता है| कचूर को अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा या अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय के रूप में भी जाना जाता है|

अंडकोष में सूजन को कम करने की घरेलू दवा है आम के पत्ते (andkosh me sujan ke gharelu upay)

आम के पत्ते आपको आसानी से कही भी मिल जाएंगे क्योंकि लगभग सभी जगहों पर आम के पेड़ आसानी से मिल जाते है| लेकिन काफी कम इंसान जानते है की आम के पत्ते भी अंडकोष में सूजन का इलाज करने में सहायक होते है, आम के पत्तो में मौजूद गुण सूजन को कम करने में सहायक होते है| अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा बनाने के लिए सबसे पहले आपको आम के ताजे और कोमल पत्तो की जरुरत है|

आम के कोमल पत्ते लेकर उन्हें अच्छी तरह से धो लें, फिर इन पत्तो को बहुत थोड़े से पानी की मदद से महीन पेस्ट बना लें, अब इस पेस्ट में थोड़ा सा सेंधा नमक डालकर अच्छी तरह से मिला लें| अंडकोष में सूजन की घरेलू दवा बनकर तैयार है इस पेस्ट को हल्का सा गर्म कर लें, गुनगुने को पेस्ट को अंडकोष पर अच्छी तरह से लगा लें| नियमित रूप से इस घरेलू नुस्खे को करने से जल्द सूजन की समस्या से आराम प्राप्त होता है|

अंडकोष में सूजन का रामबाण इलाज है इन्द्रायण (andkosh ki naso me sujan ka gharelu ilaj)

प्राचीन समय से इन्द्रायण को जड़ी बूटी के रूप में जाना जाता है, इन्द्रायण की जड़ो में मौजूद औषधीय गुण अंडकोष की नसों में सूजन का इलाज करने में मददगार साबित होते है| अगर आप अंडकोष में सूजन की समस्या से पीड़ित है और आप अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा ढूंढ रहे है तो इन्द्रायण आपके लिए लाभकारी साबित हो सकती है|

सबसे पहले इन्द्रायण की जड़ को कूट कूट कर महीन पीस लें, फिर इस पीसी हुई इन्द्रायण की जड़ को कपड़ें की मदद से छान लें, छने हुए चूर्ण में थोड़ा सा अरंड का तेल अच्छी तरह से मिलाकर लेप बना लें फिर इस लेप को अंडकोष पर अच्छी तरह से लगा लें, रोजाना इन्द्रायण की जड़ का लेप लगाने से जल्द सूजन की समस्या समाप्त हो जाती है|

अंडकोष में सूजन को कम करने का घरेलू उपाय है बैंगन की जड़ (andkosh ki naso me sujan ka gharelu ilaj)

बैंगन की सब्जी का सेवन लगभग सभी इंसान करते है, लेकिन काफी सारे इंसान बैंगन के गुणों से अनजान होते है| कया आप जानते है की बैंगन के पेड़ की जड़ से अंडकोष की सूजन और अंडकोष बढ़ने की समस्या को समाप्त किया जा सकता है| बैंगन की जड़ में मौजूद औषधीय गुण अंडकोष बढ़ने का इलाज या सूजन को कम करने में मददगार साबित होते है| सबसे पहले बैंगन की जड़ लेकर उसे अच्छी तरह से धो लें, फिर इस जड़ को थोड़े से पानी के साथ पीस कर लेप बना लें, फिर इस लेप को अंडकोष पर अच्छी तरह से लगा लें, रोजाना बैंगन की जड़ का लेप करने से कुछ दिनों में ही अंडकोष बढ़ने या सूजन की समस्या समाप्त हो जाती है| बैंगन की जड़ को अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा भी कहा जाता है|

अंडकोष बढ़ने की आयुर्वेदिक दवा है पलाश की छाल (andkosh ki naso me sujan ka gharelu ilaj)

अगर आपके अंडकोष का आकार बड़ गया है और आप अपनी इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए कोई अंडकोष बढ़ने से रोकने का इलाज ढूंढ रहे है तो पलाश की छाल आपके लिए लाभकारी साबित हो सकती है| पलाश की छाल में मौजूद औषधीय गुण अंडकोष बढ़ने का इलाज करने में मददगार साबित होते है, नियमित रूप से पलाश की छाल के चूर्ण का सेवन पानी के साथ करने से जल्द लाभ मिलता है| आपके हिसाब से कितनी मात्रा में चूर्ण खाना लाभकारी होगा इसके बारे में वैध या चिकित्सक से परामर्श लें|

अंडवृद्धि या अंडकोष बढ़ने का देसी इलाज है गुड़मार के पत्ते (andkosh ki naso me sujan ka gharelu ilaj)

अंडकोष बढ़ने के काफी सारे कारण हो सकते है, सबसे पहले इंसान को अंडकोष बढ़ने का राण जानना चाहिए, अगर आपको अंडकोष बढ़ने का कारण पता होता है तो इलाज करने में आसानी होती है| अंडकोष बढ़ने का इलाज करने में गुड़मार के पत्ते भी काफी लाभकारी होते है सबसे पहले थोड़े से गुड़मार के पत्तो के लेकर अच्छी तरह से धो लें, फिर उन्हें महीन पीसकर छान लें| अब छने हुए रस में से लगभग दो ग्राम रस लेकर उसमे थोड़ा सा शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर सेवन कर लें, नियमित रूप से इस उपाय को करने कुछ दिनों में ही अंडकोष बढ़ने की समस्या समाप्त हो जाती है|

अंडकोष में सूजन का देसी इलाज है जीरा (andkosh ki naso me sujan ka gharelu ilaj)

जीरे का इस्तेमाल सभी घरो में किया जाता है और अगर आपके घर में जीरा नहीं है तो आपको आसानी से किसी भी परचून की दूकान पर जीरा मिल जाता है| दस ग्राम जीरा और दस ग्राम काली मिर्च लेकर दोनों को अच्छी तरह से कूट लें फिर लगभग दो गिलास पानी को गर्म होने के लिए रख दें| फिर इस पानी में कुटी हुई काली मिर्च और जीरा डालकर पानी को उबलने दें, जब पानी अच्छी तरह से उबाल जाएं तो गैस को बंद कर दें फिर इस पानी को छान लें| छने हुए पानी से अच्छी तरह से अंडकोष को धो लें, नियमित रूप से इस घरेलू नुस्खे को करने से जल्द सूजन से आराम मिलता है| इस नुस्खे को अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा भी कहा जाता है|

अंडकोष में सूजन का घरेलू उपाय है सोंठ और बिनौले (andkosh ki naso me sujan ka gharelu ilaj)

हालाँकि बिनौले के बारे में आज की पीढ़ी शायद ही जानती हो लेकिन घर में किसी भी बड़े से आप बिनौले के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है| बिनौले और सोंठ को बराबर मात्रा में लेकर दोनों को थोड़े से पानी के साथ पीस कर लेप बना लें, फिर इस लेप को अंडकोष पर अच्छी तरह से लगा लें, नियमित रूप से इस नुस्खे को करने से जल्द सूजन की समस्या से आराम मिलता है| बिनौले और सोंठ के औषधीय गुणों की वजह से इस उपाय को अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा के रूप में भी जाना जाता है|

निष्कर्ष – हम आशा करते है की आपको हमारा लेख अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा पसंद आया होगा, लेकिन हम आपको सलाह देंगे की अंडकोष में सूजन की परेशानी होने पर लापरवाही बिलकुल ना करें तुरंत किसी चिकित्सक से परामर्श और इलाज करें| अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद नहीं आई है तो आप गूगल या बिंग पर अंडकोष में सूजन के घरेलू उपाय (andkosh me sujan ke gharelu upay) या अंडकोष में सूजन की आयुर्वेदिक दवा लिखकर सर्च कर सकते है|

error: Content is protected by DCMA !!
टाइफाइड के लक्षण (typhoid symptoms in hindi) jaldi mote hone ki 5 best homeopathic dawa